भारत

उत्तर प्रदेश: बुलंदशहर में ज़हरीली शराब पीने से पांच की मौत, 16 लोग बीमार

उत्तर प्रदेश के बुलंदशहर ज़िले के सिकंदराबाद क्षेत्र का मामला है. मुख्य आरोपी को पुलिस ने गिरफ़्तार कर लिया है. मामले में सिकंदराबाद के थाना प्रभारी, चौकी प्रभारी और दो सिपाहियों और आबकारी निरीक्षक, प्रधान आबकारी सिपाही तथा दो अन्‍य आबकारी सिपाहियों को निलंबित कर दिया गया है.

(फोटो साभार: एएनआई)

(फोटो साभार: एएनआई)

बुलंदशहर/लखनऊ: उत्तर प्रदेश के बुलंदशहर जिले के सिकंदराबाद थानाक्षेत्र के गांव जीतगढ़ी में कथित तौर पर जहरीली शराब पीने से पांच व्यक्तियों की मौत हो गई और 16 लोग बीमार हो गए जिनका इलाज विभिन्न अस्पतालों में चल रहा है. एक वरिष्ठ अधिकारी ने यह जानकारी दी.

इस मामले में थाना प्रभारी समेत चार पुलिसकर्मियों को निलंबित कर दिया गया है. इसके अलावा आबकारी विभाग के निरीक्षक और तीन सिपाहियों को निलंबित करते हुए कई वरिष्‍ठ अधिकारियों के खिलाफ भी कार्रवाई की गई है.

बुलंदशहर के जिलाधिकारी रवींद्र कुमार ने बताया कि कुछ लोगों ने गांव के ही कुलदीप नामक व्यक्ति से शराब खरीदी थी और इसे पीने के बाद यह घटना हुई.

जिलाधिकारी ने बताया कि शवों को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया है तथा बीमार व्यक्तियों को जिला अस्पताल व निजी नर्सिंग होम में उपचार के लिए भर्ती कराया गया है.

जिलाधिकारी ने बताया इस मामले की जांच के लिए तीन सदस्यीय टीम का गठन किया गया है जिसमें अपर जिलाधिकारी, अपर पुलिस अधीक्षक (अपराध) तथा उपायुक्त आबकारी को शामिल किया गया है.

ये टीम अपनी रिपोर्ट 48 घंटे में सौंपेगी. उन्होंने बताया कि इस प्रकरण में जो भी दोषी पाया जाएगा उसके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी.

अमर उजाला के मुताबिक,  ग्रामीणों का आरोप है कि कई बार आरोपी की शिकायत करने के बाद भी पुलिस ने उसके खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की.

जिलाधिकारी ने मृतकों के परिजनों के ढांढ़स बधाते हुए जिला प्रशासन एवं राज्य सरकार द्वारा हर संभव मदद दिलाये जाने का आश्वसन दिया. उन्होंने साथ ही आरोपी कुलदीप व अन्य दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई किए जाने की बात भी कही.

वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक संतोष कुमार सिंह ने बताया कि जहरीली शराब पीने से पांच लोगों की मौत हो गई और 16 लोग बीमार हो गए हैं. उन्होंने बताया इस घटना के मुख्य आरोपी कुलदीप को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है.

वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक (एसएसपी) ने सिकंदराबाद के थाना प्रभारी, चौकी प्रभारी व दो सिपाहियों को तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया है.

एसएसपी ने इससे पहले बताया था कि पुलिस ने आरोपी कुलदीप के तीन परिजनों को पूछताछ के लिए हिरासत में लिया है. उन्होंने कहा कि दोषियों के लिखाफ राष्ट्रीय सुरक्षा कानून (रासुका) के तहत भी कार्रवाई की जा सकती है.

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने घटना पर दुख व्यक्त करते हुए दोषियों के खिलाफ कठोरतम कार्रवाई के निर्देश दिए हैं.

अपर मुख्‍य सचिव आबकारी संजय आर. भूसरेड्डी ने शुक्रवार को बताया कि बुलंदशहर की घटना को गंभीरता से लेते हुए शासन ने सिकंदराबाद क्षेत्र में तैनात आबकारी निरीक्षक प्रभात वर्धन, प्रधान आबकारी सिपाही राम बाबू तथा दो अन्‍य आबकारी सिपाहियों- श्रीकांत सोम एवं सलीम अहमद को कर्तव्‍य पालन में प्रथम दृष्‍टतया दोषी पाते हुए निलंबित करके विभागीय कार्यवाही के निर्देश दिए गए हैं.

अपर मुख्‍य सचिव के अनुसार, इस मामले में सयुक्‍त आबकारी आयुक्‍त, मेरठ जोन राजेश मणि त्रिपाठी एवं उप आबकारी आयुक्‍त मेरठ, सुरेश चंद्र पटेल तथा जिला आबकारी अधिकारी बुलंदशहर संजय कुमार त्रिपाठी के विरूद्ध पर्यवेक्षण में शिथिलता बरतने के आरोप में तत्‍काल प्रभाव से विभागीय कार्यवाही के आदेश देते हुए इन्‍हें आबकारी आयुक्‍त कार्यालय से संबद्ध कर दिया गया है.

बता दें कि मई 2019 में उत्तर प्रदेश के बाराबंकी जिले के रामनगर क्षेत्र में जहरीली शराब पीने से कम से कम 12 लोगों की मौत हो गई थी तथा 39 अन्य बीमार हो गए थे.

इससे पहले उसी साल फरवरी महीने में देसी शराब के सेवन से उत्तर प्रदेश और पड़ोसी राज्य उत्तराखंड में 108 लोगों की मौत हो गई थी. इसमें 73 लोग उत्तर प्रदेश के थे. इन 73 में से 62 लोग प्रदेश के सहारनपुर और मेरठ जिलों से थे. इस घटना में उत्तराखंड के 35 लोग मारे गए थे.

(समाचार एजेंसी भाषा से इनपुट के साथ)