भारत

महाराष्ट्र: कोविड-19 टीकाकरण के बाद सात लोग अस्पताल में भर्ती

अमरावती मंडल के अकोला और बुलढाना ज़िलों में कोविशील्ड टीका लगवाने के एक दिन बाद सात व्यक्तियों को मांसपेशियों में दर्द और बुखार की शिकायत पर अस्पताल में भर्ती किया गया है. अमरावती के मंडलायुक्त पीयूष सिंह का कहना है कि वे सभी ठीक हैं और उन्हें जल्द अस्पताल से छुट्टी दे दी जाएगी.

(प्रतीकात्मक फोटो: पीटीआई)

(प्रतीकात्मक फोटो: पीटीआई)

अमरावती/नागपुर: महाराष्ट्र में अकोला और बुलढाना जिलों में कोविशील्ड टीका लगवाने के एक दिन बाद रविवार को सात व्यक्तियों को मांसपेशियों में दर्द और बुखार की शिकायत पर अस्पताल में भर्ती किया गया है.

अमरावती के मंडलायुक्त पीयूष सिंह ने कहा कि वे सभी ठीक हैं और उन्हें कल अस्पतालों से छुट्टी दे दी जाएगी.

सिंह ने बताया कि कोविशिल्ड टीका लगवाने वाले तीन-तीन व्यक्तियों को अकोला के सरकारी मेडिकल कॉलेज और बुलढाना के जिला सामान्य अस्पताल में भर्ती कराया गया है, जबकि एक व्यक्ति को बुलढाना जिले के देउलगांव राजा में भर्ती कराया गया है.

उन्होंने बताया कि अमरावती मंडल में कोविशील्ड टीका लगवाने वाले चंद लोगों ने हाथ-पैरों में दर्द और बुखार की शिकायत की है.

अमरावती के सिविल सर्जन डॉ. श्यामसुंदर निकम ने बताया कि टीका लगवाने वाला कोई भी व्यक्ति गंभीर नहीं है और जिले में किसी को भी अस्पताल में भर्ती नहीं किया गया है.

समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक डॉ. निकम ने बताया कि शनिवार को महाराष्ट्र में कोवैक्सिन का टीका केवल छह केंद्रों पर दिया गया था. जिनमें विदर्भ तथा अमरावती के जिला अस्पतालों में और नागपुर में सरकारी मेडिकल कॉलेज एवं अस्पताल में दिए गए थे.

उन्होंने बताया कि अमरावती के जिला अस्पताल में 100 लोगों को शनिवार को कोवैक्सीन टीका लगाया गया था. उन्होंने कहा, ‘मुझ सहित किसी में भी कोई दुष्प्रभाव नहीं दिखा.’

पीयूष सिंह ने बताया कि यवतमाल जिले के वानी और पंढरकवाडा में टीका लगवाने वाले 25 लोगों को बुखार आया और उन्हें सर्दी लगने लगी, शरीर में दर्द होने लगा तथा मांसपेशियों में तकलीफ हुई. उन्होंने बताया कि वे सभी घर पर हैं.

सिंह ने बताया कि अकोला में टीका लगवाने वाले 18 लोगों ने मांसपेशियों में दर्द की शिकायत की और उनमें से तीन को तेज़ बुखार तथा सिरदर्द के कारण जीएमसीएच में भर्ती किया गया है.

अमरावती में 20 लोगों को टीका लगवाने के बाद हल्का बुखार आया और मांसपेशियों में दर्द हुआ तथा उनका ओपीडी में इलाज किया गया.

इस बीच, नागपुर मंडल के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि मंडल में शनिवार को टीकाकरण के बाद मामूली प्रतिकूल प्रभाव के चंद मामले आए और सभी ठीक हैं.

बता दें कि कोविड-19 का टीका कोविशील्ड को ऑक्सफोर्ड द्वारा विकसित किया है. कोविड-19 के टीकाकरण अभियान के पहले दिन दिल्ली में 52 और महाराष्ट्र में 14 लोगों पर साइड इफेक्ट के मामले सामने आए थे.

वहीं, देश में दो दिन में 2.24 लाख लोगों को टीका लगाया गया, उनमें प्रतिकूल प्रभाव के 447 मामले सामने आए.

केंद्र सरकार ने बताया कि  देश में 2,07,229 लाभार्थियों को कोविड-19 के टीके लगाए गए.  इस दौरान प्रतिकूल प्रभाव के सिर्फ 447 मामले सामने आए. जिनमें से केवल तीन व्यक्तियों को अस्पताल में भर्ती कराने की जरूरत पड़ी.

केंद्र ने कहा कि प्रतिकूल प्रभाव सामने आने के बाद अस्पताल में भर्ती कराए गए तीन व्यक्तियों में से दो को उत्तर रेलवे अस्पताल और दिल्ली के एम्स से छुट्टी दे दी गई है और एक एम्स, ऋषिकेश में निगरानी में है और उसकी स्थिति ठीक है.

(समाचार एजेंसी भाषा से इनपुट के साथ)