कोविड-19

कांग्रेस ने ‘फ़र्ज़ी टूलकिट’ को लेकर नड्डा समेत कई भाजपा नेताओं के ख़िलाफ़ शिकायत दर्ज कराई

भाजपा ने कांग्रेस पर कोरोना महामारी के दौरान देशवासियों में भ्रम फैलाने और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की छवि को धूमिल करने का आरोप लगाते हुए कहा है कि इस संकट काल में विपक्षी दल की ‘गिद्धों की राजनीति’ उजागर हुई है. वहीं कांग्रेस ने भाजपा पर कोरोना महामारी के समय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की छवि बचाने एवं लोगों का ध्यान भटकाने के लिए ‘फ़र्ज़ी टूलकिट’ तैयार करने का आरोप लगाया है.

जेपी नड्डा, संबित पात्रा, स्मृति ईरानी. (फोटो: पीटीआई)

जेपी नड्डा, संबित पात्रा, स्मृति ईरानी. (फोटो: पीटीआई)

नई दिल्ली: कोविड-19 की दूसरी लहर से देश में स्वास्थ्य व्यवस्था की बदहाल हालत उजागर होने के बीच बीते मंगलवार को भाजपा और कांग्रेस एक टूलकिट को लेकर आपस में भिड़ गए.

भाजपा ने बीते मंगलवार को कांग्रेस पर कोरोना महामारी के दौरान देशवासियों में भ्रम फैलाने और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की छवि को धूमिल करने का आरोप लगाया और कहा कि इस संकट काल में विपक्षी दल की ‘गिद्धों की राजनीति’ उजागर हुई है.

एक ‘कोविड-19 टूलकिट’ का हवाला देते हुए भाजपा प्रवक्ता संबित पात्रा ने आरोप लगाया कि कोरोना के समय जब पूरा देश महामारी से लड़ रहा है तो कांग्रेस ने अपने राजनीतिक स्वार्थ के लिए भारत को पूरे विश्व में ‘अपमानित और बदनाम’ करने की कोशिश की है.

इसी तरह के आरोप भाजपा नेता जेपी नड्डा, स्मृति ईरानी और बीएल संतोष ने भी कांग्रेस पर लगाए हैं.

टूलकिट एक प्रकार का दस्तावेज होता है, जिसमें अपने अभियान को आगे बढ़ाने के लिए बिंदुवार मुद्दे होते हैं. अभियान को धार देने के लिए इन्हीं मुद्दों पर विरोधियों को घेरने के लिए प्रचार-प्रसार किया जाता है.

किसान आंदोलन के दौरान भी एक टूलकिट सामने आया था, जिसकी काफी चर्चा भी हुई थी.

इसके बाद कांग्रेस ने भाजपा पर कोरोना महामारी के समय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की छवि बचाने एवं लोगों का ध्यान भटकाने के लिए ‘फर्जी टूलकिट’ तैयार करने का आरोप लगाया और सत्तारूढ़ पार्टी के अध्यक्ष जेपी नड्डा, उसके वरिष्ठ नेताओं- बीएल संतोष, स्मृति ईरानी, संबित पात्रा तथा कई अन्य के खिलाफ दिल्ली पुलिस में ‘जालसाजी’ की शिकायत दर्ज कराई है.

विपक्षी पार्टी ने यह भी कहा कि वह प्रमुख सोशल मीडिया मंचों के प्रबंधकों को पत्र लिखकर ‘झूठ फैलाने’ वाले इन वरिष्ठ भाजपा नेताओं के सोशल मीडिया अकाउंट बंद करने का आग्रह भी करेगी.

कांग्रेस के मुताबिक, नई दिल्ली के तुगलक रोड थाने में पार्टी के शोध विभाग के प्रमुख राजीव गौड़ा और सोशल मीडिया विभाग के प्रमुख रोहन गुप्ता की तरफ से शिकायत दर्ज कराई गई. पार्टी ने इस शिकायत में मांग की है कि ‘जालसाजी’ और ‘झूठ फैलाने’ के लिए भाजपा के इन वरिष्ठ नेताओं के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की जाए तथा उनकी गिरफ्तारी भी की जाए.

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने इस ‘टूलकिट’ को फर्जी करार देते हुए कहा कि सत्तापक्ष को ‘झूठ फैलाना’ बंद कर लोगों का जीवन बचाने का प्रयास करना चाहिए.

उन्होंने ट्वीट किया, ‘अपना समय झूठ फैलाने में बर्बाद मत करिए. जागिए और लोगों का जीवन बचाना शुरू करिए.’

कांग्रेस प्रवक्ता पवन खेड़ा ने भाजपा के आरोपों पर संवाददाताओं से बातचीत में दावा किया, ‘भाजपा ने फर्जी टूलकिट तैयार किया है, ताकि एक बौने नेता की गढ़ी हुई छवि को बचाया जा सके, जबकि पूरा देश इनकी हकीकत जान चुका है. अब हर भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का असली चेहरा देख चुका है.’

उन्होंने कहा, ‘जो भी सरकार से सवाल करता है, उसका चरित्र हनन करने का प्रयास किया जाता है. कांग्रेस इस तरह के हथकंडों से डरने वाली नहीं है. हम जनता की आवाज उठाते रहेंगे और सरकार से कठिन प्रश्न पूछते रहेंगे.’

कांग्रेस के सोशल मीडिया विभाग के प्रमुख रोहन गुप्ता ने कहा कि भाजपा के वरिष्ठ नेताओं को ‘झूठ फैलाने’ के लिए सोशल मीडिया मंचों से हटाया जाना चाहिए तथा जल्द ही पार्टी की तरफ से सोशल मीडिया कंपनियों के प्रबंधकों को इस बारे में पत्र लिखा जाएगा.

कांग्रेस नेता और वकील अमन पंवार ने कहा कि अगर दिल्ली पुलिस इस शिकायत के आधार पर प्राथमिकी दर्ज नहीं करती है तो फिर पार्टी की तरफ से अदालत का भी रुख किया जा सकता है.

कांग्रेस प्रवक्ता राजीव गौड़ा ने दावा किया, ‘हमारा देश कोविड की तबाही का सामना कर रहा है, ऐसे समय लोगों को राहत प्रदान करने की बजाय भाजपा बेशर्मी के साथ फर्जीवाड़ा कर रही है.’

भाजपा नेताओं का क्या कहना है

कथित टूलकिट मामले में कांग्रेस पर हमला करते हुए भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा ने कहा कि समाज को बांटने, अन्य के खिलाफ ‘जहर उगलने’ में कांग्रेस को महारत हासिल है.

उन्होंने ट्वीट कर कहा, ‘जब देश कोविड-19 के विरूद्ध लड़ाई लड़ रहा है तो भारत कांग्रेस के इस रवैये को भी देख रहा है. मैं कांग्रेस से आग्रह करूंगा कि वह टूलकिट मॉडल से आगे निकले और कुछ रचनात्मक करे.’

केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने भी ट्वीट कर कांग्रेस और राहुल गांधी पर निशाना साधा.

उन्होंने कहा, ‘देश कोरोना के विरूद्ध जंग लड़ रहा है. मैं समझा सकती हूं कि विपक्ष सरकार पर हमला करना चाहेगा, लेकिन वह इस स्तर तक जाएगी और इसके लिए राजनीति अवसरवाद का व्यवसायीकरण और मौत का व्यापार करेगी, कभी सोचा नहीं था.’

इस कथित ‘टूलकिट’ का हवाला देते हुए भाजपा प्रवक्ता संबित पात्रा ने दावा किया कि कांग्रेस ने महामारी के समय ऐसे ही ‘टूलकिट’ के जरिये सरकार के घेरने के लिए विभिन्न माध्यमों से देश में भ्रम की स्थिति पैदा कर राजनीतिक लाभ लेने की कोशिश की.

उन्होंने आरोप लगाया, ‘राहुल गांधी (पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष) ने महामारी को प्रधानमंत्री मोदी की छवि धूमिल करने के मौके के रूप में इस्तेमाल किया. कांग्रेस कार्यकर्ताओं को कोरोना के नए स्ट्रेन को मोदी स्ट्रेन का नाम देने का निर्देश दिया. विदेश पत्रकारों की मदद से भारत को बदनाम करने के लिए कोई कसर नहीं छोड़ी गई.’

पात्रा ने कहा कि कोरोना का जो नया स्ट्रेन आया है उसे विश्व स्वास्थ्य संगठन ने भी भारतीय स्ट्रेन कहने से मना कर दिया है, लेकिन कांग्रेस इसे ‘इंडियन स्ट्रेन’ और उससे भी आगे बढ़कर ‘मोदी स्ट्रेन’ के नाम से प्रसारित करने में लगी है.

उन्होंने आरोप लगाया, ‘यह बहुत ही दुखद है. कहीं न कहीं देश को पूरे विश्व में अपमानित और बदनाम करने के लिए एक वायरस को भारत के नाम, प्रधानमंत्री के नाम पर प्रतिपादित करने की चेष्टा है. मुझे लगता है यह कांग्रेस पार्टी के असली चेहरे को दर्शाता है.’

भाजपा प्रवक्ता ने कहा कि आज वह दस्तावेज उनके हाथ आया है जिसके सहारे राहुल गांधी रोज सुबह उठकर ट्वीट करते थे.

उन्होंने दावा किया, ‘इस टूलकिट में कहा गया है कि प्रधानमंत्री मोदी को बार-बार पत्र लिखें. आपने देखा होगा, कभी सोनिया जी चिट्ठी लिख रही हैं कभी कोई और लिख रहा है. ये सब ऐसे ही नहीं हो रहा है. सब कुछ एक डिजायन के तहत हो रहा है, जिसका ब्योरा इस टूलकिट में है.’

पात्रा ने दावा किया कि इस टूलकिट के जरिये पीएम केयर्स के वेटिलेटर पर सवाल उठाने और सेंट्रल विस्टा परियोजना को ‘मोदी के निजी घर और महल’ के रूप में प्रचारित करने का जिक्र किया गया है.

उन्होंने कहा, ‘वेंटिलेटर, टीकों कोविड प्रबंधन को लेकर जो नकारात्मक राजनीति आप फैलाते हैं, आज उसका स्रोत हमारे पास है. बहुत दुख के साथ हमें यह कहना पड़ रहा है कि यह जो कांग्रेस की गिद्धों की राजनीति है आज वह संपूर्ण रूप से उजागर हो गई है. हमें सोनिया जी से और राहुल जी से जवाब चाहिए.’

भाजपा नेताओं ने यह भी आरोप लगाया कि टूलकिट में ‘लापता अमित शाह’, ‘क्वारंटीन जयशंकर’, ‘साइडलाइन राजनाथ सिंह’ और ‘असंवेदनशील निर्मला सीतारमण’ जैसे शब्द इस्तेमाल करने के लिए कहा गया है.

भाजपा का आरोप, कांग्रेस की सौम्या वर्मा ने तैयार किए ‘टूलकिट’

वहीं भाजपा ने बुधवार को दावा किया कि इस कथित टूलकिट की रचनाकार कांग्रेस की कार्यकर्ता सौम्या वर्मा हैं, जो विपक्षी पार्टी के शोध विभाग के प्रमुख राजीव गौड़ा के कार्यालय से संबद्ध हैं.

भाजपा प्रवक्ता संबित पात्रा ने एक संवाददाता सम्मेलन में अपने दावे के पक्ष में सौम्या वर्मा के सोशल मीडिया अकाउंट्स का ब्योरा और पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी तथा गौड़ा के साथ उनकी कुछ तस्वीरें साझा कीं.

साथ ही उन्होंने टूलकिट के स्रोत से संबंधित एक दस्तावेज भी जारी किया और ट्वीट कर कहा, ‘कांग्रेस ने कल पूछा था कि टूलकिट किसने तैयार किया है? कृपया इस पेपर की सामग्री देखिए. इसे लिखा है सौम्या वर्मा ने. सबूत खुद बताते हैं कि यह सौम्या वर्मा कौन हैं. क्या सोनिया गांधी और राहुल गांधी जवाब देंगे?’

तमाम दावों के साथ पात्रा ने कहा, ‘हम जो सबूत आपके सामने रख रहे हैं वही, सब कुछ साबित करते हैं. एआईसीसी (अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी) के शोध विभाग का अहम हिस्सा ही नहीं, बल्कि मुख्य भूमिका में रहती हैं सौम्या वर्मा जी और मुझे बहुत दुख के साथ कहना पड़ रहा है.’

उन्होंने कहा, ‘इस टूलकिट को तैयार करने वाले का नाम आज सामने आया और सबूतों से देश के सामने यह स्थापित भी हो चुका है. क्या सौम्या वर्मा जी कांग्रेस की कार्यकर्ता हैं? क्या सौम्या वर्मा जी एआईसीसी के शोध विभाग में काम करती हैं? क्या सौम्या वर्मा जी राजीव गौड़ा के तहत काम करती हैं? क्या उन्होंने इस टूलकिट को तैयार नहीं किया है? कांग्रेस पार्टी इस पर जवाब दे.’

इससे पहले पात्रा ने दावा किया था कि इस टूलकिट के जरिये पीएम केयर्स के वेटिलेटर्स पर सवाल उठाने और सेंट्रल विस्टा परियोजना को ‘मोदी के निजी घर और महल’ के रूप में प्रचारित करने का जिक्र किया गया है.

उन्होंने कहा, ‘यहां तक कि कुंभ को सुप्रर स्प्रेडर (बड़े स्तर पर संक्रमण फैलाने का माध्यम) के रूप में प्रचारित करने की बात की गई है. ईद और कुंभ की तुलना कर धर्म को बदनाम करने की कोशिश कांग्रेस ने की है. आप कुंभ को बदनाम करिए और ईद के विषय में कुछ मत कहिए. इस प्रकार की सोच भी हो सकती है, क्या किसी की?.’

भाजपा नेता ने कहा, ‘वेंटिलेटर, टीकों कोविड प्रबंधन को लेकर जो नकारात्मक राजनीति आप फैलाते हैं, आज उसका स्रोत हमारे पास है. बहुत दुख के साथ हमें यह कहना पड़ रहा है कि यह जो कांग्रेस की गिद्धों की राजनीति है आज वह संपूर्ण रूप से उजागर हो गई है. हमें सोनिया जी से और राहुल जी से जवाब चाहिए.’

(समाचार एजेंसी भाषा से इनपुट के साथ)