कोविड-19

180 से अधिक बुद्धिजीवियों का विपक्षी दलों को पत्र, कहा- कोरोना से निपटने के लिए निर्णायक कदम उठाएं

दुनियाभर के 187 प्रख्यात शिक्षाविदों, कार्यकर्ताओं, पत्रकारों, लेखकों, फिल्मकारों ने विपक्षी दलों को पत्र लिखकर कहा है कि इस अप्रत्याशित संकट की घड़ी में अधिकतर राजनीतिक दल लोगों के हित में निष्पक्ष तरीके से काम करने को तैयार हैं. फिर भी भारत सरकार ने न तो इनके सुझावों का स्वागत किया है और न ही सभी दलों, राज्य सरकारों, विशेषज्ञों को साथ लेकर राष्ट्रीय टास्क फोर्स का गठन किया है.

(प्रतीकात्मक फोटो: रॉयटर्स)

(प्रतीकात्मक फोटो: रॉयटर्स)

नई दिल्लीः दुनियाभर के 187 प्रख्यात शिक्षाविदों, कार्यकर्ताओं, पत्रकारों, लेखकों, फिल्मकारों और पेशेवरों ने विपक्षी पार्टियों को एक पत्र लिखकर कोविड-19 महामारी से पैदा हुई स्थिति से निपटने के लिए निर्णायक कदम उठाने का आग्रह किया है.

भारत के विपक्षी राजनीतिक दलों को लिखे गए इस खुले पत्र में कहा गया है, ‘हम भारत के संबद्ध नागरिकों और शुभचिंतकों का एक समूह कोरोना महामारी से पैदा हुई स्थिति से निपटने के लिए प्रगतिशील विपक्षी पार्टियों द्वारा 12 मई 2021 को भारत सरकार को सुझाए गए निर्णायक उपायों की सरहाना करता है और उनका पूरी तरह से समर्थन करता है.’

पत्र में कहा गया है, ‘यह सर्वनाशकारी मानव त्रासदी दिए गए सुझावों पर सरकार द्वारा किसी भी तरह की कार्रवाई नहीं करने से बढ़ी है.’

पत्र में कहा गया कि यह सुखद है कि इस अप्रत्याशित संकट की घड़ी में अधिकतर राजनीतिक दल लोगों के हित में निष्पक्ष तरीके से काम करने को तैयार हैं. फिर भी केंद्र सरकार के साथ काम करने या सहयोग करने की पेशकश के बावजूद यह चौंकाने वाला है कि भारत सरकार ने न तो इन सुझावों का स्वागत किया है और न ही भारत के समक्ष खड़ी इस स्थिति से निपटने के लिए सभी दलों  राज्य सरकारों, विशेषज्ञों और नागरिक समाज सहित सभी को साथ लेकर राष्ट्रीय टास्क फोर्स का गठन किया है.

आगे कहा गया, ‘विपक्ष के सहयोग करने की पहल की भारत सरकार द्वारा अवहेलना करने से भारत के अनुभव और विशेषज्ञता को झटका लगा है. परिणामस्वरूप लाखों भारतीय बुनियादी स्वास्थ्य सेवाओं जैसे अस्पताल के वेंटिलेटर, ऑक्सीजन, आवश्यक दवाएं, एंबुलेंस जैसे बुनियादी स्वास्थ्य सेवाओं तक पहुंच बनाने से जूझ रहा है.’

पत्र में देश में कोरोना की दूसरी लहर के दौरान सड़कों पर मृतकों और नदियों में शवों के तैरने का उल्लेख करते हुए कहा गया कि इन घटनाओं की तस्वीरों ने दुनिया के मन को झकझोर दिया है.

उन्होंने कहा कि यह देखना सुखद है कि महामारी के बीच ज्यादातर पार्टियां लोगों के हित में दल की सीमा से परे जाकर काम करने को इच्छुक हैं.

पत्र में कहा गया, ‘यह स्थिति विशेष रूप से चौंकाने वाली है क्योंकि हम सभी को उम्मीद थी कि भारत सरकार इस संकट से दृढ़ता से निपटेगी. कोरोना से निपटने के लिए संसाधनों का विस्तार करने के बजाए ऐसा लगता है कि सरकार अपनी नैतिक और संवैधानिक जिम्मेदारियों से मुकर गया है. यह काफी दुखद है कि पिछले 70 सालों में सफल सामूहिक वैक्सीन अभियानों के इतिहास के बावजूद भारत सरकार ने अलग-अलग और अधिक दरों पर राज्य सरकारों से टीकों को आउटसोर्स किया.’

इसी तरह विशेषज्ञों की सलाह को बार-बार नजरअंदाज किया गया जबकि अस्पष्ट, अप्रमाणित तरीकों को प्रोत्साहित किया गया. बड़ी रैलियां और धार्मिक सभाएं आयोजित की गईं और ऑक्सीजन, वैक्सीन और बिस्तरों की उपलब्धता बढ़ाने की कोई तैयारी नहीं की गई.

पत्र में कहा गया, ‘सरकार ने नागरिकों पर अनावश्यक बोझ डाला, वह भी ऐसे समय पर जब स्वास्थ्य पर खर्च बढ़ गया. इसी तरह विदेशों से आ रही राहत सामग्री नौकरशाही देरी की वजह से अक्सर अटक जाती है, जबकि इन्हें तुरंत राज्यों को आवंटित किया जाना चाहिए. इसके साथ ही गैर कोविड संबंधी गतिविधियों में फंड का दुरुपोयग किया जा रहा है. सबसे अधिक परेशान करने वाली बात यह है कि इस अराजकता के बीच स्थिति की गंभीरता को छिपाने का प्रयास किया जा रहा है जबकि सरकारें पत्रकारों और नागरिकों को सच बोलने के लिए प्रताड़ित कर रही हैं. चौंकाने वाली बात है कि सेंट्रल विस्टा और प्रधानमंत्री के लिए नए आवास जैसी अनावश्यक परियोजनाओं पर अरबं डॉलर खर्च किए जा रहे हैं.एक भी दिन ऐसा नहीं जाता.’

इस पत्र पर हस्ताक्षर करने वालों में जेएनयू की प्रोफेसर एमिरेट्स रोमिला थापर, इतिहासकार इरफान हबीब, सेंटर फॉर इक्विटी स्टडीज के निदेशक हर्ष मंदर, नेहरू मेमोरियल लाइब्रेरी की निदेशक मृदुला मुखर्जी, विश्व बैंक के मुख्य अर्थशास्त्री कौशिक बासु, एमकेएसएस की संस्थापक अरुणा रॉय, इतिहासकार एवं जेएनयू के स्कूल ऑफ सोशल साइंसेज के पूर्व डीन आदित्य मुखर्जी, मैग्सेसे पुरस्कार से सम्मानित कार्यकर्ता बेजवाड़ा विल्सन, एमनेस्टी इंटरनेशनल के पूर्व महासचिव सलिल शेट्टी, विश्वविद्यालय अनुदान आयोग के पूर्व अध्यक्ष सुखदेव थोराट, यूपीएससी के पूर्व सदस्य पुरुषोत्तम अग्रवाल और जेएनयू, न्यूयॉर्क यूनिवर्सिटी, यूनिवर्सिटी ऑफ सियेना (इटली), यूनिवर्सिटी ऑफ साउ पाउलो, यूनिवर्सिटी ऑफ पेनसिल्वेनिया और प्रिंसटन यूनिवर्सिटी के कई शिक्षक शामिल हैं.

(इस पत्र को पूरा पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें.)