भारत

गुजरात: जुआ खेलने और शराब रखने के मामले में भाजपा विधायक गिरफ़्तार

खेड़ा ज़िले के मातर से भाजपा विधायक केसरी सिंह सोलंकी को पुलिस ने पावागढ़ क़स्बे के पास एक रिजॉर्ट में छापेमारी के दौरान पकड़ा. गिरफ़्तार किए गए पच्चीस लोगों में सात महिलाएं हैं. अधिकारियों ने बताया कि सोलंकी औरअन्य को जुआ खेलते हुए पाया गया. उनके पास शराब की बोतलें भी बरामद हुई हैं.

मातर से भाजपा विधायक केसरी सिंह सोलंकी. (फोटो सभार: फेसबुक/Kesarisinh Solanki MLA Matar)

मातर से भाजपा विधायक केसरी सिंह सोलंकी. (फोटो सभार: फेसबुक/Kesarisinh Solanki MLA Matar)

गोधरा: गुजरात में भाजपा विधायक केसरी सिंह सोलंकी और 25 अन्य को पंचमहल जिला पुलिस ने गुरुवार को जुआ खेलने और शराब रखने के आरोप में गिरफ्तार किया. सोलंकी राज्य के खेड़ा जिले के मातर विधानसभा क्षेत्र का प्रतिनिधित्व करते हैं.

स्थानीय अपराध शाखा के निरीक्षक राजदीप सिंह जडेजा ने बताया कि पंचमहल पुलिस ने जिले के पावागढ़ कस्बे के निकट एक रिजॉर्ट में गुरुवार रात छापेमारी की और विधायक को 25 अन्य लोगों के साथ पकड़ लिया.

अधिकारी ने कहा, ‘हमने सोलंकी और पच्चीस अन्य को जुआ खेलते हुए पाया. हमने उनके पास से शराब की बोतलें भी बरामद कीं. आगे की जांच जारी है.’

गौरतलब है कि गुजरात में शराब प्रतिबंधित है. पुलिस ने जानकारी दी है कि मामले में गिरफ्तार किए गए लोगों में 7 महिला और 18 पुरुष शामिल हैं. पुलिस ने उनके पास से 7 विदेशी शराब की बोतलें भी जब्त की हैं. पुलिस के मुताबिक, विधायक के रिजॉर्ट में सभी पार्टी कर रहे थे और जुआ खेल रहे थे.

न्यूज़ 18 के मुताबिक, पंचमहल एलसीबी को सूचना मिली थी कि पंचमहल जिले के हलोल के शिवराजपुर स्थित जिमीरा रिजॉर्ट में जुआ चल रहा है, जिसके आधार पर गुरुवार की देर शाम एलसीबी और पावागढ़ पुलिस ने रिसॉर्ट में छापेमारी की.

मौके पर विधायक को जुआ खेलते हुए पाया गया. वहीं छह बोतल विदेशी शराब भी बरामद हुई. मौके पर पुलिस ने एक कार सहित कुल आठ वाहन जब्त किए.

रिपोर्ट के मुताबिक, सोलंकी गुरुवार दोपहर शिवराजपुर के जिमीरा रिजॉर्ट पहुंचे. उनके साथ सात महिलाएं भी थीं, जिनमें से चार नेपाली थीं.

अमर उजाला के मुताबिक, विधायक केसरी सिंह सोलंकी जुलाई 2020 में एक बार चर्चा में आए थे, उस समय राज्यसभा सीटों पर चुनाव थे.

तब यह कयास लगाए जा रहे थे कि शायद वो क्रॉस वोटिंग में शामिल थे. उनके कांग्रेस प्रत्याशी के समर्थन में मतदान करने की बात कही गई थी. उसके बाद से ही केसरी सिंह सोलंकी के पार्टी नेतृत्व के साथ संबंध अच्छे नहीं है.

(समाचार एजेंसी भाषा से इनपुट के साथ)