कोविड-19

चीनः वुहान में फिर लौटा कोरोना, कई शहरों में बड़े पैमाने पर टेस्ट प्रक्रिया शुरू

चीन के वुहान शहर में दिसंबर 2019 में कोरोना वायरस का पहला मामला सामने आया था, जिसके बाद इस महामारी ने पूरे विश्व को अपनी चपेट में ले लिया.

(फोटो: रॉयटर्स)

बीजिंगः चीन के शहर वुहान में कोविड-19 महामारी को नियंत्रित करने के सालभर बाद एक बार फिर संक्रमण के मामले बढ़ने पर प्रशासन ने यहां की 1.1 करोड़ आबादी की कोरोना जांच के लिए मंगलवार को अभियान शुरू किया.

वुहान के वरिष्ठ अधिकारी ली ताओ ने मंगलवार को संवाददाता सम्मेलन में कहा, वुहान के सभी 1.1 करोड़ नागरिकों का न्यूक्लिक एसिड टेस्ट  कराया जाएगा.

वुहान के अधिकारियों ने सोमवार को ऐलान किया कि शहर में प्रवासी मजदूरों में कोराना के सात नए मामले सामने आए हैं. शहर में सालभर बाद एक बार फिर से कोरोना के मामले सामने आ रहे हैं.

उल्लेखनीय है कि चीन के वुहान शहर में ही साल 2019 के अंत में कोरोना का पहला मामला सामने आया था और यहीं से इस महामारी का प्रसार हुआ था.

इसके बाद चीन ने कोरोना पर काबू पाने के लिए वुहान में बेहद सख्त लॉकडाउन लगा दिया गया था. इसके साथ ही सभी घरेलू यातायात साधनों को पूरी तरह से बंद कर दिया था.

इसके बाद कई महीनों तक कोरोना वायरस की जांच और संक्रमण की रोकथाम का अभियान चलता रहा था.

चीन में मंगलवार को कोरोना वायरस के 61 नए मामले दर्ज हुआ. इसके साथ ही तेजी से फैलने वाला डेल्टा वेरिएंट भी कई शहरों तक पहुंच गया.

चीन के नानजिंग में हवाई अड्डों पर क्लीनर्स के संक्रमित होने पर देशभर में कोरोना के मामले बढ़ रहे हैं.

बीजिंग समेत चीन के कई बड़े शहरों में लाखों नागरिकों का कोरोना टेस्ट किया जा रहा है. इसके साथ ही इमारत परिसरों को सील किया जा रहा है और क्वारंटीन पर जोर दिया जा रहा है.

नानजिंग के पास पूर्वी शहर यांगझोऊ में भी बड़े पैमाने पर कोरोना जांच के अभियान के बाद 40 नए मामले सामने आए हैं. इसके बाद लोगों को घरों में ही रहने की हिदायत दी गई है.

यांगझोऊ में 1.3 करोड़ की आबादी है. यहां हर घर से सिर्फ एक ही व्यक्ति को एक दिन में घर से बाहर निकलने और सामान खरीदने की छूट दी गई है.

वहीं, चीन के हुनान प्रांत के शहर झांगजिएजि और झुझोऊ शहर में भी स्थानीय प्रशासन ने इसी तरह के आदेश जारी किए हैं. इन दोनों शहरों की आबादी 20 लाख से अधिक है.

चीन के सरकारी ग्लोबल टाइम्स की रिपोर्ट के मुताबिक, कोरोना के नए मामलों के मद्देनजर वुहान शहर ने महामारी से निपटने के लिए सख्त नियमों को अपनाया जा रहा है. संक्रमित इलाकों में लॉकडाउन लागू किया जा रहा और वहां खतरे का स्तर भी बढ़ाया जा रहा है. इसके साथ ही सभी स्कूलों को बंद कर दिया गया है.

वुहान के कोविड-19 की दूसरी लहर विशेष रूप से डेल्टा वेरिएंट से निपटने की तैयारी करने के बीच बीजिंग सहित कई शहरों और प्रांतों के करोड़ों लोगों की कोरोना जांच शुरू कर दी गई है.

चीन के राष्ट्रीय स्वास्थ्य आयोग ने मंगलवार को अपनी दैनिक रिपोर्ट में कहा कि स्थानीय स्तर पर कोरोना के 61 नये मामले दर्ज हुए हैं, जो बीजिंग, शंघाई और फुजियान के अलावा जियांग्सु, हुनान, हुबेई, हेनान, यूनान प्रांतों से हैं.

ये मामले विभिन्न देशों से यहां लौटे चीनी नागरिकों के मामलों के अतिरिक्त हैं.

चीन के दक्षिण हुनान प्रांत के पर्यटन स्थल झांगजियाजी के नगर निकाय अधिकारियों ने शहर से लोगों के बाहर जाने पर पाबंदी लगा दी है. वहां कई नये मामले सामने आए हैं जो चीन के 15 प्रांतों में फैल गए हैं.

बता दें कि चीन में अब तक कोरोना के कुल 93,193 मामले सामने आए हैं जिनमें 1,557 मरीज अब भी उपचाराधीन हैं, जबकि 4,636 मरीजों की मौत हो गई है.

चीन ने अब तक घरेलू स्तर पर निर्मित टीकों की 1.60 अरब खुराक लोगों को दिए जाने का दावा किया है. चीन के शीर्ष महामारी विज्ञानी झोंग नानशान ने दावा किया है कि चीनी टीके डेल्टा वेरिएंट के खिलाफ कारगर हैं.

बता दें कि चीन के वुहान शहर में दिसंबर 2019 में कोरोना वायरस का पहला मामला सामने आया था जिसके बाद इस महामारी ने पूरे विश्व को अपनी चपेट में ले लिया.

(समाचार एजेंसी भाषा से इनपुट के साथ)