भारत

ट्विटर ने अपने भारत प्रमुख का अमेरिका तबादला किया, गाजियाबाद मामले में दर्ज हुआ था केस

कंपनी ने ट्विटर के भारत प्रमुख मनीष माहेश्वरी के तबादले की कोई वजह नहीं बताई है. उन्होंने कहा है कि माहेश्वरी को अमेरिका में नई जिम्मेदारी दी गई है, वह नए बाजारों पर ध्यान देंगे.

मनीष माहेश्वरी. (फोटो: फेसबुक)

नई दिल्ली: ट्विटर ने अपने भारतीय कारोबार प्रमुख मनीष माहेश्वरी का अमेरिका ट्रांसफर कर दिया है. हालांकि कंपनी ने इसकी कोई वजह नहीं बताई है.

माहेश्वरी के खिलाफ उत्तर प्रदेश में एक कथित नफरत फैलाने वाले वीडियो से संबंधित जांच के सिलसिले में प्राथमिकी दर्ज है.

ट्विटर ने कहा है कि माहेश्वरी को अमेरिका में वरिष्ठ निदेशक (राजस्व रणनीति एवं परिचालन) का पद दिया गया है. अपनी नई भूमिका में वह नए बाजारों पर ध्यान देंगे.

ट्विटर के जापान और एशिया-प्रशांत क्षेत्र के उपाध्यक्ष यू सासामोतो ने एक ट्वीट के जरिये इस घटनाक्रम की जानकारी दी.

इस बारे में संपर्क करने पर ट्विटर ने इसकी पुष्टि की. कंपनी ने कहा कि माहेश्वरी सैन फ्रांसिस्को में नई भूमिका संभालने जा रहे हैं. हालांकि ट्विटर ने माहेश्वरी के भारत में उत्तराधिकारी के बारे में कोई ब्योरा नहीं दिया है.

ट्विटर में आने से पहले माहेश्वरी नेटवर्क18 डिजिटल के मुख्य कार्यपालक अधिकारी थे. वह फ्लिपकार्ट तथा पीएंडजी जैसे संगठनों में भी काम कर चुके हैं.

बता दें कि पिछले कुछ महीनों से भाजपा नेताओं के ट्वीट्स और उनके खातों पर की गई कार्रवाई के साथ-साथ इस साल मई में प्रभावी होने वाले नए आईटी नियमों के अनुपालन में देरी को लेकर ट्विटर की केंद्र सरकार से तनातनी चल रही है.

इसके अलावा उत्तर प्रदेश के गाजियाबाद में मुस्लिम बुजुर्ग के साथ मारपीट, उनकी दाढ़ी खींचने और उन्हें जय श्री राम कहने के लिए मजबूर करने से संबंधित एक वीडियो वायरल होने के मामले में जून महीने में मनीष माहेश्वरी के खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई थी.

हालांकि 23 जुलाई को कर्नाटक हाईकोर्ट ने माहेश्वरी को उत्तर प्रदेश पुलिस द्वारा जारी नोटिस को रद्द कर दिया था, जिसमें उन्हें जांच के तहत व्यक्तिगत तौर पर उपस्थित होने के लिए कहा गया था.

इस मामले में गाजियाबाद पुलिस ने 15 जून को ट्विटर इंक, ट्विटर कम्यूनिकेशंस इंडिया के अलावा द वायर, पत्रकार मोहम्मद जुबेर, राणा अयूब, लेखक सबा नकवी के अलावा कांग्रेस नेता सलमान निजामी, मश्कूर उस्मानी और शमा मोहम्मद पर भी मामला दर्ज किया था.

भारत में करीब 1.75 करोड़ यूजर्स वाला ट्विटर नए आईटी नियमों का अनुपालन नहीं करने को लेकर केंद्र सरकार के साथ विवाद में घिर गया था.

बाद में कंपनी ने आठ जुलाई को दिल्ली हाईकोर्ट को बताया था कि उसने अंतरिम मुख्य अनुपालन अधिकारी नियुक्त किया है, जो भारत का निवासी है. इसके अलावा कंपनी ने नए आईटी नियमों के तहत आठ सप्ताह में नियमित पदों को भरने की भी प्रतिबद्धता जताई थी.

अमेरिकी कंपनी ने विनय प्रकाश को भारत में अपना स्थानीय शिकायत अधिकारी नियुक्त किया था.

नए आईटी नियमों के तहत 50 लाख से अधिक यूजर्स वाली सोशल मीडिया कंपनियों को को तीन महत्वपूर्ण नियुक्तियां करने की जरूरत है, जिनमें मुख्य अनुपालन अधिकारी, नोडल अधिकारी और शिकायत अधिकारी की नियुक्ति करना आवश्यक है. ये तीनों ही अधिकारी भारत के निवासी होने चाहिए.

(समाचार एजेंसी भाषा से इनपुट के साथ)