भारत

गुजरात दंगों की जांच के लिए बनी एसआईटी के सदस्य रहे वाईसी मोदी होंगे एनआईए प्रमुख

30 अक्टूबर को मोदी राष्ट्रीय जांच एजेंसी के नए महानिदेशक का पद संभालेंगे, वह शरद कुमार की जगह लेंगे.

yc-modi ani

वाईसी मोदी. (फोटो साभार: एएनआई)

नई दिल्ली: वरिष्ठ आईपीएस अधिकारी वाईसी मोदी को सोमवार को राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) का प्रमुख नियुक्त किया गया. वाईसी मोदी, वर्ष 2002 के गुजरात दंगों की जांच के लिए उच्चतम न्यायालय द्वारा गठित विशेष जांच टीम (एसआईटी) का हिस्सा रह चुके हैं. संघीय जांच एजेंसी पर आतंकवाद और आंतक-वित्तपोषण से संबंधित मामलों की जांच का जिम्मा है.

कार्मिक एवं प्रशिक्षण विभाग (डीओपीटी) की ओर से जारी एक आदेश में कहा गया है कि केंद्रीय मंत्रिमंडल की नियुक्ति समिति (एसीसी) ने एनआईए के महानिदेशक के तौर पर मोदी की नियुक्ति को स्वीकृति दी है.

आदेश में कहा गया कि मोदी अपनी सेवानिवृत्ति यानि 31 मई, 2021 तक इस पद पर आसीन रहेंगे. एसीसी ने तत्काल प्रभाव से एनआईए में विशेष ड्यूटी अधिकारी (ओएसडी) के तौर पर भी मोदी की नियुक्ति को स्वीकृति दे दी है.

मोदी, 1984 बैच के असम-मेघालय कैडर के आईपीएस अधिकारी हैं और वह फिलहाल केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) में विशेष निदेशक हैं. आदेश के मुताबिक, वह शरद कुमार की जगह लेंगे जिनका कार्यकाल 30 अक्तूबर को पूरा हो रहा है.

जुलाई 2013 में एनआईए महानिदेशक नियुक्त किए गए कुमार का कार्यकाल दो बार बढ़ाया जा चुका है. पिछले साल अक्तूबर में उनका कार्यकाल एक साल के लिए बढ़ाया गया था ताकि वह कुछ जरूरी जांचों में एजेंसी की मदद कर सकें. इन जांचों में पठानकोट आतंकी हमला, कश्मीर में आंतकी घटनाएं, बर्दवान विस्फोट मामला और समझौता एक्सप्रेस विस्फोट मामला शामिल है.

रजनीकांत मिश्रा एसएसबी के महानिदेशक नियुक्त

भारतीय पुलिस सेवा (आईपीएस) के वरिष्ठ अधिकारी, रजनी कांत मिश्रा को सशस्त्र सीमा बल (एसएसबी) का महानिदेशक नियुक्त किया गया है.

डीओपीटी के आदेश में बताया गया है कि मिश्रा अपनी सेवानिवृत्ति की तिथि यानि 31 अगस्त, 2019 तक एसएसबी महानिदेशक का पद संभालेंगे.

मिश्रा 1984 बैच के उत्तर प्रदेश कैडर के आईपीएस अधिकारी हैं और वह वर्तमान में सीमा सुरक्षा बल बीएसएफ के अतिरिक्त महानिदेशक का पद संभाल रहे हैं.