दुनिया

ट्विटर ने नीति में बदलाव किया, सहमति के बिना निजी सामग्री पोस्ट करने पर लगाई रोक

ट्विटर के सह-संस्थापक जैक डोर्सी की जगह 37 वर्षीय पराग अग्रवाल के सीईओ बनने के एक दिन बाद कंपनी ने कहा कि ‘मीडिया और सूचना के दुरुपयोग को लेकर बढ़ती चिंताओं’ को ध्यान में रखते हुए ये क़दम उठाया गया है.

(फोटो: रॉयटर्स)

नई दिल्ली: ट्विटर ने अपनी निजी सूचना नीति को अपडेट किया है, जिसके अनुसार अब यूजर्स प्राइवेट लोगों की तस्वीरें और वीडियो उनकी अनुमति के बिना पोस्ट नहीं कर सकेंगे.

सह-संस्थापक जैक डोर्सी की जगह 37 वर्षीय पराग अग्रवाल को नया सीईओ बनाए जाने के एक दिन बाद कंपनी ने यह कदम उठाया है.

कंपनी ने एक ब्लॉग पोस्ट में कहा, ‘गोपनीयता और सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए हम अपनी मौजूदा निजी सूचना नीति को अपडेट कर रहे हैं और इसमें ‘निजी मीडिया’ को शामिल करने के लिए इसके दायरे का विस्तार कर रहे हैं. हमारी मौजूदा नीति के तहत, ट्विटर पर लोगों की निजी जानकारी, जैसे कि फोन नंबर, पता और आईडी प्रकाशित करने की अनुमति नहीं है. इसमें निजी जानकारी को उजागर करने की धमकी देना या दूसरों को ऐसा करने के लिए प्रोत्साहित करने जैसे कार्य भी शामिल है.’

ट्विटर ने कहा कि ‘मीडिया और सूचना के दुरुपयोग को लेकर बढ़ती चिंताओं’ को ध्यान में रखते हुए ये कदम उठाया गया है.

उन्होंने कहा, ‘निजी मीडिया, जैसे कि फोटो या वीडियो साझा करना, संभावित रूप से किसी व्यक्ति की गोपनीयता का उल्लंघन कर सकता है, और इससे भावनात्मक या शारीरिक नुकसान हो सकता है. निजी मीडिया का दुरुपयोग सभी को प्रभावित कर सकता है, लेकिन महिलाओं, कार्यकर्ताओं, असंतुष्टों और अल्पसंख्यक समुदायों के सदस्यों पर इसका प्रतिकूल प्रभाव पड़ सकता है.’

ट्विटर की इस नई नीति का यह मतलब नहीं है कि निजी व्यक्तियों की तस्वीरें अपलोड करने वाले यूजर्स को पोस्ट करते समय कोई सहमति फॉर्म जमा करना होगा, बल्कि इसका मतलब ये है कि यदि कोई इस नीति के उल्लंघन की रिपोर्ट करेगा तो ट्विटर कार्रवाई करेगा.

उन्होंने कहा कि ऐसी कोई सामग्री संबंधित व्यक्ति की अनुमति के बिना पोस्ट करने की शिकायत मिलने पर कार्रवाई की जाएगी.

कंपनी ने कहा, ‘जब हमें चित्रित व्यक्तियों द्वारा या अधिकृत प्रतिनिधि द्वारा सूचित किया जाएगा कि उन्होंने अपनी निजी तस्वीर या वीडियो साझा करने की अनुमति नहीं दी थी, तो हम इसे हटा देंगे. यह नीति सार्वजनिक हस्तियों या सार्वजनित में साझा की गई व्यक्तियों की तस्वीरों पर लागू नहीं होती है.’