भारत

उत्तर प्रदेश: मुजफ़्फ़रनगर में महिला को अगवा कर सामूहिक बलात्कार, आरोपी फ़रार

उत्तर प्रदेश महिला आयोग ने शामली में युवती की हत्या की निंदा की. प्रदेश विधान परिषद में विपक्ष ने क़ानून व्यवस्था के मसले पर योगी सरकार को घेरा.

crime against women

नागपुर शहर में एक दीवार पर बनी महिलाओं के ख़िलाफ़ हिंसा को रेखांकित करती पेंटिंग. (फोटो: द वायर)

लखनऊ/मुजफ्फरनगर: उत्तर प्रदेश सरकार कानून व्यवस्था के मुद्दे पर घिरती नजर आ रही है. एक तरफ प्रदेश भर से लगातार अपराध की खबरें आ रही हैं, तो दूसरी तरफ विधान परिषद में विपक्ष इस मसले पर सरकार को घेरने का प्रयास कर रहा है.

मंगलवार को भाजपा के पूर्व विधायक के पुत्र की हत्या तथा प्रदेश में लगातार गिरती कानून व्यवस्था को लेकर समाजवादी पार्टी के सदस्यों ने विधान परिषद में जमकर हंगामा किया और सरकार की आलोचना के बाद सपा ने सदन से वॉकआउट किया.

विधान परिषद में सपा सदस्यों- नरेश उत्तम, आनंद भदौरिया, मधु गुप्ता ने 16 दिसंबर को विधानसभा के नजदीक पूर्व भाजपा विधायक प्रेम प्रकाश उर्फ जिप्पी तिवारी के बेटे वैभव की हत्या का मामला उठाया.

उधर, मुजफ्फरनगर जिले के बसधारा गांव में तीन लोगों ने 23 वर्षीय एक महिला को कथित तौर पर अगवा कर लिया और उसके साथ सामूहिक बलात्कार किया.

थाना प्रभारी बीवी सिंह ने बताया कि यह घटना मंगलवार को उस समय हुई जब महिला नजदीक के एक चापाकल से पानी ले रही थी और तीन व्यक्तियों ने उसका अपहरण कर लिया.

उन्होंने बताया कि आरोपियों ने महिला को इस घटना के बारे में किसी को बताने पर जान से मारने की धमकी दी. अधिकारी ने कहा, आरोपी एक शादी में शामिल होने के लिए गांव आए थे. अभी तीनों आरोपी फरार हैं. हालांकि, उन्हें जल्द पकड़ने के प्रयास किये जा रहे हैं.

उन्होंने बताया कि महिला के माता-पिता की शिकायत पर मामला दर्ज कर लिया गया है. महिला को चिकित्सा परीक्षण के लिए ले जाया गया है.

महिला आयोग ने की हत्या की निंदा

उत्तर प्रदेश राज्य महिला आयोग ने शामली जिले में कॉलेज से घर लौटते समय एक युवती की हत्या किए जाने की घटना की बुधवार को निंदा की. जिले के कांधला पुलिस थाना क्षेत्र में घर श्याम गांव में 18 वर्षीय एक युवती की एक व्यक्ति ने तेज धार हथियार से कथित रूप से हत्या कर दी थी.

राज्य महिला आयोग की एक सदस्य ने पीड़िता के परिवार से मुलाकात की और आरोपी के खिलाफ कड़ी कार्रवाई किए जाने का आश्वासन दिया. इस बीच समुदाय के लोगों ने इस घटना को लेकर कैंडल मार्च निकाला. वे गुरुवार को जिला मुख्यालय में प्रदर्शन भी करेंगे.

पुलिस ने बताया कि मुख्य आरोपी अमरपाल गुर्जर 26 को 15 दिसंबर को गिरफ्तार कर लिया गया था और इस अपराध में शामिल अन्य तीन अज्ञात लोगों की गिरफ्तारी के लिए छापामारी चल रही है.

पुलिस अधिकारी ने बताया कि गांव में सुरक्षा कड़ी कर दी गई है और तनाव कम करने के लिए क्षेत्र में अतिरिक्त पुलिस बलों को तैनात किया गया है.

बसपा सदस्य सुनील चित्तौड़ ने विधान परिषद में शामली में 13 दिसंबर को लड़की की हत्या का मामला उठाया और कहा कि इस मामले में अभी तक कोई कार्रवाई नहीं हुई. नेता सदन शर्मा ने कहा कि पुलिस इस मामले की जांच कर रही है और जल्द ही अपराधी पुलिस की पकड़ में होंगे. बसपा सदस्य नेता सदन के इस जवाब से संतुष्ट नहीं हुए और उन्होंने सपा के साथ सदन से बहिर्गमन कर दिया.

(समाचार एजेंसी भाषा से इनपुट के साथ)