भारत

शिवाजी की जयंती दो बार क्यों मनाई जाती है, पूछने पर प्रोफेसर गिरफ्तार

एक ह्वाट्स ऐप ग्रुप में ये सवाल पूछना महाराष्ट्र के रायगढ़ ज़िले में एक प्रोफेसर को भारी पड़ गया. उनके साथ न सिर्फ मारपीट की गई बल्कि उन्हें गिरफ्तार भी कर लिया गया.

Shivaji_Maharaj_Raigad Wikimedia

(फोटो साभार: वीकीमीडिया)

मिड डे की रिपोर्ट के अनुसार, रायगढ़ ज़िले के खालपुर स्थित केएमसी कॉलेज में कॉमर्स विभाग के अध्यक्ष 38 वर्षीय सुनील वाघमारे ने एक ह्वाट्स ऐप ग्रुप में 15 मार्च को शिवाजी की दूसरी जयंती के अवसर पर उनकी जयंती को दो बार मनाए जाने का कारण पूछा था.

रात में 11:30 बजे पूछे गए इस सवाल पर ग्रुप एडमिन प्रो. अमोल नागरगोजे ने उन्हें भला बुरा कहा. इसके बाद उन्होंने वह ग्रुप ही डिलीट कर दिया. अमोल इसी कॉलेज में पढ़ाते हैं. फिर ये घटना की सूचना पूरे कॉलेज में फैल गई.

Professor Sunil Waghmare

प्रो. सुनील वाघमारे. (फोटो साभार: मिड डे)

इसके अगले दिन इस सवाल से भड़के कॉलेज के छात्रों और उनके सहयोगियों ने उन पर हमला कर दिया. पुलिस सुनील को बचाने के लिए आई लेकिन उन्हें ही गिरफ्तार कर लिया गया. पुलिस ने सुनील के ख़िलाफ़ आईपीसी की धारा 295 ए (जान-बूझकर धार्मिक भावना को ठेस पहुंचाने) के मामले में मुक़दमा दर्ज किया है.

प्रो. अमोल ने सुनील के ख़िलाफ़ केस दर्ज करवाया. प्रो. अमोल के अनुसार, ‘मैं प्रो. सुनील वाघमारे को 2012 से जानते हूं. जब उन्होंने यह मैसेज ग्रुप में पोस्ट किया तो मैंने उन्हें अपने शब्द वापस लेने के लिए कहा. मेरी बात पर इनकार करते हुए सुनील ने शब्द वापस नहीं लिए. उनके मना करने के बाद मैंने उस व्हाट्सऐप ग्रुप को डिलीट कर दिया था.’

अमोल हमले के बारे में कहते हैं, ‘मैं स्टाफ रूप में बैठा था तभी पता चला कि कुछ छात्रों ने प्रो. सुनील पर हमला कर दिया. घटना के बाद मैंने पुलिस में इस बात की शिकायत दर्ज करवा दी.’

खोपोली पुलिस थाने के इंस्पेक्टर सावता शिंदे ने बताया, ‘पुलिस ने सुनील और अमोल के मोबाइल फोन को आगे की जांच के लिए ज़ब्त कर लिया है. शनिवार को प्रो. सुनील वाघमारे को अदालत में पेश किया गया, जहां से उन्हें न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया है.’

बता दें कि महाराष्ट्र में 19 फरवरी को भी शिवाजी महाराज की जयंती मनाई जाती है.