भारत

महाराष्ट्रः पुणे में भारी बारिश से दीवार ढही, बच्चों सहित 15 लोगों की मौत, कई घायल

यह हादसा पुणे के कोंढवा क्षेत्र में एक निर्माणाधीन इमारत के मजदूरों की टिन की झोपड़ियों पर गिरने से हुआ. सरकार ने मृतकों के परिजनों के लिए पांच लाख रुपये की सहायता राशि देने का ऐलान किया है.

Pune-ANI

महाराष्ट्र के पुणे में निर्माणाधीन इमारत ढही (फोटोः एएनआई)

पुणेः महाराष्ट्र के पुणे में  लगातार हो रही बारिश से शनिवार सुबह एक दीवार ढहने से 15 लोगों की मौत हो गई. मरने वालों में चार बच्चे भी हैं.

यह घटना पुणे के कोंढवा के तालाब मस्जिद इलाके की है. यहां पर एक निर्माणाधीन इमारत की दीवार साथ में मजदूरों के लिए बनी टिन की झोपड़ियों पर गिरी. सभी मृतक मजदूर परिवार से हैं.

एक अधिकारी ने बताया कि कोंढवा इलाके में शनिवार तड़के 1.45 बजे के आसपास यह घटना हुई. पुणे में लगातार भारी बारिश हो रही है.

उन्होंने बताया कि पुलिस, दमकल विभाग और राष्ट्रीय आपदा मोचन बल (एनडीआरएफ) के कर्मियों ने मौके पर पहुंच बचाव अभियान शुरू कर दिया है.

उन्होंने बताया कि तीन घायलों को अस्पताल में भर्ती कराया गया है.

शनिवार सुबह घटनास्थल से कुछ तस्वीरें भी सामने आई, जिसमें दिखाई दे रहा है कि सोसायटी की दीवार, मजदूरों के लिए बने टिन की झोपड़ियों पर गिर गई. सोसायटी के लोगों की कुछ कारें भी मजदूरों के कच्चे घरों पर आ गिरीं.

हादसे के बाद से ही आपदा प्रबंधन की टीम मौके पर पहुंच गई. राहत और बचाव कार्य जारी है.

महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने ट्वीट कर मृतकों के परिवार के प्रति संवेदना जताई और पुणे कलेक्टर को व्यापक जांच के निर्देश दिए.

उन्होंने ट्वीट कर कहा, ‘पुणे के कोंढवा में दीवार ढहने की घटना में जान गंवा चुके लोगों के बारे में सुनकर व्यथित हूं. मेरी संवेदनाएं पीड़ित प्रभावित के साथ हैं. मैं घायलों के जल्द ठीक होने की भी कामना करता हूं.’

राज्य सरकार ने मृतकों के परिजनों के लिए पांच लाख रुपये की सहायता राशि देने का भी ऐलान किया है.

इस घटना पर पुणे के डिस्ट्रिक्ट क्लेक्टर (डीएम) नवल किशोर राम ने कहा, ‘तेज बारिश की वजह से दीवार ढही है. इस घटना के साथ ही कंस्ट्रक्शन कंपनी की लापरवाही का मामला भी सामने आया है. 15 लोगों की मौत कोई मामूली बात नहीं है. मृतकों में अधिकतर बिहार और बंगाल से आए मजदूर थे. सरकार इस घटना से प्रभावित लोगों की मदद करेगी.’

वहीं पुणे की मेयर मुक्ता तिलक ने भी कहा कि इस घटना की जांच की जाएगी. हम काम रोकने का आदेश देने जा रहे हैं ताकि निर्माणाधीन स्थल पर कोई काम जारी नहीं रह सके.

 (समाचार एजेंसी भाषा से इनपुट के साथ)