भारत

भाजपा सांसद सनी देओल ने अपने संसदीय क्षेत्र के कामकाज के लिए नियुक्त किया प्रतिनिधि

पंजाब के गुरदासपुर लोकसभा क्षेत्र के सांसद सनी देओल ने गुरप्रीत सिंह पलहेरी को अपना प्रतिनिधि घोषित किया है. क्षेत्र के कांग्रेस विधायक सुखजिंदर सिंह रंधावा बोले, यह मतदाताओं के साथ धोखा है. लोगों ने देओल को अपना सांसद चुना है, न कि उनके प्रतिनिधि को.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ पंजाब के गुरदासपुर से भाजपा सांसद सनी देओल. (फोटो: ट्विटर/@narendramodi)

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ पंजाब के गुरदासपुर से भाजपा सांसद सनी देओल. (फोटो: ट्विटर/@narendramodi)

नई दिल्ली: अभिनेता से नेता बने सनी देओल ने पंजाब के अपने गुरदासपुर लोकसभा क्षेत्र का कामकाज देखने और विभिन्न बैठकों में शामिल होने के लिए एक प्रतिनिधि नियुक्ति किया है. उनके इस निर्णय को राज्य की सत्ताधारी कांग्रेस पार्टी ने जनता के साथ धोखा करार दिया.

इंडियन एक्सप्रेस के अनुसार, सोमवार को भाजपा सांसद सनी देओल ने इस संबंध में एक पत्र जारी करते हुए स्थानीय अधिकारियों और मीडिया को इसकी जानकारी दी.

Sunny Deol Letterhead

गुरदासपुर सांसद के लेटरहेड पर जारी पत्र में देओल ने गुरप्रीत सिंह पलहेरी को अपना ‘सांसद प्रतिनिधि’ नियुक्त किया है, जो बैठकों एवं अन्य कार्यक्रमों में सांसद की जगह हिस्सा लेंगे.

देओल की ओर से जारी पत्र में लिखा गया है, ‘मैं, गुरप्रीत सिंह पलहेरी, पुत्र सुपिंदर सिंह, निवासी पलहेरी गांव, जिला मोहाली, पंजाब को अपना प्रतिनिधि नियुक्त करता हूं. वह संबंधित अधिकारियों के साथ मेरे संसदीय क्षेत्र गुरदासपुर निर्वाचन क्षेत्र से संबंधित बैठकों और अन्य कार्यक्रमों में शिकरत करेंगे.’

पेशे से लेखक और लाइन प्रोड्यूसर पलहेरी ने बताया कि यह पत्र 26 जून को जारी हुआ है. हालांकि, इस मामले पर हो रहे विवाद को खारिज करते हुए उन्होंने कहा, ‘यह (नियुक्ति) स्थानीय मुद्दों के लिए है. यह गुरदासपुर के लोगों की 24 घंटे की सेवा में होने जैसा है.’

पलहेरी ने कहा कि देओल हर महीने गुरदासपुर संसदीय क्षेत्र का दौरा करेंगे. उन्होंने कहा, ‘अब वह संसद सत्र के समाप्त होने के बाद गुरदासपुर आएंगे.’

सनी देओल के इस कदम को जनादेश के साथ धोखा करार देते हुए पंजाब के मंत्री सुखजिंदर सिंह रंधावा ने कहा, एक प्रतिनिधि को नियुक्त करके सनी देओल ने गुरदासपुर संसदीय क्षेत्र के मतदाताओं के साथ धोखा किया है.

उन्होंने कहा, ‘आखिर एक सांसद कैसे अपना प्रतिनिधि चुन सकता है? मतदाताओं ने सनी देओल को अपना सांसद चुना है, न कि उनके प्रतिनिधि को.’ बता दें कि, रंधावा डेरा बाबा नानक विधानसभा क्षेत्र के विधायक हैं जो कि गुरदासपुर लोकसभा क्षेत्र के तहत आता है.

पिछले महीने नवनिर्वाचित सांसद को तब क्षेत्र के लोगों की आलोचनाओं का सामना करना पड़ा था जब उन्होंने सोशल मीडिया साइट इंस्टाग्राम पर काजा में छुट्टियां मनाने का एक वीडियो पोस्ट किया था.

बता दें कि, सनी देओल ने हाल में सम्पन्न हुए लोकसभा चुनाव में कांग्रेस के सुनील जाखड़ को 82,459 वोटों से हराते हुए जीत दर्ज की थी.

वहीं, गुरदासपुर से सनी देओल के खिलाफ खड़े होने वाले कांग्रेस नेता सुनील जाखड़ ने कहा, ‘मार्केटिंग में ग्राहक हमेशा सही होता है और लोकतंत्र में मतदाता हमेशा सही होता है. हर किसी को यह बात स्वीकार करनी पड़ेगी. मतदाता ने उनके साथ सेल्फी खिंचाने के अलावा किसी और चीज की उम्मीद नहीं की थी.’

कांग्रेस नेता केटीएस तुलसी ने कहा, ‘एक सांसद सदन में सीधे लोगों का प्रतिनिधि होता है. वह लोगों के प्रति जवाबदेह होता है और अगर उन्हें लगता है कि कोई और जनता की समस्या को अच्छे से समझ सकता है तो उन्हें इस्तीफा देकर उसे ही चुनाव लड़ने को कहना चाहिए.’