भारत

जयपुर में सात साल की बच्ची के साथ बलात्कार, कई जगहों पर विरोध-प्रदर्शन, 16 हिरासत में

सोशल मीडिया पर ये जानकारी फैलने के बाद इस घटना ने सांप्रदायिक रंग ले लिया, जिस अस्पताल में बच्ची का इलाज चल रहा था, वहां स्थानीय लोगों ने प्रदर्शन किया. 13 थाना क्षेत्रों में इंटरनेट सेवा बंद.

Jaipur-Map

जयपुरः राजस्थान के जयपुर में सोमवार रात को सात साल की बच्ची के साथ बलात्कार के बाद शहर के कई हिस्सों में स्थानीय लोगों ने विरोध प्रदर्शन किया.

इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के मुताबिक, स्थानीय लोगों ने कई वाहनों में आग लगा दी और घरों और पुलिस पर पथराव किया. पुलिस के मुताबिक, सोमवार रात को एक अज्ञात शख्स बच्ची को उसके घर के पास से उठाकर ले गया था.

जयपुर के पुलिस कमिश्नर आनंद श्रीवास्तव ने कहा, ‘यह घटना सोमवार को रात 7.30 से आठ बजे के बीच उस समय हुई, जब मोटरसाइकिल सवार एक शख्स बच्ची को उठाकर ले गया और लगभग दो घंटे बाद उसे उसके घर के पास छोड़ गया. इस बीच उसने बच्ची के साथ बलात्कार किया. लड़की ने अपने माता-पिता को इस घटना के बारे में बताया, जिसके बाद पुलिस को इसकी सूचना दी गई और मामला दर्ज किया गया.’

सोशल मीडिया के जरिए यह जानकारी फैलने के बाद इस घटना ने सांप्रदायिक रंग ले लिया, जिस अस्पताल में बच्ची का इलाज चल रहा था, स्थानीय लोगों ने अस्पताल के बाहर विरोध प्रदर्शन किया. कुछ लोगों ने कथित तौर पर वाहनों में आग लगा दी और दूसरे संप्रदाय के लोगों के घरों और पुलिस पर पथराव भी किया.

जयपुर जिला के भाजपा अध्यक्ष मोहन लाल गुप्ता के साथ कुछ गुस्साए लोगों ने मंगलवार सुबह कुछ वाहनों को क्षतिग्रस्त और उसमें आग लगा दी और पथराव भी किया. इसके साथ ही पुलिस थाने का घेराव भी किया और तुरंत कार्रवाई की मांग की.

जयपुर के पुलिस कमिश्नर आनंद श्रीवास्तव ने बताया कि 30 वाहन या तो नष्ट हो गए या उनमें आग लगा दी गई.  वहीं, एक स्थानीय शख्स का कहना है कि यह आंकड़ा दोगुने से भी अधिक है.

जयपुर पुलिस ने तोड़-फोड़ को लेकर एक और एफआईआर दर्ज की है और 16 लोगों को एहतियातन हिरासत में लिया है. इस घटना को सांप्रदायिक रंग देने की रिपोर्ट पर श्रीवास्तव ने कहा कि कुछ गैर सामाजिक तत्वों ने इसे सांप्रदायिक रंग देने की कोशिश की है.

राज्य के स्वास्थ्य मंत्री रघु शर्मा ने बच्ची के स्वास्थ्य के बारे में पूछताछ की और डॉक्टरों को बच्ची को सर्वोत्तम इलाज देने के निर्देश दिए. बच्ची का निशुल्क इलाज किए जाने का भी ऐलान किया. वहीं, राजस्थान सरकार ने पीड़ित के परिवार को पांच लाख रुपये देने की घोषणा की है.

जयपुर पुलिस ने आरोपी का पता लगाने के लिए 12 टीमों का गठन किया है. राजस्थान सशस्त्र कॉन्सटेब्लूरी सहित पुलिस की छह कंपनियों को तनावग्रस्त क्षेत्रों में तैनात किया गया है.

किसी भी तरह की अफवाहों से बचने के लिए जयपुर के डिविजनल कमिश्नर कैलाश चंद वर्मा ने मंगलवार दोपहर दो बजे से बुधवार 10 बजे तक के लिए जयपुर के 13 थाना क्षेत्रों में इंटरनेट सेवा बंद करने के निर्देश दिए थे.