भारत

बिहार: डायन बताकर महिला की पीट-पीटकर हत्या

मामला बिहार के नवादा ज़िले का है. पुलिस ने बताया कि इस मामले में कुल 12 लोगों के ख़िलाफ़ प्राथमिकी दर्ज कराई गई है. मुख्य आरोपी सहित चार अन्य को गिरफ़्तार कर पूछताछ की जा रही है. वहीं, झारखंड के गिरिडीह में जादू-टोना करने के शक में दो महिलाओं सहित तीन लोगों को कथित तौर पर मानव मल खाने को मजबूर किया गया.

Screenshot (182)

नवादा: बिहार के नवादा जिले के गोविंदपुर थाना अंतर्गत कोयलीगढ़ गांव में मंगलवार को कुछ लोगों ने एक महिला को डायन बताकर उसकी पीट-पीटकर हत्या कर दी.

गोविंदपुर थाना प्रभारी ज्योति पुंज ने बताया, ‘मृतक महिला का नाम मंती देवी (50) है, जो कोयलीगढ़ गांव निवासी प्रसादी मांझी की पत्नी थी.’

उन्होंने बताया कि शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए नवादा सदर अस्पताल भेज दिया गया है.

मृतक मंती देवी के पति ने इस मामले में कुल 12 लोगों बिरजु मांझी, सुरेश मांझी, नरेश मांझी, कारू मांझी, कुना मांझी, अनील मांझी, तुलसी मांझी, मुनी मांझी, सुखदेव मांझी और संजय मांझी के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज कराई है.

पुंज ने बताया, ‘इस मामले प्राथमिकी दर्ज कर ली गई है और मुख्य आरोपी बिरजु मांझी और तीन अन्य आरोपियों सुरेश मांझी, कारू मांझी और नरेश मांझी को गिरफ्तार कर उनसे पूछताछ की जा रही है.’

उन्होंने बताया कि वारदात में संलिप्त अन्य लोगों की गिरफ्तारी के लिए पुलिस छापेमारी कर रही है. पुंज ने बताया, ‘सभी आरोपी कोयलीगढ़ गांव के हैं.’

वहीं रजौली के पुलिस निरीक्षक बिनोद कुमार सिंह तथा प्रखंड विकास पदाधिकारी कुंज बिहारी सिंह ने सूचना मिलते ही कोयलीगढ़ गांव पहुंचकर घटनास्थल का जायजा लिया.

प्रसादी मांझी ने बताया कि उनकी पत्नी मंगलवार सुबह जब पानी लाने के लिए गई थी तब वहां सभी आरोपी पहले से घात लगाए बैठे थे. उन्होंने डायन होने का आरोप लगाते हुए मंती देवी की बुरी तरह पिटाई कर दी.

उन्होंने बताया कि घायल मंती देवी को लेकर वह थाने पहुंचे. गोविंदपुर थाना प्रभारी ने मंती देवी कि स्थिति गंभीर देख उन्हें इलाज के लिए तुरंत स्थानीय प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र भेज दिया, जहां के डॉक्टर शिशुपाल राव ने मंती देवी को मृत घोषित कर दिया.

झारखंड: जादू टोना के संदेह में तीन लोगों को मल खाने के लिए किया गया मजबूर

झारखंड के गिरिडीह शहर में पिछले सप्ताह दो महिलाओं सहित तीन लोगों को कथित तौर पर मानव मल खाने को मजबूर किया गया.

पुलिस ने मंगलवार को बताया कि पिछले मंगलवार को झांझरी मोहल्ला क्षेत्र में हुई घटना के सिलसिले में चार लोगों को गिरफ्तार किया गया. घटना का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल होने के बाद गिरफ्तारियां हुई हैं .

पुलिस ने बताया कि आरोपियों को संदेह था कि ये लोग जादू टोना करते थे जिससे लोग क्षेत्र में बीमार पड़ गए.

नगर पुलिस थाना प्रभारी आदिकांत महतो ने बताया कि वीर दास (50), हरि दास (32), झरिया देवी (30) और शांति देवी (48) को गिरफ्तार किया गया जबकि दो अन्य फरार हैं.

बता दें कि पिछले कुछ समय से झारखंड और बिहार जैसे राज्यों से लगातार ऐसी खबरें आ रही हैं जिसमें जादू-टोना और झाडफूंक के संदेह में लोगों की पीट-पीटकर हत्या कर दी जा रही है.

बीते 20 जुलाई को 10 से 12 लोगों ने  झारखंड के गुमला जिले में डायन बताकर और जादू-टोना के शक में दो महिला महिलाओं समेत 4 लोगों को उनके घर से बाहर निकाला और लाठी-डंडों से पीट-पीटकर हत्या कर दी थी.

इससे पहले जादू-टोने के शक में ही पिछले महीने राज्य के पश्चिम सिंघभूम जिले के नक्सल प्रभावित रोवाओली गांव में एक 50 वर्षीय महिला और उसकी 25 साल की बेटी की हत्या कर दी गई थी.

वहीं, पिछले साल जून में बिहार के पूर्णिया जिले में एक महिला पर डायन होने का आरोप लगाते हुए उसके ही परिवार के लोगों ने उसे पीट-पीट कर मार डाला.

(समाचार एजेंसी भाषा इनपुट के साथ)