भारत

भारत की तरफ से ऑस्कर में भेजी गई फिल्म ‘गली बॉय’

‘गली बॉय’ के अलावा भारत की ओर से ऑस्कर के लिए फिल्म ‘बधाई हो’, ‘अंधाधुन’, ‘आर्टिकल 15’, ‘उरी: द सर्जिकल स्ट्राइक’, ‘बदला’, ‘केसरी’ और ‘द ताशकंद फाइल्स’ होड़ में थीं.

(फोटो साभार: फेसबुक)

(फोटो साभार: फेसबुक)

नई दिल्ली: अभिनेता रणवीर सिंह की मुख्य भूमिका वाली ज़ोया अख़्तर की फिल्म ‘गली बॉय’ को 92वें अकादमी पुरस्कार में अंतरराष्ट्रीय फीचर फिल्म वर्ग में भारत की आधिकारिक प्रविष्टि के तौर पर चयनित किया गया है.

फिल्म फेडरेशन ऑफ इंडिया (एफएफआई) ने शनिवार को इसकी घोषणा की.

यह फिल्म इस साल 14 फरवरी को रिलीज की गई थी, जिसमें आलिया भट्ट, विजयराज, कल्कि कोचलिन, सिद्धांत चतुर्वेदी, विजय वर्मा और अमृता सुभाष ने भी अभिनय किया है.

रितेश सिधवानी और फरहान अख्तर निर्मित ‘गली बॉय’ में रणवीर ने एक उभरते हुए रैपर की भूमिका निभाई है. यह फिल्म मुंबई के स्लम धारावी में रहने वाले डिवाइन और नीज़ी की ज़िंदगियों से प्रभावित है, जो अब भारत के प्रसिद्ध रैपर में से एक हैं.

एफएफआई के महासचिव सुपर्ण सेन ने बताया, ‘फिल्म गली बॉय इस साल भारत की आधिकारिक प्रविष्टि होगी. इस साल करीब 27 फिल्में दौड़ में थीं, लेकिन सर्वसम्मति से गली बॉय को चुना गया.’

जानी मानी अभिनेत्री एवं फिल्मकार अपर्णा सेन इस साल की चयन समिति की अध्यक्ष थीं.

चयन समिति में अपर्णा सेन के अलावा सुप्रण सेन और अनिंद्य दासगुप्ता भी शामिल थे.

निर्णायक मंडल के अंतिम रूप से ‘गली बॉय’ के चुने जाने पर अपर्णा ने कहा, ‘फिल्म की ऊर्जा लाजवाब है. यह दर्शकों से संवाद करेगी.’

एफएफआई के अध्यक्ष फिरदौस उल हसन ने बताया कि ऑस्कर चयन के लिए स्क्रीनिंग की प्रक्रिया 16 सितंबर को शुरू हुई थी और यह 21 को खत्म हुई.

उन्होंने यह भी खुलासा किया कि ‘गली बॉय’ के अलावा ऑस्कर में भेजे जाने की होड़ में जो अन्य बॉलीवुड फिल्में शामिल थीं वे हैं, ‘बधाई हो’, ‘अंधाधुन’, ‘आर्टिकल 15’, ‘उरी: द सर्जिकल स्ट्राइक’, ‘बदला’, ‘केसरी’ और ‘द ताशकंद फाइल्स’.

फिल्म में गली बॉय बनने वाले अभिनेता रणवीर सिंह ने ट्वीट कर कहा है, ‘अपना टाइम आएगा. फिल्म के ऑस्कर अवॉर्ड के लिए चुने जाने पर हम बेहद खुश है. फिल्म फेडरेशन ऑफ इंडिया, अपर्णा सेन, सुप्रण सेन, अनिंद्य दासगुप्ता और जूरी के अन्य सदस्यों का धन्यवाद. हमारे शानदार कलाकारों और क्रू सदस्यों को बधाई.’

समाचार एजेंसी पीटीआई से बातचीत में रणवीर सिंह ने कहा कि उन्हें फिल्म की निर्देशक ज़ोया अख़्तर पर गर्व है. उन्होंने कहा, ‘गली बॉय ने सड़कों पर रहने वालों की आवाज उठाई. यह पूरी टीम के लिए गर्व का क्षण है. खासतौर पर मुझे जोया पर गर्व है और उनके लिए खुशी है. मैं खुशनसीब हूं कि मैं उनकी इस फिल्म का हिस्सा बन पाया.’

एनडीटीवी से बातचीत में फिल्म की अभिनेत्री आलिया भट्ट ने कहा कि यह फिल्म उनके लिए बेहद खास है. उन्होंने उम्मीद जताई कि फिल्म आस्कर जीतेगी.

उन्होंने कहा, ‘एक फिल्म के रूप में गली बॉय मेरे लिए बेहद खास है. इससे भी ज्यादा खास ये है कि फरवरी में रिलीज होने के बाद से अब तक यह एक लंबी दौड़ है. मेलबर्न फिल्म फेस्टिवल में इनसे पुस्कार जीता. जापान में भी यह दिखाई गई.’

आलिया ने आगे कहा, ‘अब यह भारत की ओर से अधिकारिक तौर पर ऑस्कर पुरस्कार समारोह में शामिल होने के लिए चुनी गई है. इसलिए मुझे उम्मीद है और मैं प्रार्थना कर रही हूं कि यह जीत जाए. हमारे लिए यह बड़ी बात है. एक टीम के रूप में मैं बहुत रोमांचित हूं.’

फिल्म के निर्माता फरहान अख़्तर ने ट्विटर पर फिल्म की टीम को बधाई दी. यह फिल्म 2019 की सर्वाधिक प्रशंसित हिंदी फिल्मों मे से एक है.

उन्होंने लिखा, ‘92वें ऑस्कर अवार्ड में गली बॉय आधिकारिक प्रविष्टि होगी. शुक्रिया फिल्म फेडरेशन और ज़ोया, रीमा कागती, रितेश, सिद्धार्थ, रणवीर, आलिया, सिद्धांत चतुर्वेदी, कल्कि एवं फिल्म से जुड़े सभी कलाकारों, कर्मचारियों तथा हिप-हॉप क्रू को बधाई.’

फिल्म में अहम किरदार निभाने वाली कल्कि ने भी ऑस्कर के लिए फिल्म के चयन पर अपनी उत्सुकता जाहिर की.

उन्होंने ट्वीट किया, ‘वाव! यह शनिवार शाम की सबसे शानदार खबर है.’

फिल्म में मुराद (रणवीर सिंह के किरदार) की मां रजिया अहमद की भूमिका निभाने वाली अमृता ने कहा कि इस खबर से वह बहुत खुश हैं.

अमृता ने कहा, ‘मेरी पहली फिल्म ‘श्वांस’ भी भारत की ओर से ऑस्कर में भेजी गई थी और अब ‘गली बॉय’ भेजी गई है. मैं बेहद खुश हूं. यह फिल्म मेरे दिल के बहुत करीब है. मैं बहुत रोमांच, खुशी और उत्साह महसूस कर रही हूं.’

उन्होंने कहा, ‘फिल्म का विषय और जिस तरह से इसे बनाया गया, वह सार्वभौम है. मुझे यकीन है कि इससे हर कोई जुड़ पाएगा और यह हर किसी के दिल को छुएगा. यह अच्छी बात है कि यह फिल्म हम लोगों का प्रतिनिधित्व करेगी.’

फिल्म की लेखिका रीमा कागती ने कहा कि इस चयन से फिल्म की पूरी टीम बहुत रोमांचित है.

फिल्म में मोइन का किरदार निभाकर प्रशंसा बटोर चुके विजय वर्मा ने कहा कि अकादमी पुरस्कारों के लिए चयनित होना बहुत बड़ी बात है. अभिनेता ने कहा, ‘हम लोग ऑस्कर में जाने वाले हैं… यह बहुत बड़ी बात है. यह बहुत खास है. इसकी उम्मीद नहीं थी. मैं खुशी से उछल रहा हूं. हम खुश हैं कि समूचे देश ने हमारी फिल्म को चुना है और यह बहुत उत्साहित करने वाली बात है.’

कोई भी भारतीय फिल्म अब तक ऑस्कर नहीं जीत पायी है. सर्वश्रेष्ठ विदेशी फिल्म वर्ग की सूची में अंतिम पांच में जगह बनाने वाली आखिरी फिल्म आशुतोष गोवारिकर की 2001 की फिल्म ‘लगान’ थी.

‘मदर इंडिया’ (1958) और ‘सलाम बांबे’ (1989) शीर्ष पांच में जगह बनाने वाली ऐसी दो और भारतीय फिल्में हैं.

रीमा दास निर्देशित असमी फिल्म ‘विलेज रॉकस्टार’ को पिछले साल भारत की ओर से आधिकारिक रूप से ऑस्कर के लिए भेजा गया था.

92वें अकादमी पुरस्कारों की घोषणा नौ फरवरी, 2020 को की जाएगी.

(समाचार एजेंसी भाषा से इनपुट के साथ)