भारत

यूपीः पाकिस्तानी गाना बजाने के आरोप में दो नाबालिगों के ख़िलाफ़ एफआईआर दर्ज

मामला बरेली जिले के भुता थाना क्षेत्र के सिंघाई मुरावान गांव का है. आरोप है कि 16 और 17 साल के चचेरे भाई कथित तौर पर पाकिस्तान की बाल कलाकार और अभिनेत्री आयत आरिफ़ का गाना पाकिस्तान ज़िंदाबाद सुन रहे थे. उनके परिजनों का कहना है कि वे पढ़े-लिखे नहीं हैं और उन्होंने ग़लती से गाना बजा दिया था.

(प्रतीकात्मक फोटो: पीटीआई)

बरेलीः उत्तर प्रदेश के बरेली में कथित तौर पर मोबाइल फोन से पाकिस्तानी गाना सुनने के मामले में पुलिस ने दो मुस्लिम नाबालिगों के खिलाफ एफआईआर दर्ज की है.

पुलिस का कहना है कि बरेली के भुता थाना क्षेत्र के सिंघाई मुरावान गांव के दो नाबालिगों के खिलाफ 13 अप्रैल को एफआईआर दर्ज की गई.

आरोपी नाबालिग नईम और मुक्तसिम दोनों चचेरे भाई हैं और इनकी उम्र 16 और 17 साल है.

स्थानीय निवासी आशीष की शिकायत पर किशोरों के खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई है. शिकायतकर्ता ने पाकिस्तान के समर्थन में गाना बजाने का विरोध किया था.

बरेली के पुलिस अधीक्षक (ग्रामीण) राज कुमार अग्रवाल ने बताया कि प्राप्त तहरीर के आधार पर गुरुवार को एफआईआर दर्ज की.

पुलिस ने इस मामले में पाकिस्तान के समर्थन में नारे वाला गाना बजाने के आरोपियों के खिलाफ सुसंगत धाराओं में एफआईआर दर्ज की है.

पुलिस के अनुसार, यह मामला 13 अप्रैल को बरेली जिले के भुता थाना क्षेत्र के सिंघाई मुरावान गांव का है. किराने की दुकान पर बैठे दो नाबालिग कथित तौर पर मोबाइल पर पाकिस्तान के समर्थन में नारे लगाने वाला गाना बजा रहा था.

उन्होंने बताया कि गांव के आशीष पटेल ने इस गाने पर आपत्ति जताई और उसे तत्काल बंद करने को कहा, लेकिन दोनों इसे लेकर आशीष से भिड़ गए.

पुलिस ने बताया कि शिकायतकर्ता आशीष ने मोबाइल पर यह गाना बजाने का वीडियो बनाकर उसे सोशल मीडिया पर अपलोड कर दिया.

शिकायतकर्ता ने बरेली जोन के एडीजी राजकुमार को वीडियो ट्वीट कर इस मामले में कार्रवाई का अनुरोध भी किया और इस संबंध में थाने में तहरीर दी.

टाइम्स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट के मुताबिक, दोनों चचेरे भाइयों ने कहा,’ उन्हें इस बात का कोई अंदाजा नहीं था कि यह गाना बजाने का क्या परिणाम होगा.’

पीड़ित परिवार ने बताया कि दोनों को 13 अप्रैल को शाम पांच बजे उठाया गया और पूरी रात थाने में हिरासत में रखा गया.

स्थानीय संवाददाता रिकॉर्ड किए गए वीडियो के मुताबिक, दोनों के चचेरे भाई सद्दाम हुसैन ने कहा कि उनके छोटे भाई ने सिर्फ 40 सेकेंड के लिए गाना बजाया था और वह भी गलती से.

उन्होंने बताया कि उसने बाद में माफी भी मांगी लेकिन उनकी माफी को स्वीकार नहीं किया गया.

छोटे लड़के की एक रिश्तेदार सहाना ने कहा कि यह घटना उस समय हुई, जब वह कुछ मिनट के लिए अपनी किराने की दुकान से चली गई थी.

उन्होंने कहा कि वह हैरान हैं कि किस तरह गलती से एक गाना बजने की वजह से दो बच्चों को हिरासत में ले लिया गया. उन्होंने कहा कि बच्चे पढ़े-लिखे नहीं है और और उन्होंने उनकी तरफ से गलती मानी भी है.

बता दें कि दोनों नाबालिग पाकिस्तान के बाल कलाकार और अभिनेत्री आयत आरिफ का गाना पाकिस्तान जिंदाबाद सुन रहे थे.

बरेली के अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक (ग्रामीण) राजकुमार अग्रवाल ने कहा कि शिकायत पर एफआईआर दर्ज की गई और मामले की जांच जारी है.

हालांकि, बरेली के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक (एसएसपी) रोहित सिंह सजवान ने कहा, ‘मुझे नहीं पता कि क्या रात में इन नाबालिगों को पकड़ा गया क्योंकि मुझे बताया गया कि उन्हें इस सुबह पूछताछ के लिए बुलाया गया है. इस तरह के मामलों में नोटस देने का प्रावधान है क्योंकि रिकॉर्ड किए गए वीडियो की सत्यता प्रमाणित नहीं है. मैं एक वरिष्ठ पुलिसकर्मी से जांच की निगरनी करने और इसकी रिपोर्ट पेश करने को कहूंगा.’

बता दें कि नाबालिगों पर आईपीसी की धारा 153बी (राष्ट्रीय एकता के लिए हानिकारक), 504 (जानबूझकर अपमान करना) और 506 (आपराधिक धमकी) के तहत मामला दर्ज किया गया है.