भारत

गुड़गांव में शो रद्द होने के बाद कुणाल कामरा ने विहिप से कहा- सारा सिस्टम ही तुम्हारा है

दक्षिणपंथी संगठनों की धमकियों के बाद गुड़गांव में शो रद्द होने के बाद स्टैंड-अप कॉमेडियन कुणाल कामरा ने विश्व हिंदू परिषद को एक पत्र लिखकर चुनौती दी कि वे गांधी के हत्यारे नाथूराम गोडसे की निंदा करे. साथ ही कामरा ने विहिप को उनके शो में हिंदू देवी-देवताओं का मज़ाक उड़ाने के दावे का सबूत देने को भी कहा.

कॉमेडियन कुणाल कामरा (फोटो साभारः ट्विटर)

मुंबई: दक्षिणपंथी संगठनों की धमकियों के बाद गुड़गांव में कार्यक्रम रद्द होने के कुछ दिन बाद ‘स्टैंड-अप कॉमेडियन’ कुणाल कामरा ने रविवार को विश्व हिंदू परिषद (विहिप) को एक खुला पत्र लिखकर चुनौती दी कि वह महात्मा गांधी के हत्यारे नाथूराम गोडसे की निंदा करे.

अतीत में कई मुद्दों पर भाजपा नीत केंद्र सरकार की आलोचना करने वाले हास्य कलाकार कामरा ने खुद को विहिप से ‘बड़ा हिंदू’ घोषित करते हुए कहा कि वह डरा-धमकाकर अपनी आजीविका नहीं कमाते हैं.

कामरा ने विहिप के आधिकारिक ट्विटर हैंडल पर टैग पत्र में लिखा, ‘मैं जोर से और गर्व से जय श्री सीता-राम और जय राधा कृष्ण कहता हूं. अब अगर तुम सच में भारत की संतान हो, तो गोडसे मुर्दाबाद लिखकर भेजो. नहीं तो मैं समझूंगा कि तुम लोग हिंदू विरोधी और आतंक समर्थक हो.’

उन्होंने पत्र में लिखा, ‘मुझे मत बताओ कि तुम गोडसे को भगवान मानते हो? अगर मानते हो तो आगे भी मेरे शो रद्द करवाते रहना. मुझे सिर्फ इस बात की खुशी रहेगी कि मैं तुम्हारे से ज्यादा हिंदू होने की परीक्षा में तुमसे जीत गया.’

कामरा ने विहिप को ‘हिंदू परिषद’ कहते हुए कहा कि उन्हें विश्वास नहीं है कि दुनिया के हिंदुओं ने उन्हें अपने धर्म की ठेकेदारी दी है.

उन्होंने कहा, ‘आपने मालिक को धमकी देकर गुड़गांव के एक क्लब में होने वाला मेरा शो रद्द करवा दिया. मैं उस (प्रबंधक) बेचारे को क्या दोष दूं, उसको अपना बिजनेस करना है, वह गुंडो से कैसे उलझेगा. वह पुलिस के पास भी नहीं जाएगा. अगर वह पुलिस के पास जाता है तो पुलिस आपके पास ही आएगी अनुरोध करने. कुल मिलाकर अब सिस्टम तुम्हारा ही है.’

कामरा विहिप से सवाल करते हुए लिखते हैं, ‘जो हिंदू संस्कृति के अपमान की तुम बात कर रहे हो, वो मैंने कब किया है. कोई क्लिप या कोई ऐसा शो हो तो मुझे भी दिखाओ. मैं तो केवल सरकार पर तंज करता हूं. अगर तुम सरकारी पालतू हो तो फिर तुम्हें बुरा लग सकता है. इसमें हिंदू की बात कहां से आ गई.’

कामरा ने कहा, ‘मैं जो कुछ भी करूंगा, अपनी मेहनत की ही रोटी खाऊंगा क्योंकि मुझे तुमसे बड़ा हिंदू होने के नाते लगता है कि किसी को डरा-धमकाकर टुकड़े खाना पाप है.’

अपने पत्र में, कामरा ने दक्षिणपंथी संगठनों से इस बाबत सबूत पेश करने की भी मांग की कि वह अपने कार्यक्रम में हिंदू देवी-देवताओं का मजाक उड़ाते हैं.

मालूम हो विहिप और बजरंग दल की धमकी के बाद गुड़गांव में होने वाला कुणाल कामरा का शो रद्द कर दिया गया. कामरा को गुड़गांव के सेक्टर-29 में स्थित स्टूडियो एक्सओ बार में 17 और 18 सितंबर को शो करना था.

विहिप और बजरंग दल ने शो रद्द करने की मांग करते हुए शुक्रवार को तहसीलदार के जरिये उपायुक्त निशांत कुमार यादव को एक ज्ञापन सौंपा. हिंदू दक्षिणपंथी संगठनों के सदस्यों ने कहा कि यदि शो रद्द नहीं किया गया, तो वे इसके विरोध में प्रदर्शन करेंगे.

ज्ञापन में कहा गया था, ‘कॉमेडियन कुणाल कामरा अपने शो में हिंदू देवी देवताओं का मजाक उड़ाता है जो कि गलत है. ऐसी स्थिति में शहर में शो होने से तनाव पैदा हो सकता है इसलिए हम इसे रद्द करने का अनुरोध करते हैं वरना हम विरोध प्रदर्शन करेंगे.’

उल्लेखनीय है कि कामरा से पहले बीते दिनों दक्षिणपंथियों की धमकी के बाद स्टैंड अप कॉमिक मुनव्वर फारूकी के दिल्ली और बेंगलुरु के शो रद्द कर दिए गए थे.

कुणाल कामरा राजनीतिक और सामाजिक मुद्दों पर चुटकुलों के लिए जाने जाते हैं और अक्सर अन्य दलों के अलावा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भाजपा पर कटाक्ष करते हैं. केंद्र सरकार की नीतियों और उनकी असहिष्णुता के मुखर आलोचक रहे कामरा लंबे समय से भाजपा और उनके समर्थकों के निशाने पर रहे हैं.

पिछले साल कर्नाटक के बेंगलुरु में उनके शो रद्द कर दिया गया था. उन्हें शो रद्द करने के अलावा पुलिस मामलों का भी सामना करना पड़ रहा है. कामरा के एक व्यंग्यपूर्ण ट्वीट की वजह से उन्हें सुप्रीम कोर्ट की अवमाना के आरोपों का भी सामना करना पड़ा है.

इससे पहले इंडिगो, स्पाइजेट, गोएयर, एयर इंडिया और विस्तारा ने कारमा द्वारा एक वीडियो शेयर कने के बाद उन पर छह महीने का यात्रा प्रतिबंध लगा दिया था.

दरअसल इस वीडियो में कामरा को पत्रकार अर्णब गोस्वामी के साथ एकतरफा बातचीत करते दिखाया गया था. तब तत्कालीन केंद्रीय उड्डयन मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने अन्य एयरलाइनों को भी उन पर प्रतिबंध लगाने के लिए विवादस्पद सलाह जारी की थी.

(समाचार एजेंसी भाषा से इनपुट के साथ)