भारत

राजस्थान: नल से पानी लेने पर हुए विवाद के बाद आदिवासी शख़्स की पीट-पीटकर हत्या

मामला जोधपुर के सूरसागर का है. पुलिस का कहना है कि पीड़ित और आरोपी दोनों पड़ोसी थे. मोहल्ले से होकर गुजरने वाली एक सार्वजनिक पाइपलाइन से पानी लेने को लेकर दोनों पक्षों के बीच टकराव हुआ और  मृतक के साथ मारपीट की गई. मामले के तीन आरोपियों को गिरफ़्तार किया गया है.

(फोटो साभार: पिक्साबे)

जोधपुर: राजस्थान के जोधपुर में ट्यूबवेल से पानी लेने पर 46 वर्षीय आदिवासी व्यक्ति की पीट-पीटकर हत्या कर दी गई. पुलिस ने सोमवार को यह जानकारी दी.

मृतक के भाई अशोक ने आरोप लगाया है कि आरोपियों ने सूरसागर में भोमियाजी की घाटी निवासी किशनलाल भील (46) को जातिसूचक अपशब्द कहे और परिवार के सदस्यों को किशनलाल को अस्पताल ले जाने नहीं दिया.

उन्होंने कहा कि पुलिस के पहुंचने के बाद ही परिजन गंभीर रूप से घायल किशनलाल को अस्पताल ले जा सके, जहां उनकी मौत हो गई.

पुलिस ने कहा कि इस मामले में अब तक तीन आरोपियों शकील, नासिर और बबलू को हिरासत में लिया है और इन पर अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति (अत्याचार निवारण) अधिनियम और भारतीय दंड संहिता की धारा 302 (हत्या) के तहत मामला दर्ज किया है.

सूरसागर थाने के प्रभारी गौतम डोटासरा ने कहा कि घटना में शामिल अन्य आरोपियों की तलाश की जा रही है.

सभी आरोपियों की तत्काल गिरफ्तारी के साथ-साथ मुआवजे और आश्रित परिजन के लिए सरकारी नौकरी की मांग करते हुए किशनलाल के परिवार और समुदाय के सदस्यों ने विरोध-प्रदर्शन किया और उनका अंतिम संस्कार करने से इनकार कर दिया.

समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक, डोटासरा ने कहा, ‘हम प्रदर्शनकारियों के साथ बातचीत कर रहे हैं ताकि पोस्टमॉर्टम किया जा सके और शव को अंतिम संस्कार के लिए परिवार को सौंपा जा सके.’

इंडियन एक्सप्रेस के मुताबिक, पुलिस ने कहा, ‘पीड़ित और आरोपी दोनों सूरसागर इलाके में पड़ोसी थे. मोहल्ले से होकर गुजरने वाली एक सार्वजनिक पाइपलाइन है, जहां पीड़ित परिवार ने एक नल में पाइप लगा दिया था. आरोपियों ने रविवार को कहा कि वे नल में एक पाइप लगाना चाहते हैं, जिसके परिणामस्वरूप दोनों पक्षों के बीच टकराव हुआ और किशनाराम भील के साथ मारपीट की गई.’

पुलिस ने कहा, ‘हमने तीन आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है. मामला दर्ज किया गया है.’

उधर, मृतक के भाई अशोक ने आरोप लगाया कि हिरासत में लिए गए तीन लोगों सहित कुछ स्थानीय लोगों का इलाके में लगे ट्यूबवेल पर नियंत्रण है. उन्होंने इस पर एक पंप भी लगाया है और दूसरों को इसका इस्तेमाल नहीं करने देते हैं.

अशोक ने आरोप लगाया, ‘रविवार की रात किशनलाल नल पर पानी लेने के लिए गए थे, लेकिन इन लोगों ने उन्हें धक्का दे दिया और जातिसूचक गालियां दीं.’

अशोक ने कहा, ‘उसके घर लौटने के तुरंत बाद नासिर, शकील और बबलू सहित कुछ लोगों ने हमारे घर पर हमला किया और किशनलाल और उसके बेटे को डंडों से पीटा.’

(समाचार एजेंसी भाषा से इनपुट के साथ)