राजधानी आ रहे किसानों को रोकने के लिए दिल्ली पुलिस ने आंसू गैस के 30,000 गोलों का ऑर्डर दिया

नरेंद्र मोदी सरकार से फसलों के न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) पर क़ानूनी गारंटी और ऋण माफ़ी सहित अन्य मांगों की अपील के साथ सैकड़ों की संख्या में प्रदर्शनकारी किसान पंजाब और हरियाणा के बीच अंबाला के पास शंभू सीमा पर एकत्र हुए हैं. साल 2020 के आंदोलन को दोहराते हुए उन्होंने बीते 13 फरवरी को ‘दिल्ली चलो मार्च’ का आह्वान किया है.

(प्रतीकात्मक फोटो साभार: एक्स/@VibhuGroverr)

नरेंद्र मोदी सरकार से फसलों के न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) पर क़ानूनी गारंटी और ऋण माफ़ी सहित अन्य मांगों की अपील के साथ सैकड़ों की संख्या में प्रदर्शनकारी किसान पंजाब और हरियाणा के बीच अंबाला के पास शंभू सीमा पर एकत्र हुए हैं. साल 2020 के आंदोलन को दोहराते हुए उन्होंने बीते 13 फरवरी को ‘दिल्ली चलो मार्च’ का आह्वान किया है.

(प्रतीकात्मक फोटो साभार: एक्स/@VibhuGroverr)

नई दिल्ली: दिल्ली पुलिस ने अपने स्टॉक को फिर से भरने के लिए 30,000 से अधिक आंसू गैस के गोले का ऑर्डर दिया है, ताकि ‘दिल्ली चलो मार्च’ के तहत आंदोलन कर रहे किसानों को राष्ट्रीय राजधानी में प्रवेश करने से रोका जा सके.

पुलिस अधिकारियों के हवाले से समाचार एजेंसी पीटीआई की रिपोर्ट में कहा गया है कि तैयारी के तहत दिल्ली पुलिस ने ‘पहले से ही बड़ी संख्या में आंसू गैस के गोले जमा कर लिए हैं और मध्य प्रदेश के ग्वालियर के टेकनपुर स्थित बीएसएफ के टियर स्मोक यूनिट से आंसू गैस के 30,000 और गोलों का ऑर्डर दिया है.’

केंद्रीय गृह मंत्रालय के तहत आने वाला दिल्ली पुलिस बल ‘प्रदर्शनकारियों को राष्ट्रीय राजधानी में प्रवेश नहीं करने देने’ के प्रति दृढ़ है. रिपोर्ट के अनुसार, ‘ताजा ऑर्डर किए गए गोले ग्वालियर से दिल्ली लाए जा रहे हैं.’


ये भी पढ़ें: किसान आंदोलन: मोदी सरकार ने इंटरनेट पर प्रतिबंध के लिए ब्रिटिशकालीन क़ानून का उपयोग किया


नरेंद्र मोदी सरकार से फसलों के न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) पर कानूनी गारंटी और ऋण माफी सहित अन्य मांगों की अपील के साथ सैकड़ों की संख्या में प्रदर्शनकारी किसान पंजाब और हरियाणा के बीच अंबाला के पास शंभू सीमा पर एकत्र हुए हैं.

यह सुनिश्चित करने के लिए कि वे अपने गंतव्य दिल्ली तक न पहुंच सकें हरियाणा पुलिस द्वारा उन पर आंसू गैस के गोले छोड़ने की सूचना है. समाचार रिपोर्टों में कहा गया है कि प्रदर्शनकारियों पर ड्रोन के जरिये भी कुछ गोले गिराए गए है.

रिपोर्टों में कहा गया है कि कई किसानों और विरोध प्रदर्शन को कवर करने वाले पत्रकारों को लाठीचार्ज से घायल होने के कारण अस्पताल में भर्ती कराया गया है. किसानों ने पत्रकारों को बताया है कि हरियाणा पुलिस ने उन पर पैलेट गन का भी इस्तेमाल किया है, जिससे चोटें आई हैं.


ये भी पढ़ें: शंभू बॉर्डर पर किसानों ने कहा- एमएसपी पर क़ानून बनने तक वापस नहीं लौटेंगे


पीटीआई की रिपोर्ट में कहा गया है कि दिल्ली पुलिस ने सिंघू (सोनीपत की तरफ), टिकरी (बहादुरगढ़ की तरफ) और गाजीपुर (गाजियाबाद की तरफ) सीमाओं पर किसानों को रोकने के लिए सभी व्यवस्थाएं की हैं.

पहले से ही आपराधिक प्रक्रिया संहिता (सीआरपीसी) की धारा 144 के तहत निषेधाज्ञा आदेश पूरे राष्ट्रीय राजधानी में एक महीने के लिए लागू कर दिया गया है, जिसके तहत पांच या अधिक लोगों के इकट्ठा होने, रैलियों और प्रदर्शन, लोगों को ले जाने वाले ट्रैक्टर-ट्रॉलियों के राष्ट्रीय राजधानी में प्रवेश पर प्रतिबंध लगा दिया गया है.

इस रिपोर्ट को अंग्रेजी में पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

pkv games bandarqq dominoqq pkv games parlay judi bola bandarqq pkv games slot77 poker qq dominoqq slot depo 5k slot depo 10k bonus new member judi bola euro ayahqq bandarqq poker qq pkv games poker qq dominoqq bandarqq bandarqq dominoqq pkv games poker qq slot77 sakong pkv games bandarqq gaple dominoqq slot77 slot depo 5k pkv games bandarqq dominoqq depo 25 bonus 25 bandarqq dominoqq pkv games slot depo 10k depo 50 bonus 50 pkv games bandarqq dominoqq slot77 pkv games bandarqq dominoqq slot bonus 100 slot depo 5k pkv games poker qq bandarqq dominoqq depo 50 bonus 50 pkv games bandarqq dominoqq