मज़दूरों के लिए आवंटित धन का कहीं और इस्तेमाल होने से शीर्ष अदालत हैरान

देशभर के निर्माण क्षेत्र में लगे मज़दूरों के कल्याण के लिए जारी 26 हज़ार करोड़ रुपये की रकम में से पांच हज़ार करोड़ रुपये का अता-पता नहीं.

कभी जिससे अंग्रेज़ डरा करते थे, कांग्रेस का वह सेवादल अपनी आख़िरी सांसें गिन रहा है

ऐसे समय में जब कांग्रेस रास्ता खोज रही है, उसे अपने संगठन की ओर देखना चाहिए और उस लोकतांत्रिक प्रक्रिया को बहाल करना चाहिए, जिसे 1969 के बाद लगातार ख़त्म किया जाता रहा है.

जन गण मन की बात: कुलभूषण जाधव और तमिलनाडु के किसान, एपिसोड 33

जन गण मन की बात की 33वीं कड़ी में विनोद दु​आ पूर्व नौसेना अधिकारी कुलभूषण जाधव को पाकिस्तान द्वारा मौत की सज़ा सुनाए जाने और तमिलनाडु के किसानों के प्रदर्शन पर चर्चा कर रहे हैं.

तीन तलाक़ ख़त्म करने के लिए 18 महीने क्यों चाहिए: बीएमएमए

ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड के एक सदस्य ने 18 महीने तीन तलाक़ की प्रथा ख़त्म करने की बात कही है. बीएमएमए ने पूछा अभी क्यों नहीं ख़त्म किया जा सकता तीन तलाक़?

जो भी ममता बनर्जी का सिर काटकर लाएगा उसे 11 लाख दूंगा: भाजपा नेता

पश्चिम बंगाल में भारतीय जनता युवा मोर्चा के नेता योगेश वार्ष्णेय ने ममता बनर्जी पर मुसलमानों को इफ़्तार पार्टी देने और राम भक्तों पर लाठीचार्ज करवाने का आरोप लगाया.

वीडियो: पाकिस्तान द्वारा कुलभूषण जाधव को सुनाई गई मौत की सज़ा पर चर्चा

पाकिस्तान द्वारा कुलभूषण जाधव को सुनाई गई मौत की सजा पर ​द वायर के संस्थापक संपादक सिद्धार्थ वरदराजन से द वायर कार्यकारी संपादक बृजेश सिंह की बातचीत.

वीडियो: आप प्रवक्ता और पार्टी के दिल्ली संयोजक दिलीप पांडेय से बातचीत

दिल्ली नगर पालिका चुनाव में आम आदमी पार्टी पहली बार शामिल हो रही है. पार्टी के दिल्ली संयोजक और प्रवक्ता दिलीप पांडेय से द वायर ने जाना कि इस चुनाव में पार्टी किन मुद्दों के साथ उतरने वाली है.

किसी भी क़ीमत पर कुलभूषण जाधव को वापस लाएंगे: सुषमा

विदेश मंत्री सुषमा स्‍वराज ने कहा कि अगर कुलभूषण जाधव को फांसी हुई तो भारत और पाकिस्‍तान के द्विपक्षीय संबंधों पर विपरीत असर पड़ेगा. जाधव केवल अपने मां-बाप के बेटे नहीं, बल्कि पूरे हिंदुस्‍तान के बेटे हैं.

‘कुआं और मूर्ति दलितों से बनवाते हो, फिर उन्हें पानी पीने और मंदिर जाने से रोकते क्यों हो’

आंबेडकर पर हुए एक सेमिनार में केंद्रीय मंत्री थावरचंद गहलोत ने जातिवादी मानसिकता पर सवाल उठाते हुए लोगों से सोच बदलने की अपील की.

जब राजनाथ सिंह ने 84 दंगों को ‘नरसंहार’ बताया था तो फिर कनाडा के ऐसा कहने पर आपत्ति क्यों?

भारत सरकार ने पिछले दिनों कनाडा की एक विधानसभा में 1984 के सिख दंगों को ‘नरसंहार’ कहने वाले एक प्रस्ताव को नकार दिया.

…लेकिन जनता को सियासी बूचड़खाने से कौन बचाएगा?

‘सर कलम कर दूंगा. हाथ काट दूंगा. पैर तोड़ दूंगा. फांसी पर लटका दूंगा. फांसी चढ़ जाऊंगी. गाय मत खाओ. मंदिर बनकर रहेगा. मंदिर के लिए जान दे देंगे. मंदिर के लिए जान ले लेंगे. वंदे मातरम गाओ. भारत माता की जय बोलो वरना पाकिस्तान चले जाओ. किसान को गोरक्षकों ने पीटा तो अच्छा किया. सिर काट लाओ, एक करोड़ देंगे.’

ईवीएम की गड़बड़ी को लेकर निर्वाचन आयोग को केजरीवाल ने बताया ‘धृतराष्ट्र’

दिल्ली में हुई प्रेस वार्ता के दौरान मुख्यमंत्री ने कहा कि आयोग अपने बेटे दुर्योधन को साम, दाम, दंड, भेद करके सत्ता दिलवाना चाहता है.

1 616 617 618 619 620 637