External Affairs

अफ़ग़ानिस्तान: काबुल में तालिबान का प्रवेश, कहा- राजधानी को जबरन क़ब्ज़े में लेने की योजना नहीं

अफ़ग़ानिस्तान की राजधानी काबुल में प्रवेश के साथ ही तालिबान के प्रवक्ता ने कहा कि वो शांतिपूर्ण हस्तांतरण का इंतज़ार कर रहे हैं. अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडन ने कहा कि अगर अफ़ग़ानिस्तान की सेना अपने देश पर नियंत्रण बनाए नहीं रख सकती या नहीं रखती है, तो भले ही एक और साल हो या पांच और साल, अमेरिकी सेना की उपस्थिति से कोई फ़र्क़ नहीं पड़ता.

अफगानिस्तान: तालिबान ने काबुल के निकट प्रांत पर किया कब्जा, उत्तरी शहर पर हमला किया

अफगानिस्तान से अमेरिका की पूरी वापसी में तीन सप्ताह से भी कम समय शेष बचा है और ऐसे में तालिबान ने उत्तर, पश्चिम और दक्षिण अफगानिस्तान के अधिकतर हिस्सों पर कब्जा कर लिया है. भारत सहित 12 देशों ने कहा है कि वे ऐसी किसी भी सरकार को मान्यता नहीं देंगे जो सैन्य बल के माध्यम से थोपी जाएगी.

पाकिस्तान: अफ़ग़ानिस्तान के राजदूत की बेटी को कई घंटों तक बंधक बनाकर की गई मारपीट

पाकिस्तान में अफ़ग़ानिस्तान के राजदूत नजीबुल्लाह अलीखिल की 26 वर्षीय बेटी को पांच से अधिक घंटे तक बंधक बनाए रखा गया. इस स्तब्धकारी घटना के मामले में फ़िलहाल किसी को गिरफ़्तार नहीं किया गया है. अफ़ग़ानिस्तान के विदेश मंत्रालय ने मामले की तत्काल जांच की मांग की है.

अफ़ग़ानिस्तान संकट: ताशकंद सम्मेलन में इमरान ख़ान की मौजूदगी में पाकिस्तान पर बरसे अशरफ़ ग़नी

अफ़ग़ानिस्तान के राष्ट्रपति अशरफ़ ग़नी का जवाब देते हुए पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान ख़ान ने कहा कि अफ़ग़ानिस्तान में उथल-पुथल से सबसे ज़्यादा प्रभावित देश पाकिस्तान है. उन्होंने कहा कि वह ग़नी की टिप्पणियों से मायूस हैं और तालिबान को बातचीत की मेज पर लाने के लिए पाकिस्तान ने जितनी कोशिशें की हैं, उतनी किसी भी मुल्क ने नहीं की हैं.

तालिबान ने अफ़ग़ानिस्तान के 85 फ़ीसदी हिस्से पर क़ब्जे़ का दावा किया, भारत ने राजनयिकों को बुलाया

अफ़ग़ान सरकार के अधिकारियों ने इस दावे को ख़ारिज कर दिया कि तालिबान ने देश के अधिकांश हिस्से को नियंत्रित किया है. भारत ने कंधार के आसपास के नए इलाकों पर तालिबान के क़ब्ज़े के मद्देनज़र अपने वाणिज्य दूतावास से क़रीब 50 राजनयिकों और सुरक्षाकर्मियों को वापस बुला लिया है. अमेरिका के राष्ट्रपति द्वारा अफ़ग़ानिस्तान में वर्षों से चल रहे युद्ध को समाप्त करने की घोषणा मध्य अप्रैल में किए जाने के बाद तालिबान ने पूरे देश में अपनी गतिविधियां बढ़ा दीं.

तालिबानी नेताओं के साथ जयशंकर की मुलाक़ात के दावों को भारत ने ‘पूरी तरह झूठा’ बताया

क़तर के एक मंत्री ने रिकॉर्ड पर बताया था कि एक भारतीय प्रतिनिधिमंडल ने दोहा में तालिबान से मुलाकात की थी. मंगलवार को एक अफगान पत्रकार सामी यूसुफजई ने ट्वीट किया कि क्वेटा शूरा में अफ़ग़ान तालिबान के सूत्रों ने उन्हें बताया था कि भारतीय विदेश मंत्री की तालिबान के नेताओं से मुलाक़ात हुई थी.

क्या अफ़ग़ानिस्तान में फिर बनेगी तालिबानी सरकार?

वीडियो: एक मई से अमेरिकी फौज ने अफ़ग़ानिस्तान से बाहर जाना शुरू किया, तब तक वहां 407 ज़िलों में से 69 पर तालिबान का वर्चस्व था, लेकिन जून आते-आते इसने कई ज़िलों में अपनी पकड़ मजबूत की है. इस मुद्दे पर जेएनयू के प्रोफ़ेसर गुलशन सचदेव से द वायर की सीनियर एडिटर आरफ़ा ख़ानम शेरवानी की बातचीत.

तालिबान से मुलाकात करने के लिए भारतीय दल क़तर आया था: क़तर के सरकारी अधिकारी

आतंकवाद और संघर्ष समाधान की मध्यस्थता के लिए क़तर के विशेष दूत मुतलाक़ बिन माजिद अल क़हतानी की इस महत्वपूर्ण टिप्पणी के बाद भारत सरकार की ओर से कोई प्रतिक्रिया नहीं आई है. आधिकारिक तौर पर अफ़गानिस्तान में भारत केवल अफ़गान सरकार को वैध हितधारक के रूप में मान्यता देता है.

क्या चीन को लेकर भारत को अपनी रणनीति बदलने की ज़रूरत है?

परमाणु आपूर्तिकर्ता समूह में भारत की सदस्यता या मसूद अज़हर के मामले में चीन के रवैये को लेकर नाराजगी जताने के और भी तरीके हैं.