politics

पश्चिम बंगाल: भाजपा सांसद अर्जुन सिंह दोबारा टीएमसी में शामिल

अर्जुन सिंह ने 2019 के लोकसभा चुनाव से कुछ समय पहले ही तृणमूल कांग्रेस छोड़कर भाजपा का दामन थामा था और बैरकपुर लोकसभा सीट से चुनाव जीते थे. बंगाल में भाजपा के प्रदेश उपाध्यक्ष का पद संभाल रहे सिंह ने बीते हफ्ते पार्टी के राज्य नेतृत्व पर ठीक से काम न करने देने का आरोप लगाया था.

पंजाब कांग्रेस: रोड रेज़ केस में सिद्धू को एक साल की सज़ा, सुनील जाखड़ ने थामा भाजपा का दामन

27 दिसंबर, 1988 को पटियाला में हुई रोड रेज़ की इस घटना के समय कांग्रेस नेता नवजोत सिंह सिद्धू के साथ उनके दोस्त रूपिंदर सिंह संधू उर्फ बनी भी थे. दोनों ने कथित तौर पर 65 वर्षीय गुरनाम सिंह के साथ मारपीट की थी, जिनकी बाद में मौत हो गई थी.​ शुक्रवार को सिद्धू ने पटियाला की अदालत में आत्मसमर्पण कर दिया. वहीं भाजपा में शामिल होने के बाद सुनील जाखड़ ने कांग्रेस पर पंजाब को बांटने की कोशिश का आरोप लगाया है.

दिल्ली: उपराज्यपाल अनिल बैजल ने इस्तीफ़ा दिया

दिसंबर 2016 में अपने पूर्ववर्ती नजीब जंग के अचानक इस्तीफ़े के बाद पूर्व नौकरशाह अनिल बैजल ने दिल्ली के उपराज्यपाल का पद संभाला था. अब उन्होंने निजी कारणों का हवाला देते हुए अपना इस्तीफ़ा राष्ट्रपति को भेज दिया है.

गुजरात विधानसभा चुनाव से कुछ महीने पहले हार्दिक पटेल ने कांग्रेस से इस्तीफ़ा दिया

गुजरात के पाटीदार नेता हार्दिक पटेल ने कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी को भेजे गए त्याग-पत्र में यह जानकारी दी कि उन्होंने पार्टी की प्राथमिक सदस्यता से इस्तीफ़ा दे दिया है. हार्दिक ने कांग्रेस पर गुजरात विरोधी सोच होने का आरोप लगाया और दावा किया कि कांग्रेस सिर्फ़ विरोध की राजनीति कर रही है और ख़ुद को एक विकल्प के तौर पर पेश करने में विफल रही है.

क्या शिवपाल यादव का इस्तेमाल अखिलेश यादव को कमज़ोर करने के लिए हो रहा है?

वीडियो: प्रगतिशील समाजवादी पार्टी के मुखिया शिवपाल यादव ने आज़म ख़ान से जेल में मुलाकात की और वही बात कही जो योगी आदित्यनाथ ने पहले कही थी कि सपा प्रमुख अखिलेश यादव को अपने नेता आज़म ख़ान के लिए कुछ करना चाहिए था. हालांकि इस बार उन्होंने अपने भाई मुलायम सिंह पर भी निशाना साधते हुए कहा कि नेताजी को लोकसभा में आज़म ख़ान की आवाज़ उठानी चाहिए थी.

बिप्लब देब के अचानक इस्तीफ़ा देने के बाद माणिक साहा ने त्रिपुरा के मुख्यमंत्री पद की शपथ ली

अगले साल होने वाले विधानसभा चुनाव से पहले बिप्लब कुमार देब के शनिवार शाम मुख्यमंत्री पद से अचानक इस्तीफ़ा देने के बाद 69 वर्षीय माणिक साहा इस पद पर काबिज हुए हैं. शपथ ग्रहण के बाद साहा ने कहा कि वह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के विकास के एजेंडे को आगे बढ़ाते हुए त्रिपुरा के लोगों के लिए काम करेंगे.

न्यूनतम सरकार, अधिकतम शासन का अर्थ देश को निरंतर ध्रुवीकरण की स्थिति में रखना है: सोनिया गांधी

पार्टी के चिंतन शिविर में कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने कहा कि ‘न्यूनतम सरकार, अधिकतम शासन’ का मतलब इतिहास को नए सिरे से सामने रखना, जवाहर लाल नेहरू जैसे स्वतंत्रता सेनानियों को कमतर दिखाना, महात्मा गांधी के हत्यारे का महिमांडन करना है. संविधान के सिद्धांतों और न्याय, स्वतंत्रता और धर्मनिरपेक्षता जैसी बुनियादों को कमज़ोर करना है. भाजपा ने कहा कि सोनिया को कांग्रेस को पुनर्जीवित करने में ऊर्जा लगानी चाहिए, देश सुरक्षित हाथों में है.

त्रिपुरा: बिप्लब कुमार देब का पद से इस्तीफ़ा, माणिक साहा होंगे अगले मुख्यमंत्री

त्रिपुरा में पार्टी के मामलों की केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह और भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा से चर्चा के लिए बिप्लब कुमार देब बीते 12 मई को राजधानी दिल्ली पहुंचे थे. इस्तीफ़े के बाद उन्होंने कहा कि पार्टी सबसे ऊपर है. पार्टी प्रमुख और मुख्यमंत्री दोनों के रूप में त्रिपुरा की बेहतरी के लिए काम करने की कोशिश की.

सुनील जाखड़ ने पार्टी छोड़ते हुए कहा, भविष्य के लिए शुभकामनाएं और अलविदा कांग्रेस

कांग्रेस ने कथित पार्टी विरोधी गतिविधियों के लिए पिछले महीने सुनील जाखड़ को सभी पदों से हटा दिया था. पंजाब कांग्रेस के पूर्व प्रमुख जाखड़ 11 अप्रैल को उन्हें मिले ‘कारण बताओ’ नोटिस को लेकर पार्टी से नाराज़ थे. इस्तीफ़ा देते समय उन्होंने पार्टी नेतृत्व और ख़ासकर अंबिका सोनी पर निशाना साधा.

देर रात सुनवाई के बाद अदालत ने भाजपा नेता ​तेजिंदर बग्गा की गिरफ़्तारी पर 10 मई तक रोक लगाई

पंजाब और हरियाणा हाईकोर्ट के जस्टिस अनूप चितकारा ने आधी रात से ठीक पहले अत्यावश्यक आधार पर बग्गा की याचिका पर अपने आवास पर सुनवाई की थी. भड़काऊ भाषण के मामले में बग्गा को पंजाब पुलिस ने बीते छह मई को राष्ट्रीय राजधानी स्थित उनके आवास से गिरफ़्तार किया था. पुलिस उन्हें अपने राज्य पंजाब ले जा र​ही थी, लेकिन बीच रास्ते यानी हरियाणा के कुरुक्षेत्र में उन्हें हरियाणा पुलिस ने रोक लिया था. इसके बाद दिल्ली पुलिस बग्गा को वापस राजधानी लेकर आ गई थी.

ईद पर जोधपुर में दंगा, सांप्रदायिक हिंसा से किसको फ़ायदा?

वीडियो: ईद के दिन राजस्थान में जोधपुर शहर के जालौरी गेट इलाके में सांप्रदायिक झड़प हो गई थी. इसे लेकर राज्य में सत्तारूढ़ कांग्रेस ने कई प्रदेशों में हुई सांप्रदायिक झड़पों का हवाला देते हुए भाजपा पर चुनावी राज्यों में नफ़रत फैलाने का आरोप लगाया है.

पंजाब पुलिस द्वारा गिरफ़्तार करने के बाद दिल्ली पुलिस तेजिंदर बग्गा को वापस राजधानी ले आई

पंजाब पुलिस भड़काऊ भाषण देने के आरोप में दिल्ली भाजपा के प्रवक्ता तेजिंदर पाल सिंह बग्गा को शुक्रवार को सुबह राष्ट्रीय राजधानी स्थित उनके ​घर से गिरफ़्तार कर पंजाब ले जा रही थी, लेकिन रास्ते में उन्हें हरियाणा पुलिस ने रोक लिया था. दिल्ली आने के बाद बग्गा ने कहा है कि हम तब तक लड़ते रहेंगे जब तक अरविंद केजरीवाल कश्मीरी पंडितों के बारे में अपने बयान के लिए माफ़ी नहीं मांग लेते.

दिल्ली पुलिस द्वारा तेंजिदर बग्गा को हिरासत में लिए जाने के बाद पंजाब पुलिस हाईकोर्ट पहुंची

पंजाब पुलिस ने भड़काऊ बयान देने के आरोप में दिल्ली भाजपा के प्रवक्ता तेजिंदर बग्गा को दिल्ली स्थित उनके घर से गिरफ़्तार किया गया था. हालांकि पंजाब जाते समय हरियाणा पुलिस ने पंजाब पुलिस टीम को कुरुक्षेत्र में रोक लिया था. इसके बाद ​जब दिल्ली पुलिस वहां पहुंची तो बग्गा को उनकी हिरासत में सौंप दिया गया. दिल्ली पुलिस ने पंजाब पुलिस के ख़िलाफ़ ‘अपहरण’ का मामला दर्ज किया है.

राजस्थान: जोधपुर में कर्फ्यू जारी, उपद्रव के आरोप में 141 गिरफ़्तार

जोधपुर में जालौरी गेट इलाके में सोमवार देर रात एक स्वतंत्रता सेनानी की प्रतिमा पर झंडा फहराने और हटाने को लेकर दो समुदायों के बीच झड़प के बाद कई क्षेत्रों ने कर्फ्यू लगाया गया था. सत्तारूढ़ कांग्रेस ने कई राज्यों में हुई सांप्रदायिक झड़पों का हवाला देते हुए भाजपा पर चुनावी राज्यों में नफ़रत फैलाने का आरोप लगाया है.

गुजरात कांग्रेस विधायक अश्विन कोतवाल ने अन्याय का हवाला देकर इस्तीफ़ा दिया, भाजपा में शामिल

अनुसूचित जनजाति के उम्मीदवारों के लिए आरक्षित साबरकांठा जिले की खेड़ब्रह्मा सीट से तीन बार विधायक रहे आदिवासी नेता अश्विन कोतवाल ने कहा कि जो जनता के बीच लोकप्रिय हैं, उन्हें टिकट देने के बजाय कांग्रेस पार्टी नेतृत्व केवल उन लोगों का पक्ष लेती है, जो उनके प्रति वफादार रहे हैं. कोतवाल के इस्तीफ़े के बाद 182 सदस्यीय राज्य विधानसभा में कांग्रेस के सदस्य घटकर 63 हो गए, जबकि भाजपा के पास 111 सदस्यों के साथ बहुमत है.