Suvendu Adhikari

मदन मित्रा और सोवन चटर्जी के एसएसकेएम अस्पताल में भर्ती होने के बाद वहां तैनात कोलकाता पुलिस के कर्मचारी. (फोटो: पीटीआई)

नारदा स्टिंग: तबियत बिगड़ने के बाद अस्पताल में भर्ती हुए दो गिरफ़्तार नेता, ज़मानत पर लगी रोक

नारदा स्टिंग ऑपरेशन मामले में सीबीआई द्वारा गिरफ़्तार चार नेताओं में से दो- टीएमसी विधायक मदन मित्रा और पार्टी के पूर्व नेता शोभन चटर्जी की जेल में तबियत बिगड़ने के बाद उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया है. इससे पहले सोमवार को निचली अदालत से मिली ज़मानत पर रोक लगाते हुए कलकत्ता हाईकोर्ट ने चारों नेताओं को जेल भेज दिया था.

(फोटो: पीटीआई)

पश्चिम बंगाल: विधानसभा चुनाव में जीतने वाले दो भाजपा सांसदों ने विधायक के पद से इस्तीफ़ा दिया

भाजपा सांसद जगन्नाथ सरकार और नीसिथ प्रमाणिक ने कहा कि भाजपा नेतृत्व के निर्देश पर वे विधायक पद से इस्तीफ़ा दे रहे हैं. जगन्नाथ सरकार ने इस बात पर जोर दिया कि सांसद रहने के बावजूद उनका विधानसभा चुनाव लड़ना और जीतने के बाद इस्तीफ़ा देना भाजपा की किसी भी तरह संगठनात्मक कमज़ोरी को नहीं दर्शाता.

पश्चिम बंगाल भाजपा के सदस्य. (प्रतीकात्मक फोटो: ट्विटर)

पश्चिम बंगाल: भाजपा के सभी 77 विधायकों को सुरक्षा मिली, केंद्रीय गृह मंत्रालय ने दी मंज़ूरी

आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि गृह मंत्रालय के आदेश के मुताबिक 77 में से 61 विधायकों को न्यूनतम ‘एक्स’ श्रेणी की सुरक्षा दी जाएगी और सीआईएसएफ के कमांडो तैनात किए जाएंगे. उन्होंने बताया कि बाकी को या तो केंद्रीय सुरक्षा प्राप्त है अथवा उन्हें उच्च ‘वाई’ श्रेणी की सुरक्षा मुहैया कराई जाएगी.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ अमित शाह. (फोटो: रॉयटर्स)

बंगाल के चुनाव परिणाम ने भाजपा को ‘एक देश, एक संस्कृति’ की सीमा बता दी है

कई सालों से मोदी-शाह की जोड़ी ने चुनाव जीतने की मशीन होने की जो छवि बनाई थी, वह कई हारों के कारण कमज़ोर पड़ रही थी, मगर इस बार की चोट भरने लायक नहीं है. वे एक ऐसे राज्य में लड़खड़ाकर गिरे हैं, जो किसी हिंदीभाषी के मुंह से यह सुनना पसंद नहीं करता कि वे उनके राज्य को कैसे बदलने की योजना रखते हैं.

विधानसभा चुनाव में जीत के बाद ममता बनर्जी. (फोटो: पीटीआई)

नंदीग्राम: अदालत जाएंगी ममता, कहा- घोषणा के बाद चुनाव आयोग फ़ैसला कैसे बदल सकता है

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने नंदीग्राम के निर्वाचन अधिकारी द्वारा सीईओ कार्यालय को भेजे एक कथित एसएमएस को सार्वजनिक करते हुए दावा किया कि अधिकारी को अपने जीवन का ख़तरा था इसलिए उन्होंने फिर से मतगणना के आदेश नहीं दिए.

विधानसभा चुनाव में जीत के बाद भतीजे अभिषेक की बेटी के साथ ममता बनर्जी. (फोटो: पीटीआई)

बंगाल परिणाम: टीएमसी की जीत नहीं, उन दो नेताओं की हार महत्त्वपूर्ण है

बंगाल के समाज के सामूहिक विवेक ने भी उस ख़तरे को पहचाना, जिसका नाम भाजपा है. तृणमूल कांग्रेस की यह जीत इसलिए बंगाल में छिछोरेपन, लफंगेपन, गुंडागर्दी, उग्र और हिंसक बहुसंख्यकवाद की हार भी है.

शुभेंदु अधिकारी और ममता बनर्जी. (फोटो: फेसबुक/पीटीआई)

बंगाल में तृणमूल कांग्रेस की जीत, नंदीग्राम में शुभेंदु अधिकारी से हारीं ममता बनर्जी

नंदीग्राम विधानसभा क्षेत्र के आधिकारिक नतीजे आने से पहले घंटों तक भ्रम की स्थिति रही, क्योंकि मीडिया के एक धड़े में अधिकारी पर ममता की जीत की ख़बर चलने लगी थी. तृणमूल कांग्रेस ने इसके मद्देनज़र मुख्य निर्वाचन अधिकारी को पत्र लिखकर दोबारा मतदान कराने की मांग की. हालांकि आयोग ने पार्टी के इस अनुरोध को ख़ारिज कर दिया.

WhatsApp Image 2021-03-28 at 20.15.38

बंगाल: नंदीग्राम का संग्राम; द वायर उस सुदूर गांव में, जहां कोई मीडिया नहीं पहुंचा

वीडियो: ​पश्चिम बंगाल में भूमि आंदोलन का गवाह रहा नंदीग्राम अब राज्य की राजनीति का केंद्रबिंदु बन रहा है. मुख्यमंत्री ममता बनर्जी और टीएमसी से भाजपा में गए शुभेंदु अधिकारी यहां से चुनाव मैदान में हैं. द वायर की टीम नंदीग्राम के एक ऐसे सुदूर गांव में पहुंची, जहां राष्ट्रीय मीडिया कभी नहीं पहुंचा. आरफ़ा ख़ानम शेरवानी की रिपोर्ट.

ममता बनर्जी और नरेंद्र मोदी. (फोटो: पीटीआई/पीआईबी)

पश्चिम बंगाल: क्या राज्य में लंबा चुनावी कार्यक्रम भाजपा को भारी पड़ सकता है

पश्चिम बंगाल में आठ चरणों के मतदान कार्यक्रम को भाजपा की रणनीति का हिस्सा बताया जा रहा है, हालांकि ममता बनर्जी भी अप्रत्याशित रूप में लंबे इस मतदान कार्यक्रम का लाभ अपने उम्मीदवारों के लिए डटकर प्रचार के साथ ही हरेक दौर के लिए सापेक्ष रणनीति बनाने के लिए उठा सकती हैं.

(फोटो: पीटीआई/रॉयटर्स)

क्या विधानसभा चुनाव में ममता बनर्जी का ब्रह्मास्त्र साबित होगा नंदीग्राम

टीएमसी नेताओं के लगातार पार्टी छोड़ने के बीच ममता बनर्जी अपने प्रतिद्वंदियों से बुरी तरह घिरी नज़र आ रही हैं. भाजपा के आक्रामक हमलों के बीच ममता ने टीएमसी के गढ़ नंदीग्राम से चुनाव लड़ने का ऐलान किया है. क्या यह दांव उनके राजनीतिक विरोधियों को पस्त कर पाएगा?

ममता बनर्जी. (फोटो: पीटीआई)

पश्चिम बंगाल: ममता बनर्जी का ऐलान, नंदीग्राम से लड़ेंगी विधानसभा चुनाव

नंदीग्राम में ज़मीन अधिग्रहण के विरुद्ध विशाल जनांदोलन के चलते ही ममता बनर्जी उभरी थीं और 2011 में तृणमूल कांग्रेस सत्ता में पहुंची थी. साल 2016 में तृणमूल कांग्रेस के टिकट पर यहां से चुनाव जीतने वाले शुभेंदु अधिकारी कुछ दिन पहले ही भाजपा में शामिल हुए हैं.

नारदा स्टिंग ऑपरेशन में कैमरे में कैद शुभेंदु अधिकारी.

बंगाल नारद स्टिंग: भाजपा ने अपने यूट्यूब पेज से शुभेंदु अधिकारी के घूस लेने वाला वीडियो हटाया

बीते शनिवार को केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने पश्चिम बंगाल के दौरे पर दिग्गज नेता और ममता बनर्जी सरकार के पूर्व मंत्री शुभेंदु अधिकारी को भाजपा में शामिल कराया था. टीएमसी में रहने के दौरान शुभेंदु अधिकारी एक स्टिंग ऑपरेशन के दौरान कैमरे में घूस लेते हुए क़ैद हुए थे और भाजपा ने तब इस मामले को ज़ोर-शोर से उछाला था.

West Midnapore: Union Home Minister Amit Shah (R) with Subhendu Adhikary (2L), former TMC leader who joined BJP, during an election rally ahead of West Bengal Assembly polls 2021, in West Midnapore district, Saturday, Dec. 19, 2020. (PTI Photo)(PTI19-12-2020 000181B)

टीएमसी नेता शुभेंदु अधिकारी, सांसद सुनील मंडल भाजपा में शामिल, नौ विधायक भी पार्टी में आए 

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह की रैली में भाजपा में शामिल होने वाले विधायकों में पांच तृणमूल कांग्रेस के हैं. शुभेंदु अधिकारी ने कहा कि बंगाल में अगली सरकार भाजपा बनाएगी. अमित शाह ने दावा किया कि विधानसभा चुनाव आने तक पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री अपनी पार्टी में अकेली रह जाएंगी.

Kolkata: West Bengal Chief Minister Mamata Banerjee during a sit-in over the CBI's attempt to question the Kolkata Police commissioner in connection with chit fund scams, in Kolkata, Monday, Feb. 04, 2019. (PTI Photo/Ashok Bhaumik)(PTI2_4_2019_000163B)

बंगाल: तृणमूल कांग्रेस के एक और विधायक ने दिया इस्तीफ़ा, 24 घंटे में तीन लोगों ने छोड़ी पार्टी

पश्चिम बंगाल में बैरकपुर के विधायक शीलभद्र दत्ता से पहले बीते बृहस्पतिवार को तृणमूल कांग्रेस के कद्दावर नेता और मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के सहयोगी शुभेंदु अधिकारी और पांडबेश्वर के विधायक जितेंद्र तिवारी ने इस्तीफ़ा दे दिया था.