समाज

हमें अतिराष्ट्रवाद और पितृसत्तात्मक सोच पर हमला करना चाहिए: कंगना रनौत

अभिनेत्री कंगना रनौत ने कहा कि पद्मावती के निर्देशक संजय लीला भंसाली और अभिनेत्री दीपिका पादुकोण का समर्थन करने के लिए एकजुट होने ज़रूरत है.

अभिनेत्री कंगना रनौत और फिल्म पद्मावती का पोस्टर. (फोटो साभार: फेसबुक)

अभिनेत्री कंगना रनौत और फिल्म पद्मावती का पोस्टर. (फोटो साभार: फेसबुक)

मुंबई: अभिनेत्री कंगना रनौत का कहना है कि फिल्म बिरादरी को निर्देशक संजय लीला भंसाली और अभिनेत्री दीपिका पादुकोण का समर्थन करने की ज़रूरत है. फिल्म पद्मावती के चलते दोनों को जान से मारने की धमकी मिली है.

30 वर्षीय अभिनेत्री ने हाल में शबाना आजमी के नेतृत्व में शुरू किए गए दीपिका बचाओ अभियान का समर्थन करने से इनकार कर दिया था लेकिन कहा था कि वह फिल्मनगरी के अपने साथी कलाकारों के साथ खड़ी हैं.

गुरुवार रात आयोजित रीबॉक के फिट टू फाइट पुरस्कार समारोह से इतर कंगना ने कहा, ‘हमारे आसपास जो कुछ भी हो रहा है, उसे लेकर हमें एकजुट होने की ज़रूरत है. चाहे अकेले या फिर मिलकर अगर हम अपने साथी कलाकारों की मदद कर सकते हैं तो हमें ऐसा करना चाहिए. हमारा पूरा समर्थन अपने साथी कलाकारों के साथ है.’

इस घटना की तुलना उन्होंने अपनी बहन पर हुए तेजाब हमले से की और कहा कि ऐसी चीज़ें समाज के पितृसत्तात्मक सोच को रेखांकित करती हैं और इनकी निंदा की जानी चाहिए.

उन्होंने कहा, ‘यह बहुत गलत है लेकिन इससे लोगों को हैरान नहीं होना चाहिए क्योंकि जैसा सभी जानते हैं कि जब मेरी बहन स्कूल में थी तब उस पर तेजाब हमला हुआ था या अब जबकि मैं पेशेवर माहौल में हूं एक सुपरस्टार ऋतिक रोशन ने मुझे जेल पहुंचाने की कोशिश की. हमारे समाज में यह सब आम है.’

उन्होंने कहा, ‘आप किसी एक व्यक्ति या अतिराष्ट्रवाद या पितृसत्तात्मकता या अपनी दकियानूसी सोच पर हमला करना चाहते हैं… हमें इन चीज़ों पर हमला करना चाहिए… हमें सोच पर हमला करना होगा, हमें यह करना होगा और हम यह कर रहे हैं चाहे यह हमारे काम, भाषण या फिर हमारी फिल्मों के माध्यम से हो.’

अभिनेत्री ने कहा कि फिल्में एक शक्तिशाली माध्यम हैं और यह कहना गलत होगा कि किसी को उनके बारे में भावनात्मक नहीं होना चाहिए.

कंगना ने इससे पहले एक बयान में कहा था कि वह ऐसी किसी अर्ज़ी पर दस्तख़त नहीं करेंगी क्योंकि इसे ऐसे शख़्स शबाना आज़मी ने शुरू किया है जिन्होंने मेरा चरित्र हनन किया. उन्होंने कहा कि वह निजी तौर पर दीपिका का समर्थन करती हैं लेकिन वह इस अर्ज़ी पर हस्ताक्षर नहीं करेंगी.

उन्होंने कहा, हमारे देश में मौजूदा स्थिति के बारे में मेरे अपने विचार और दृष्टिकोण हैं. मैं ऐसी कई चीज़ों से दूरी बरतती हूं या उस शख़्स द्वारा शुरू किए गए दीपिका बचाओ नामक महिलावादी आंदोलन का हिस्सा नहीं बनने जा रही हूं जिसने उस वक्त मेरा चरित्र हनन किया था जब मुझे डराया-धमकाया जा रहा था. वह भी उन्हीं में से एक हैं.

उन्होंने कहा कि अनुष्का ने मेरी बात समझी लेकिन मुझे खुशी है कि उन्होंने मुझसे संपर्क किया.

पद्मावती को लेकर राजपूत समुदाय और कुछ सियासी संगठनों में गुस्सा है और उन्होंने भंसाली पर तथ्यों को तोड़-मरोड़कर पेश करने का आरोप लगाया है.

मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने भी फिल्म का विरोध किया है. इसके अलावा भाजपा से जुड़े कई नेता भी फिल्म के विरोध में नज़र आ रहे हैं.

पद्मावती को लेकर तमाम नेताओं की बयानबाज़ी को लेकर सुप्रीम कोर्ट ने उन्हें फटकार लगाई थी. इसके अलावा फिल्म पर प्रतिबंध लगाने की मांग को भी शीर्ष अदालत ने ख़ारिज कर दिया था.

फिल्म पद्मावती एक दिसंबर को रिलीज़ होने वाली थी. फिल्म में अभिनेत्री दीपिका पादुकोण रानी पद्मावती के रोल में हैं. उनके अलावा रनवीर सिंह अलाउद्दीन ख़िलजी और शाहिद कपूर राजा रतन सिंह की भूमिका में नज़र आएंगे. अदिति राव हैदरी फिल्म में अलाउद्दीन ख़िलजी की पत्नी की भूमिका में नज़र आएंगी.

(समाचार एजेंसी भाषा से इनपुट के साथ)

Comments