मीडिया

वरिष्ठ पत्रकार नीलाभ मिश्रा का निधन

नीलाभ ने साल 2016 में नेशनल हेराल्ड को एक डिजिटल वेबसाइट के रूप में दोबारा शुरू किया था. इसकी स्थापना साल 1938 में पंडित जवाहर लाल नेहरू ने की थी.

वरिष्ठ पत्रकार नीलाभ मिश्रा. (फोटो साभार: नेशनल हेराल्ड)

वरिष्ठ पत्रकार नीलाभ मिश्रा. (फोटो साभार: नेशनल हेराल्ड)

नई दिल्ली: वरिष्ठ पत्रकार एवं नेशनल हेराल्ड व नवजीवन के प्रधान संपादक नीलाभ मिश्रा का शनिवार को चेन्नई के एक अस्पताल में निधन हो गया. वह 57 वर्ष के थे. वह गंभीर रूप से बीमार थे और लीवर की पुरानी बीमारी की जटिलताओं से जूझ रहे थे.

उन्हें इस महीने की शुरुआत में चेन्नई के अपोलो अस्पताल में भर्ती कराया गया था और इसके पहले कि उनका यकृत प्रतिरोपित हो पाता, उनके कई अंगों ने काम करना बंद कर दिया.

नीलाभ ने साल 2016 में नेशनल हेराल्ड को एक डिजिटल वेबसाइट के रूप में दोबारा शुरू किया था. नेशनल हेराल्ड की स्थापना देश के प्रथम प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू ने 1938 में की थी. इसके बाद 2017 में मिश्रा ने नेशनल हेराल्ड को रविवारीय समाचार पत्र के रूप में फिर से लॉन्च किया था.

इसके बाद ‘नवजीवन’ और ‘क़ौमी आवाज़’ न्यूज़ वेबसाइट को भी रिलॉन्च किया. नेशनल हेराल्ड से पहले वह कई सालों तक आउटलुक हिंदी मैगज़ीन के संपादक रहे.

नेशनल हेराल्ड की वेबसाइट पर जारी एक बयान में कहा गया, ‘नेशनल हेराल्ड अपने प्रधान संपादक, लीडर एवं मित्र नीलाभ मिश्रा के निधन की सूचना देता है. 24 फरवरी को उनका निधन हो गया. उनके परिवार में लंबे समय से पार्टनर कविता श्रीवास्तव, भाई शैलोज कुमार, भाभी सुधा और भतीजी नवाशा है.’

बयान के मुताबिक, ‘मिश्र को इस माह की शुरुआत में चेन्नई के अपोलो अस्पताल में भर्ती कराया गया था. वे नॉन एल्कोहलिक लीवर सिरोसिस से पीड़ित थे. इससे पहले कि उनका लीवर प्रतिरोपित हो पाता उनके अनेक अंगों ने काम करना बंद कर दिया. आज उन्होंने अंतिम सांस ली. उस वक़्त उनके रिश्तेदार और मित्र मौजूद थे.’

उन्होंने दिल्ली विश्वविद्यालय से अंग्रेज़ी साहित्य में एमए किया था. तीन दशक के पत्रकारिता करिअर की शुरुआत उन्होंने अपने गृहनगर पटना से बतौर रिपोर्टर नवभारत टाइम्स से की थी. इसके बाद वह जयपुर में न्यूज़ टाइम से बतौर संवाददाता जुड़े. साल 1998 में उन्होंने ईटीवी राजस्थान शुरू किया था.

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने मिश्रा के निधन पर शोक व्यक्त किया और उन्हें एक ऐसा व्यक्ति बताया जिसने हमेशा मज़बूती के साथ सच्चाई का पक्ष रखा.

उन्होंने ट्वीट किया, ‘वे संपादकों के संपादक थे. ऐसा व्यक्ति जिसने मज़बूती के साथ सच बोला. संस्थान निर्माता थे. नीलाभ मिश्रा के निधन पर उनके परिजन, मित्रों, सहकर्मियों और प्रशांसकों के प्रति मैं अपनी गहरी संवेदनाएं व्यक्त करता हूं.’

(समाचार एजेंसी भाषा से इनपुट के साथ)

Comments