नॉर्थ ईस्ट

मेघालय: चोरी के शक में दो लोगों की पीट-पीट कर हत्या, एक व्यक्ति गंभीर रूप से घायल

मेघालय के वेस्ट गारो हिल्स ज़िले के चनांगपारा गांव का मामला. गांव में कुछ दिन पहले चोरी होने के बाद एक कार में मिले तीन संदिग्ध व्यक्तियों की गांववालों ने जमकर पिटाई की.

Meghalaya

शिलांग: मेघालय के वेस्ट गारो हिल्स जिले में भीड़ ने दो लोगों की पीट-पीटकर हत्या कर दी. इस घटना में एक अन्य व्यक्ति गंभीर रूप से घायल है. उनकी स्थिति गंभीर बताई जा रही है.

पुलिस ने बीते शुक्रवार को बताया कि यह जिले के घटना चनांगपारा गांव में उस समय हुई, जब स्थानीय लोगों को एक कार में तीन संदिग्ध लोगों के होने की बात पता चली. दरअसल कुछ दिन पहले गांव में चोरी हुई थी इस वजह से गांव के लोग सशंकित थे.

प्रत्यक्षदर्शियों के अनुसार, लगभग 1,000 लोगों की भीड़ ने कार को रोका और कार की डिग्गी खोलकर दिखाने को कहा. डिग्गी खोलने पर उसमें से चाकू, लोहे की रॉड मिलने पर भीड़ ने कार सवार लोगों पर हमला कर दिया.

एनडीटीवी के मुताबिक, हमले के दौरान पीड़ितों ने किसी तरह बचकर गांव के प्रधान के घर में छिपने की कोशिश की लेकिन भीड़ ने उन्हें घर से बाहर घसीटकर उनकी बेरहमी से पिटाई कर दी.

जिला पुलिस महानिरीक्षक एमजीआर कुमार ने कहा, ‘जब हमारी टीम मौके पर पहुंची तो वहां 3,000 से ज्यादा लोग मौजूद थे, उन्हें शांत कराने की कोशिश की गई लेकिन उन्होंने हमारी बात नहीं सुनी और संदिग्धों को पीटते रहे.’

रिपोर्ट के अनुसार, भीड़ के इस हमले में मोकिबुल अकोन्द नाम के शख्स की मौके पर ही मौत हो गई जबकि मिकसेंग मराक को अस्पताल में मृत घोषित कर दिया गया. राबा नाम के एक अन्य शख़्स की हालत गंभीर बताई जा रही है.

हिंदुस्तान टाइम्स के मुताबिक, जिला पुलिस महानिरीक्षक कुमार ने कहा कि तीन दिन पहले गांव के ही एक घर से 60,000 रुपये चुरा लिए गए थे. चोर रात लगभग 11 बजे कार से ही आए थे. इस दौरान घर के कुछ लोगों को चोटें भी आई थीं. हमें लगता है कि इसलिए गांव वाले अजनबियों को लेकर अधिक चौकस थे और यह घटना हो गई.

पुलिस का कहना है कि अकोन्द पर पहले अपहरण का मामला दर्ज हो चुका है और पुलिस पता लगाने की कोशिश कर रही है कि क्या अन्य दो लोगों की भी कोई आपराधिक पृष्ठभूमि रही है.

पुलिस का कहना है कि वह इस हमले में शामिल सभी लोगों की तलाश कर रही है.

(समाचार एजेंसी भाषा से इनपुट के साथ)