कैंपस

निलंबित बीएचयू छात्र की कैंपस में गोली मारकर हत्या

23 वर्षीय गौरव सिंह बनारस हिंदू विश्वविद्यालय से मास्टर्स से पढ़ाई कर रहा था. लंका पुलिस ने बुधवार को गौरव के पिता की तहरीर पर बीएचयू चीफ प्रॉक्टर समेत पांच लोगों के खिलाफ नामजद और तीन अज्ञात के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया है.

गौरव सिंह. (फोटो: फेसबुक)

गौरव सिंह. (फोटो: फेसबुक)

वाराणसी: उत्तर प्रदेश के वाराणसी में स्थित बनारस हिंदू विश्वविद्यालय (बीएचयू) के एक निलंबित छात्र को सोमवार की शाम विश्वविद्यालय परिसर में गोली मारकर हत्या कर दी गई. छात्र को विश्वविद्यालय परिसर में स्थित हॉस्टल गेट के बाहर तीन गोलियां मारी गईं.

एनडीटीवी के अनुसार, छात्र की पहचान गौरव सिंह के रूप में की गई है. बुधवार की सुबह विश्वविद्यालय के अस्पताल में इलाज के दौरान उसने दम तोड़ दिया.

छात्राओं की सुरक्षा के मुद्दे पर साल 2017 में विश्वविद्यालय परिसर में हुए प्रदर्शन के दौरान हिंसा में भूमिका को लेकर 23 वर्षीय गौरव सिंह को विश्वविद्यालय प्रशासन ने निलंबित कर दिया था.

गौरव पर था कि उसने एक बस जलाने में सहयोग किया था. वह बनारस हिंदू विश्वविद्यालय से मास्टर्स की पढ़ाई कर रहा था.

सितंबर 2017 में प्रताड़ना के एक मामले में चल रहा प्रदर्शन हिंसक हो जाने पर पुलिस ने बीएचयू में लाठीचार्ज कर दिया था जिसमें कई छात्र-छात्राओं के साथ दो पत्रकार भी घायल हो गए थे.

मंगलवार की शाम 6:30 बजे गौरव सिंह बिरला हॉस्टल की गेट के बाहर खड़ा होकर दोस्तों से बात कर रहा था. इसी दौरान दो मोटरसाइकिलों पर सवार चार लोगों ने उस पर गोलियां बरसानी शुरू कर दीं और भाग गए.

इस वारदात में गौरव सिंह के पेट मे तीन गोलियां लगीं जिसके बाद उसे परिसर में स्थित ट्रॉमा सेंटर ले जाया गया. बुधवार तड़के करीब 1:30 बजे उसकी मौत हो गई.

उत्तर प्रदेश पुलिस ने कहा कि लड़के पर 10 गोलियां चलाई गईं.

पुलिस ने कहा, ‘लड़के के पिता की शिकायत के आधार पर एक एफआईआर दर्ज करके उन्होंने विश्वविद्यालय के चार छात्रों को गिरफ्तार कर लिया है और उनसे पूछताछ जारी है.’

वाराणसी पुलिस प्रमुख आनंद कुलकर्णी ने कहा, ‘ऐसा लग रहा है कि किसी निजी दुश्मनी के कारण हत्या की गई है. हम सभी पहलूओं से जांच कर रहे हैं. हत्या का मामला दर्ज कर लिया गया है.’

विश्वविद्यालय परिसर में भारी संख्या में पुलिस बल तैनात कर दिया गया है और पुलिस ने छात्रों से शांति बनाए रखने की अपील की है.

अमर उजाला के अनुसार, लंका पुलिस ने बुधवार को गौरव के पिता की तहरीर पर बीएचयू चीफ प्रॉक्टर समेत पांच लोगों के खिलाफ नामजद और तीन अज्ञात के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया है.

रोहनिया थाना अंतर्गत अखरी निवासी राकेश सिंह बीएचयू के कर्मचारी हैं. उनका बड़ा बेटा गौरव और छोटा बेटा सौरभ बीएचयू में पढ़ते हैं.

गौरव के पिता राकेश सिंह की तहरीर पर शिवम द्विवेदी, आशुतोष त्रिपाठी, कुमार मंगलम और रुपेश तिवारी के खिलाफ लंका थाने में हत्या का मुकदमा दर्ज किया गया है.