भारत

हरियाणाः मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर के कश्मीरी बहू वाले बयान पर विवाद

हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने एक कार्यक्रम में कहा कि आने वाले समय में ये संकट खड़ा हो सकता है कि लड़कियां कम और लड़के ज्यादा हो जाएं, तो हमारे धनखड़ (मंत्री) जी ने कहा कि बिहार से लानी पड़ेगी. अब कुछ लोग कह रहे हैं कि कश्मीर खुल गया वहां से ले आएंगे.

मनोहर लाल खट्टर (फोटो: पीटीआई)

मनोहर लाल खट्टर (फोटो: पीटीआई)

फतेहाबादः हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने कश्मीर की लड़कियों को लेकर एक विवादित बयान दिया है. खट्टर ने कहा कि जम्मू कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटने से कश्मीर से लड़कियों को शादी के लिए लाया सकता है.

फतेहाबाद में महर्षि भागीरथ जयंती समारोह को संबोधित करते हुए खट्टर ने कहा, ‘आने वाले समय में ये संकट खड़ा हो सकता है कि लड़कियां कम और लड़के ज्यादा हो जाएं, तो हमारे धनखड़ (मंत्री) जी ने कहा कि बिहार से लानी पड़ेगी. अब कुछ लोग कह रहे हैं कि कश्मीर खुल गया वहां से ले आएंगे.

खट्टर ने कहा, हम लोगों ने बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ जैसी इतनी योजनाएं बनाई हैं. आपको पता है कि हरियाणा का नाम बदनाम था, कि ये बेटियों को मारने वाला प्रदेश है. हमने अभियान चलाया…जो जेंडर रेशियो लड़कियों की संख्या 1000 लड़कों के पीछे 850 थी, अब 1000 लड़कों के पीछे वही लड़कियों की संख्या 933 हो गई है.

उन्होंने कहा, ‘मित्रों 933…850 के 933 हो गई है. एक बहुत बड़ा काम, ये समाज में परिवर्तन का काम है. आखिर बुजुर्ग लोग नौजवान लोग कोई भी इस बात को समझेगा कि आने वाले समय में ये संकट खड़ा हो सकता है कि लड़कियां कम और लड़के ज्यादा हो जाएं, तो हमारे धनखड़ जी ने कहा कि बिहार से लानी पड़ेगी, अब कुछ लोग कह रहे हैं कि कश्मीर खुल गया वहां से ले आएंगे. मजाक की बातें अलग हैं, लेकिन समाज में रेशियो ठीक होगी तो संतुलन ठीक बैठेगा.’

गौरतलब है कि इससे पहले उत्तर प्रदेश के मुज़फ़्फ़रनगर के खतौली से भाजपा विधायक विक्रम सिंह सैनी ने भी इसी तरह का विवादित बयान दिया था.उ

उन्होंने कहा था, ‘अनुच्छेद 370 को खत्म करने से पार्टी के कार्यकर्ता काफी उत्साहित थे क्योंकि अब वे गोरी कश्मीरी लड़कियों से शादी कर सकेंगे. अब भाजपा के अविवाहित कार्यकर्ता कश्मीर में जमीन खरीदने के साथ ही वहां की लड़कियों से शादी कर सकते हैं.’

मालूम हो कि केंद्र सरकार ने जम्मू कश्मीर को विशेष दर्जा दिए जाने वाले अनुच्छेद 370 को हटा दिया है और इसके साथ ही जम्मू कश्मीर और लद्दाख को दो केंद्रशासित प्रदेशों में बांट दिया.