भारत

तेलंगाना: टीवी9 के पूर्व सीईओ रवि प्रकाश धोखाधड़ी के आरोप में गिरफ़्तार

समाचार चैनल टीवी9 के पूर्व मुख्य कार्यकारी अधिकारी वी. रवि प्रकाश पर टीवी9 की मूल कंपनी एबीसीएल से कथित तौर पर 18 करोड़ रुपये निकालने का आरोप है.

टीवी9 के पूर्व मुख्य कार्यकारी अधिकारी रवि प्रकाश. (फोटो: ट्विटर)

टीवी9 के पूर्व मुख्य कार्यकारी अधिकारी रवि प्रकाश. (फोटो: ट्विटर)

हैदराबाद: टीवी9 के पूर्व मुख्य कार्यकारी अधिकारी (सीईओ) वी. रवि प्रकाश को शनिवार को तेलंगाना की बंजारा हिल्स पुलिस स्टेशन के अधिकारियों ने गिरफ्तार कर लिया. प्रकाश पर टीवी9 की मूल कंपनी एसोसिएट ब्रॉडकास्टिंग कंपनी प्राइवेट लिमिटेड (एबीसीएल) से कथित तौर पर 18 करोड़ रुपये निकालने का आरोप है.

इंडियन एक्सप्रेस के अनुसार, कारोबारी जुपली रामेश्वर राव के स्वामित्व वाली माई होम ग्रुप ने बीते अगस्त महीने में टीवी9 का अधिग्रहण कर लिया था. इसके बाद टीवी9 में 8.25 फीसदी हिस्सेदारी वाले प्रकाश को सीईओ का पद छोड़ना पड़ा था.

24 सितंबर को नए निदेशक मंडल ने प्रकाश के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई और आरोप लगाया कि उन्होंने और पूर्व निदेशक एमकेवीएन मूर्ति ने सितंबर 2018 से मई 2019 के बीच 18,31,75,000 रुपये खुद के लिए बोनस या एक्स-ग्रेसिया भुगतान के रूप में निकाल लिए.

बंजारा हिल्स पुलिस स्टेशन में दर्ज शिकायत में कहा गया, ‘नए निदेशक मंडल द्वारा जून 2019 से रिकॉर्ड और खाता विवरणों के सत्यापन के दौरान यह पता चला है कि निदेशक वी. रवि प्रकाश, एमकेवीएन मूर्ति और क्लिफर्ड परेरा ने बिना किसी अधिकार की पुष्टि के और कानून के तहत निर्धारित प्रक्रिया का पालन किए बिना कंपनी के बैंक खातों से बड़ी रकम निकाली है.’

इसमें कहा गया है, ‘इस दौरान उन्होंने न तो निर्धारित प्रक्रिया का पालन किया, न कोई हिसाब-किताब किया और निदेशकों/शेयरधारकों की उचित मंजूरी भी नहीं ली. यह कंपनी के साथ धोखाधड़ी करने, धन का घोर दुरुपयोग, कंपनी को गलत तरीके से नुकसान पहुंचाने के बराबर है और इस तरह से उन्होंने कंपनी की लागत पर व्यक्तिगत लाभ प्राप्त किया. हम जांच और आवश्यक कार्रवाई करने का अनुरोध करते हैं.’

मामले की जांच करने वाले बंजारा हिल्स पुलिस स्टेशन के अधिकारियों ने प्रकाश का बयान दर्ज कराने के लिए उन्हें दो बार समन भेजा लेकिन उन्होंने दोनों नोटिस को नजरअंदाज कर दिया.

शनिवार की दोपहर पुलिस प्रकाश के घर गई और उन्हें हिरासत में ले लिया. पूछताछ के लिए प्रकाश को उन्हीं की कार में पुलिस स्टेशन लाया गया और कार को भी जब्त कर लिया गया.

यह विवाद हाल ही में टीवी9 में 90.54 फीसदी से अधिक हिस्सेदारी खरीदने वाले अलंदा मीडिया से संबंधित है. कंपनी ने आरोप लगाया है कि रवि प्रकाश ने चार निदेशकों की नियुक्ति के लिए अलंदा के कदम का सक्रिय रूप से विरोध किया और उनकी नियत गलत थी.

द न्यूज मिनट के अनुसार, हालांकि रवि प्रकाश ने आरोप लगाया था कि बंधक बनाकर किया गया अधिग्रहण प्रेस की आजादी पर हमला है. प्रबंधन में बदलाव के लिए उन्होंने रियल एस्टेट कंपनी माई होम ग्रुप के मालिक उद्योगपति जुपली रामेश्वर राव और मेघा इंजीनियरिंग और इन्फ्रास्ट्रक्चर लिमिटेड (एमईआईएल) के कृष्णा रेड्डी को दोषी ठहराया.

पत्रकार और तेलुगु न्यूज आउटलेट मोजो टीवी की पूर्व सीईओ रेवती पोगदादंदा ने ट्वीट कर कहा कि 10 वर्दीधारी पुलिसकर्मी रवि प्रकाश के घर गए और उन्हें नोटिस देने के लिए थाने आने के लिए कहा.

उन्होंने यह भी आरोप लगाया कि कृष्णा रेड्डी और रामेश्वर राव के कुछ साक्षात्कारों को हटाने के लिए रवि प्रकाश द्वारा संचालित एक वेबसाइट टॉलिवेलुगु पर दबाव था.

रेवती को इस साल की शुरुआत में गिरफ्तार कर लिया गया था और फिर सशर्त जमानत पर छोड़ दिया गया था. रेवती के सीनियर रवि प्रकाश पर मामला दर्ज किए जाने के बाद रेवती ने तेलंगाना राष्ट्र समिति (टीआरएस) के नेतृत्व वाली राज्य सरकार पर पिछले कुछ महीनों से उनका कथित रूप से उत्पीड़न करना का आरोप लगाया था.

रवि प्रकाश 2004 में लॉन्च होने के बाद से टीवी9 चैनल की कमान संभाल रहे थे. इससे पहले पुलिस ने अलंदा के निदेशक पी कौशिक राव की दो शिकायतों पर कार्रवाई करते हुए रवि प्रकाश, टीवी9 के पूर्व सह-संस्थापक एमकेवीएन मुर्ति और अभिनेता एस शिवाजी के खिलाफ आपराधिक मामले दर्ज किए थे.