pune

धनंजय देसाई और मोहसिन शेख (फोटो: यूट्यूब)

पुणे: मोहसिन शेख़ की भीड़ द्वारा हत्या मामले में मुख्य आरोपी धनंजय देसाई को ज़मानत

साल 2014 में महाराष्ट्र के पुणे में 24 वर्षीय मोहसिन शेख़ की भीड़ द्वारा हत्या कर दी गई थी. इस मामले में हिंदू राष्ट्र सेना का प्रमुख धनंजय देसाई मुख्य आरोपी है. पीड़ित की मां शबाना परवीन ने कहा कि वो ज़मानत रद्द करने की याचिका दायर करेंगी.

मिलिंद एकबोटे. (फोटो: फेसबुक)

भीमा-कोरेगांव: आरोपी हिंदूवादी नेता मिलिंद एकबोटे को रैलियां करने, मीडिया से बातचीत की छूट

पुणे की एक अदालत ने कुछ शर्तों के साथ मिलिंद एकबोटे को राहत दी है. हिंसा के संबंध में एक दलित महिला द्वारा शिकायत के बाद एससी/एसटी एक्ट के तहत गिरफ़्तार किया गया था.

Savitribai Phule Wikipedia

सावित्री बाई फुले: जिन्होंने औरतों को ही नहीं, मर्दों को भी उनकी जड़ता और मूर्खता से आज़ाद किया

दुनिया में लगातार विकसित और मुखर हो रही नारीवादी सोच की ठोस बुनियाद सावित्रीबाई और उनके पति ज्योतिबा ने मिलकर डाली. दोनों ने समाज की कुप्रथाओं को पहचाना, विरोध किया और उनका समाधान पेश किया.

New Delhi: Union Minister for Road Transport, Highways and Shipping Nitin Gadkari speaks during the workshop on industries issues on Road Safety in New Delhi on Thursday. PTI Photo by Kamal Singh(PTI4_26_2018_000052B)

तीन राज्यों में हार के बाद नितिन गडकरी बोले, नेतृत्व को हार की भी ज़िम्मेदारी लेनी चाहिए

केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने पुणे में आयोजित एक बैंक के कार्यक्रम के दौरान कहा कि राजनीति में सफलता का श्रेय लेने सब आ जाते हैं, लेकिन हार की ज़िम्मेदारी कोई लेना नहीं चाहता.

फोटो: पीटीआई

महाराष्ट्र: एचआईवी पॉज़िटिव होने के चलते नौकरी से निकाली गई महिला की नौकरी बहाल

पुणे की एक फार्मा कंपनी द्वारा तीन साल पहले एचआईवी पॉज़िटिव होने की वजह से महिला कर्मचारी का इस्तीफ़ा मांगा गया था. श्रम अदालत ने उनकी नौकरी बहाल करते हुए कंपनी को बीते 3 सालों का वेतन और सुविधाएं देने का आदेश दिया है.

(प्रतीकात्मक फोटो: रॉयटर्स)

मूक बधिर महिला ने इशारों में बताई बलात्कार की पीड़ा, चार जवानों पर केस दर्ज

पुणे में सेना के एक अस्पताल में काम करने वाली महिला का मामला. बीते जून महीने में वीडियो कॉल कर इशारों में बलात्कार और यौन शोषण की आपबीती बताई थी.

संभाजी भिड़े. (फोटो: पीटीआई)

भीमा-कोरेगांव हिंसा में आरोपी संभाजी भिड़े के ख़िलाफ़ दंगों के मामले वापस लिए गए: आरटीआई

आरटीआई से मिली जानकारी के अनुसार दक्षिणपं​थी नेता संभाजी भिड़े और उनके संगठन शिव प्रतिष्ठान हिंदुस्तान के ख़िलाफ़ छह मामले दर्ज किए गए थे. इसके अलावा भाजपा और शिवसेना नेताओं के ख़िलाफ़ दर्ज मामले भी महाराष्ट्र सरकार द्वारा वापस लिए गए.

केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री प्रकाश जावड़ेकर (फोटो: रॉयटर्स)

‘भीख का कटोरा’ बयान पर जावड़ेकर की सफ़ाई, बोले- अनजाने में किया ग़लत शब्द का इस्तेमाल

पुणे में एक स्कूली कार्यक्रम में केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने कहा था कि स्कूलों को सरकार के सामने कटोरा लेकर मदद मांगने की बजाय पूर्व छात्रों से मदद लेनी चाहिए.

नरेंद्र दाभोलकर (फोटो: यूट्यूब स्क्रीनशॉट)

नरेंद्र दाभोलकर हत्या मामले का मुख्य शूटर गिरफ़्तार: सीबीआई

सीबीआई ने बताया कि तर्कवादी नरेंद्र दाभोलकर पर गोली चलाने वालों में सचिन प्रकाशराव भी शामिल था. सचिन की संलिप्तता की जानकारी महाराष्ट्र एटीएस ने सीबीआई को दी थी.

MIT School Pune ANI 2

पुणे: स्कूल ने बताया किस रंग के इनर पहनें छात्राएं, विरोध के बाद वापस लिया आदेश

पुणे के एक निजी स्कूल ने लड़कियों के इनर के रंग के अलावा उनकी स्कर्ट की लंबाई तय की थी, जिसका अभिभावकों ने विरोध किया था. स्कूल प्रशासन का कहना था कि इसका उद्देश्य ‘पवित्र’ है. शिक्षा मंत्री ने दिए थे जांच के निर्देश.

महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फड़णनवीस. (फोटो: पीटीआई)

मोदी ने कहा था महाराष्ट्र की छवि ‘दलालों के राज्य’ की है: देवेंद्र फड़णवीस

महाराष्ट्र सरकार की सफलता की कहानियों के संकलन वाली किताब के विमोचन पर मुख्यमंत्री ने कहा कि मुझे कभी नहीं लगा था कि मैं कभी प्रदेश का मुख्यमंत्री भी बनूंगा.

Bhima Koregaon

भीमा-कोरेगांव हिंसा की पीड़ित का शव कुएं में मिला, प्रकाश आंबेडकर ने हत्या बताया

भीमा-कोरेगांव हिंसा के दौरान दलित युवती के घर में आग लगा दी गई थी. परिजनों के अनुसार, इसमें शामिल लोग बयान वापस लेने के लिए उस पर दबाव डाल रहे थे, इस कारण उसने आत्महत्या कर ली.

मनसे प्रमुख राज ठाकरे (फोटो: पीटीआई)

‘मोदी मुक्त भारत’ बनाने के लिए सभी विपक्षी दलों को साथ आना होगा: राज ठाकरे

मनसे प्रमुख राज ठाकरे ने कहा कि मोदी सरकार को सत्ता से बाहर करने के बाद अगर नोटबंदी को लेकर जांच के आदेश दिए गए तो यह 1947 के बाद से सबसे बड़े घोटाले के रूप में सामने आ सकता है.

Mumbai: Dalit protesters take part in a bike rally on the Eastern Express Highway in Thane, Mumbai on Wednesday after Bhima Koregaon violence. PTI Photo (PTI1_3_2018_000136B)

दलितों का देश कहां है महराज?

भाजपा सत्ता में आने के बाद यह कह रही है कि आंबेडकर उसके लिए प्रातः स्मरणीय हैं लेकिन उन्हीं के संगठन और सरकार से संबंधित लोग मनुस्मृति के गौरवगान के साथ संविधान को बदलने की बात कर रहे हैं.

जिग्नेश मेवानी और रामदास अठावले (फोटो: पीटीआई)

भीमा-कोरेगांव हिंसा के लिए मेवाणी ज़िम्मेदार नहीं: अठावले

महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फड़णवीस से मिलने के बाद केंद्रीय मंत्री रामदास अठावले ने कहा कि एक जनवरी की हिंसा के लिए निर्दलीय विधायक जिग्नेश मेवाणी जिम्मेदार नहीं हैं.

इस साल के पहले दिन पुणे ज़िले के भीमा-कोरेगांव में हिंसा. (फाइल फोटो: पीटीआई)

‘भीमा-कोरेगांव में हर साल लाखों लोग आते हैं, फिर भी पर्याप्त सुरक्षा इंतज़ाम नहीं हुए’

महाराष्ट्र में पुणे ज़िले के भीमा-कोरेगांव के लोगों ने हिंसा के लिए बाहरी लोगों को दोषी बताया, मुआवज़े की मांग, भिड़े का हिंसा में शामिल होने से इनकार.

मिलिंद एकबोटे और संभाजी भीड़े (फोटो: फेसबुक)

कौन हैं मिलिंद एकबोटे और संभाजी भिड़े, जिन पर भीमा कोरेगांव में हिंसा भड़काने का आरोप है

दलित नेता प्रकाश आंबेडकर ने महाराष्ट्र बंद को वापस लेने का ऐलान करते हुए सरकार से मिलिंद एकबोटे और संभाजी भिड़े को जल्द गिरफ़्तार करने की मांग की है.

बाबा साहब आंबेडकर और भीमा कोरेगांव में सोमवार को हिंसा हुई हिंसा. (फोटो साभार: विकिमीडिया कॉमन्स/एएनआई)

प्रासंगिक: जब नौ साल की उम्र में कोरेगांव गए आंबेडकर को जातीय भेदभाव का सामना करना पड़ा

अपनी किताब ‘वेटिंग फॉर अ वीज़ा’ में भीमराव आंबेडकर ने 1901 में कोरेगांव यात्रा के दौरान हुए छुआछूत के कटु अनुभव पर विस्तार से चर्चा की है.

Rohini Saliyan and Mohsin Sheikh PTI

मोहसिन शेख़ हत्याकांड: ‘मुझे यक़ीन था रोहिणी मैडम हमारी अर्ज़ी स्वीकार कर लेंगी’

उज्ज्वल निकम के पिछले महीने मोहसिन शेख़ हत्या मामले से पीछे हटने के बाद पीड़ित परिवार ने रोहिणी सालियान को बतौर विशेष पब्लिक प्रॉसिक्यूटर नियुक्त करने की मांग की थी.

Screen Shot 2017-06-08 at 7.45.53 PM

पुणे: किसान ने की आत्महत्या, सुसाइड नोट में लिखा- ‘मांगें पूरी होने तक अंत्येष्टि मत करना’

महाराष्ट्र के सोलापुर ज़िले की घटना, सुसाइड नोट में लिखा, जब तक मुख्यमंत्री उसके घर नहीं आते और उसकी मांगें पूरी नहीं करते, तब तक उसका अंतिम संस्कार नहीं किया जाना चाहिए.’