भारत

बिहार: मंदिर की मूर्ति में तोड़फोड़ को लेकर अररिया ज़िले में सांप्रदायिक तनाव

बिहार के अररिया ज़िले के रामपुर कोकापट्टी पंचायत क्षेत्र का मामला. अज्ञात व्यक्तियों ने लक्ष्मी नारायण मंदिर में स्थापित शेषनाग प्रतिमा को आंशिक रूप से क्षतिग्रस्त कर मंदिर परिसर में एक झंडा लगा दिया, जिस पर दूसरे धर्म का अभिलेख लिखा था. पुलिस ने कहा कि घटना को लेकर अज्ञात तत्वों के ख़िलाफ़ एफ़आईआर दर्ज कर उनकी पहचान की कोशिश की जा रही है.

(प्रतीकात्मक फोटो: पीटीआई)

अररिया: बिहार के अररिया जिले में बृहस्पतिवार को उस समय तनाव की स्थिति उत्पन्न हो गई, जब अज्ञात व्यक्तियों ने एक मंदिर में स्थापित प्रतिमा को आंशिक रूप से क्षतिग्रस्त कर दिया और मंदिर परिसर में एक झंडा लगा दिया, जिस पर दूसरे धर्म का अभिलेख लिखा था.

स्थानीय भाजपा सांसद प्रदीप कुमार सिंह ने रामपुर कोकापट्टी पंचायत क्षेत्र के एक गांव से हुई इस घटना पर नाराजगी व्यक्त की और प्रशासन से 24 घंटे के भीतर ऐसे शरारती तत्वों को खोज निकालने और उन्हें सलाखों के पीछे भेजने को कहा है.

न्यूज 18 के मुताबिक, प्रदीप सिंह ने ऐसे असामाजिक तत्वों की निशानदेही कर जल्द से जल्द गिरफ्तारी की मांग की है. उन्होंने कहा कि अररिया के सांप्रदायिक सौहार्द को बिगाड़ने की कोशिश करने वालों को जल्द से जल्द गिरफ्तार किया जाए.

अररिया सदर अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी पुष्कर कुमार ने बताया कि लक्ष्मी नारायण मंदिर में हुई इस घटना को लेकर अज्ञात शरारती तत्वों के खिलाफ एफआईआर दर्ज कर उनकी पहचान की कोशिश की जा रही है.

उन्होंने बताया कि गांव में शांति बहाल रखने के लिए दंडाधिकारी के साथ पुलिस बल की तैनाती की गई है. जहां अज्ञात लोगों द्वारा ‘शेषनाग’ की मूर्ति को तोड़ दिया गया था और ध्वज लगा दिया था, जिसे बाद में हटा दिया गया.

उन्होंने कहा कि इस घटना को अंजाम देने वालों को जल्द ही सलाखों के पीछे भेजा जाएगा.

अररिया एसडीपीओ पुष्कर कुमार और एसडीएम शैलेश चंद्र दिवाकर रामपुर गांव पहुंच कर गांव में फ्लैग मार्च किया.

(समाचार एजेंसी भाषा से इनपुट के साथ)