भारत

पश्चिम बंगाल: मवेशी चोरी को लेकर बांग्लादेशी नागरिक की भीड़ ने पीट-पीटकर हत्या की

पश्चिम बंगाल में जलपाईगुड़ी ज़िले के एक सीमावर्ती गांव का मामला. मृतक की पहचान मोहम्मद सलमान के रूप में हुई, जो उत्तरी बांग्लादेश के रंगपुर मंडल के पंचगढ़ ज़िले के निवासी थे. घटना के सिलसिले में तीन लोगों को गिरफ़्तार किया गया है.

(प्रतीकात्मक फोटो: पीटीआई)

जलपाईगुड़ी: पश्चिम बंगाल में जलपाईगुड़ी जिले के एक सीमावर्ती गांव में बुधवार को एक बांग्लादेशी व्यक्ति की भीड़ ने कथित तौर पर पीट-पीटकर हत्या कर दी. उसे एक गाय चुराने की कथित कोशिश करने के दौरान पकड़ा गया था. पुलिस ने यह जानकारी दी.

पुलिस ने बताया कि राजगंज ब्लॉक में कुकुरजान क्षेत्र के बरूआ पाड़ा में एक घर से गाय चुराने के लिए बांग्लादेशी व्यक्तियों का एक गिरोह मंगलवार (23 अगस्त) रात भारतीय सीमा के अंदर घुसा था.

उन्होंने बताया कि स्थानीय लोगों ने उन्हें खदेड़ा तो गिरोह के सभी सदस्य वापस बांग्लादेश भाग गए, लेकिन उनमें से एक व्यक्ति सीमा पार नहीं कर सका और पास के एक चाय बागान में छिप गया.

पुलिस ने बताया कि स्थानीय लोगों ने रातभर उसका इंतजार किया और सुबह होते ही उसे पकड़ लिया तथा उसे कथित तौर पर उसकी पीट-पीट कर हत्या कर दी.

उन्होंने बताया कि मृतक की पहचान मोहम्मद सलमान के तौर पर हुई है, जो उत्तरी बांग्लादेश के रंगपुर मंडल के पंचगढ़ जिले का निवासी था.

पुलिस के मुताबिक, घटना के सिलसिले में तीन लोगों को गिरफ्तार किया गया है.

पुलिस अधीक्षक देवर्षि दत्ता ने बताया, ‘घटना के संबंध में कुछ लोगों को गिरफ्तार किया गया है. राजगंज थाने को मामले की जांच करने को कहा गया है.’

द टेलीग्राफ के मुताबिक, तीनों को रिहा करने की मांग को लेकर कुछ ग्रामीण राजगंज थाने पहुंचे. कुछ ने पुलिसकर्मियों से हाथापाई की. तब भीड़ को तितर-बितर करने के लिए अतिरिक्त बल भेजा गया.

उत्तर बंगाल के विकास मंत्री उदयन गुहा, जो बुधवार को एक प्रशासनिक बैठक के लिए जलपाईगुड़ी में थे, ने घटना की निंदा की, लेकिन बीएसएफ द्वारा सीमा पर निगरानी पर सवाल उठाए.

उन्होंने कहा, ‘बीएसएफ को जवाब देना चाहिए कि कैसे बांग्लादेशी मवेशियों की चोरी करने के लिए सीमा से घुसपैठ कर गए. यह घटना सीमाओं पर असामाजिक गतिविधियों पर अंकुश लगाने में उनकी भ्रांति को दर्शाती है.’

(समाचार एजेंसी भाषा से इनपुट के साथ)