Yogi Govt

लखीमपुर हिंसा: भाजपा कार्यकर्ता सहित चार गिरफ़्तार, आशीष मिश्रा को न्यायिक हिरासत में भेजा गया

बीते तीन अक्टूबर को लखीमपुर खीरी ज़िले में प्रदर्शन कर रहे किसानों के समूह पर कथित तौर पर वाहन चढ़ा दिए जाने के बाद चार किसानों समेत आठ लोगों की मौत के मामले में भाजपा कार्यकर्ता सुमित जायसवाल, शिशुपाल, सत्यप्रकाश त्रिपाठी और नंदन सिंह बिष्ट को पुलिस ने गिरफ़्तार किया है. इस मामले में अब तक 10 लोगों को गिरफ़्तार किया जा चुका है.

लखीमपुर हिंसा: केंद्रीय मंत्री की बर्ख़ास्तगी की मांग पर ‘रेल रोको’ आंदोलन से यातायात प्रभावित

उत्तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी में हुई हिंसा के संबंध में केंद्रीय मंत्री अजय मिश्रा को बर्खास्त करने तथा गिरफ़्तार करने की मांग को लेकर किसानों ने ‘रेल रोको’ आंदोलन के तहत प्रदर्शन किया. लखीमपुर खीरी में मौजूदा हालात को देखते हुए कृषि क़ानूनों के विरोध में किसानों के आंदोलन का नेतृत्व कर रहे संयुक्त किसान मोर्चा ने यहां आंदोलन रद्द कर दिया था.

लखीमपुर कांड के सूत्रधार हैं केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा: भाजपा नेता का आरोप

उत्तर प्रदेश भाजपा कार्य समिति के सदस्य और पूर्व विधायक राम इकबाल सिंह ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा को तत्काल बर्खास्त करने की मांग की है. उन्होंने कहा कि लखीमपुर खीरी में हुई हिंसा के कुछ दिन पहले केंद्रीय गृह राज्य मंत्री के दिए गए धमकी भरे बयान ने ही आग में घी का काम किया है. 

केंद्रीय मंत्री अजय मिश्रा के इस्तीफ़ा देने तक लखीमपुर हिंसा की निष्पक्ष जांच संभव नहीं: टिकैत

भारतीय किसान यूनियन के नेता राकेश टिकैत ने कहा कि केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा लखीमपुर खीरी मामले की जांच को प्रभावित कर रहे हैं. जिस तरह से मामले की जांच हो रही है उससे हम पूरी तरह असंतुष्ट हैं. लखीमपुर में बीते तीन अक्टूबर को किसानों के प्रदर्शन के दौरान कार चढ़ा देने से चार किसानों की मौत हो गई थी. इस मामले में अजय मिश्रा के बेटे आशीष मिश्रा मुख्य आरोपी हैं.

लखीमपुर खीरी हिंसा: भाजपा के किसी वरिष्ठ नेता का पहला दौरा, मृतक किसान परिवारों से नहीं मिले

बीते तीन अक्टूबर को लखीमपुर खीरी ज़िले में हुई हिंसा के 10 दिन बाद भाजपा नेता और उत्तर प्रदेश सरकार में कानून मंत्री बृजेश पाठक ने इलाके का दौरा कर मृतक भाजपा कार्यकर्ता शुभम मिश्रा और केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा के ड्राइवर हरिओम मिश्रा के परिवारों से मुलाकात की. हिंसा में वाहन से कुचले जाने से चार किसानों की मौत हो गई थी. क़ानून मंत्री ने कहा है कि स्थिति सामान्य होने पर वह मृतक किसानों के परिवारों के साथ बात करेंगे.

लखीमपुर खीरी हिंसा; आशीष मिश्रा और प्रधानमंत्री मोदी की लखनऊ यात्रा

वीडियो: लखीमपुर खीरी में किसानों के प्रदर्शन के दौरान हुई हिंसा के बाद से उत्तर प्रदेश एक बार फिर सुर्ख़ियों में है. द वायर के शो लखनऊ सेंट्रल में शरत प्रधान उत्तर प्रदेश के महत्वपूर्ण मुद्दों के बारे में जानकारी दे रहे हैं.

लखीमपुर हिंसा: केंद्रीय मंत्री के बेटे की ज़मानत याचिका नामंज़ूर, दो और आरोपी गिरफ़्तार

बीते तीन अक्टूबर को लखीमपुर खीरी ज़िले में प्रदर्शन कर रहे किसानों के समूह पर कथित तौर पर वाहन चढ़ा देने की घटना के बाद हुई हिंसा में चार किसानों समेत आठ लोगों की मौत हो गई थी. पुलिस ने बताया कि मुख्य आरोपी केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा के बेटे आशीष मिश्रा के क़रीबी दोस्त कहे जाने वाले अंकित दास और लतीफ उर्फ़ काले को गिरफ़्तार किया गया है.

लखीमपुर खीरी हिंसाः किसानों को कुचलने वाली एसयूवी का कथित ड्राइवर गिरफ़्तार

बीते तीन अक्टूबर को लखीमपुर खीरी ज़िले में प्रदर्शन कर रहे किसानों के समूह पर कथित तौर पर वाहन चढ़ने के बाद हुई हिंसा में चार किसानों समेत आठ लोगों की मौत हो गई थी. बताया गया है कि मंगलवार को गिरफ़्तार शख़्स उन तीन एसयूवी में से एक चला रहे थे, जिसने कथित तौर पर किसानों को कुचला था. इस मामले में अब तक गृह राज्यमंत्री अजय मिश्रा के बेटे आशीष मिश्रा समेत तीन लोगों को गिरफ़्तार किया गया है.

हम किसी को फार्च्यूनर से कुचलने नहीं आए हैं: उत्तर प्रदेश भाजपा अध्यक्ष

उत्तर प्रदेश भाजपा अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह का यह बयान ऐसे वक़्त आया है, जब लखीमपुर खीरी की घटना को लेकर विपक्षी दल कांग्रेस, सपा और बसपा समेत कई दल सत्तारूढ़ भाजपा के ख़िलाफ़ आक्रामक हैं और केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय कुमार मिश्रा को बर्ख़ास्त करने की मांग के साथ जनता से विधानसभा चुनाव में सरकार को सत्ता से बाहर करने का आह्वान कर रहे हैं.

वरुण गांधी ने लखीमपुर की घटना को ‘हिंदू बनाम सिख’ बनाने की कोशिश का लगाया आरोप

भाजपा के सांसद वरुण गांधी ने कहा कि लखीमपुर खीरी में न्याय के लिए संघर्ष ग़रीब किसानों की निर्दयी हत्या को लेकर है और इसका किसी धर्म विशेष से कोई लेना-देना नहीं है. बीते कुछ दिनों से वरुण गांधी किसानों के मुद्दे पर लगातार अपनी राय रख रहे हैं. लखीमपुर खीरी में बीते तीन अक्टूबर को हुई हिंसा को लेकर उन्होंने दोषियों के ख़िलाफ़ कार्रवाई की मांग भी की थी.

क्या हिंसा की संस्कृति अब भारत की पहचान बनती जा रही है

अगर किसी के ख़िलाफ़ शक़ और नफ़रत समाज में भर दी जाए तो उस पर हिंसा आसान हो जाती है क्योंकि उसका एक कारण पहले से तैयार कर लिया गया होता है. आज हिंसा और हत्या की इस संस्कृति को समझना हमारे लिए बहुत ज़रूरी है इसके पहले कि यह देश को पूरी तरह तबाह कर दे.

लखीमपुर खीरी हिंसाः राज्यमंत्री के ड्राइवर के पीछे रह गया है क़र्ज़ और ग़रीबी से जूझता परिवार

लखीमपुर खीरी ज़िले के तिकोनिया में तीन अक्टूबर को चार किसानों के साथ भाजपा के दो कार्यकर्ताओं, राज्यमंत्री अजय मिश्रा के ड्राइवर हरिओम और एक पत्रकार रमन कश्यप की भी मौत हो गई थी. घर के एकमात्र कमाने वाले हरिओम के परिवार में सालों से बीमार पिता, वृद्ध मां और छोटे भाई-बहन हैं.

लखीमपुर खीरी हिंसा: एक मृतक की मां ने कहा- दोषियों को फ़ांसी दी जाए

वीडियो: बीते तीन अक्टूबर को उत्तर प्रदेश लखीमपुर खीरी ज़िले में हुई हिंसा के दौरान 19 वर्षीय लवप्रीत सिंह की भी जान चली गई थी. उनके परिवार का आरोप है कि केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा के बेटे आशीष मिश्रा की कार से कुचलकर उनकी मौत हुई. परिवार दोषियों को फांसी देने की मांग कर रहा है. याक़ूत अली और मुकुल सिंह चौहान की रिपोर्ट.

लखीमपुर खीरी: कितनी हिंसा झेल पाएगा किसान आंदोलन

वीडियो: उत्तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी से सांसद और केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय कुमार मिश्रा टेनी के विरोध में बीते तीन अक्टूबर को वहां के आंदोलित किसानों ने ज़िले में स्थित उनके पैतृक गांव बनबीरपुर में आयोजित एक समारोह में उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य के जाने का विरोध किया था. आरोप है कि केंद्रीय मंत्री के पुत्र आशीष मिश्रा ने किसानों को अपनी गाड़ी से कुचल दिया था, जिससे उनकी मौत हो गई थी. इस मुद्दे पर किसान नेता युद्धवीर सिंह और योगेंद्र यादव से द वायर के इंद्र शेखर सिंह ने बातचीत की.

लखीमपुर खीरी हिंसा: जीने-मरने के सवालों पर नहीं, तो कब की जानी चाहिए राजनीति

जो लोग विपक्ष पर राजनीति करने की तोहमत मढ़ रहे हैं, वे भी एक ख़ास तरह की राजनीति ही कर रहे हैं. जब वे किसी भी तरह अप्रिय सवालों को टालने की हालत में नहीं होते, तो चाहते हैं कि वे पूछे ही न जाएं!