प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी

(फोटो: पीटीआई)

बंगाल चुनाव: हिंसा के बाद चुनाव आयोग ने नेताओं के कूच बिहार जाने पर लगाया प्रतिबंध

बीते शनिवार को चौथे चरण के मतदान के दौरान कूच बिहार ज़िले के एक मतदान केंद्र के बाहर स्थानीय लोगों के कथित हमले के बाद सुरक्षाबलों के की फायरिंग में चार लोगों की मौत हो गई थी. मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने गोलीबारी की घटना को ‘नरसंहार’ क़रार देते हुए कहा कि निर्वाचन आयोग ने 72 घंटे के लिए नेताओं के प्रवेश पर प्रतिबंध लगाकर तथ्यों को दबाना चाहता है.

WhatsApp Image 2021-03-12 at 17.01.55

तबलीग़ी जमात के कार्यक्रम में शामिल कुछ लोग आज भी घर लौटने के लिए संघर्ष कर रहे हैं

वीडियो: पिछले साल दक्षिण दिल्ली स्थित निज़ामुद्दीन मरकज़ कोरोना वायरस के प्रसार का एक केंद्र बनकर उभरा था. यहां तबलीग़ी जमात के कार्यक्रम में देश-विदेश से तमाम लोग शामिल हुए थे, जिनके ख़िलाफ़ संक्रमण फैलाने को लेकर केस दर्ज किया गया था. आरोपियों में शामिल कई विदेशी नागरिक आज भी अपने घर लौटने के लिए संघर्ष कर रहे हैं.

(फोटो: पीटीआई)

पश्चिम बंगाल: रेलवे की इमारत में लगी भीषण आग से मरने वालों की संख्या नौ हुई

कोलकाता स्थित बहुमंज़िला न्यू कोयलाघाट इमारत में सोमवार शाम को भीषण आग लग गई थी. यहां पूर्वी और दक्षिण-पूर्वी रेलवे के ज़ोनल कार्यालय हैं. रेल मंत्री पीयूष गोयल ने आग लगने के कारणों का पता लगाने के लिए उच्च स्तरीय समिति का गठन किया है.

The Prime Minister, Shri Narendra Modi took his first dose of the COVID-19 vaccine, at AIIMS, in New Delhi on March 01, 2021.

टीकाकरण प्रमाण पत्र पर पीएम की तस्वीर पर चुनाव आयोग ने स्वास्थ्य मंत्रालय से जवाब मांगा

पश्चिम बंगाल में सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस ने चुनाव आयोग को दी गई शिकायत में आरोप लगाया था कि पश्चिम बंगाल और अन्य चुनावी राज्यों में को-विन प्लेटफॉर्म के ज़रिये प्राप्त किए जाने वाले कोविड-19 टीकाकरण प्रमाण-पत्र पर प्रधानमंत्री मोदी की तस्वीर होना आदर्श आचार संहिता का उल्लंघन है.

(फोटो: पीटीआई)

होर्डिंग में प्रधानमंत्री की तस्वीर का इस्तेमाल आदर्श आचार संहिता का उल्लंघन: अधिकारी

चुनाव आयोग ने सभी पेट्रोल पंप डीलरों एवं अन्य एजेंसियों को 72 घंटे के भीतर अपने परिसर से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तस्वीर वाले केंद्रीय योजनाओं के होर्डिंग हटाने का निर्देश दिया है.

पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह. (फोटो: पीटीआई)

सरकार के बिना सोच-विचार के लिए गए फ़ैसले के चलते देश में बेरोज़गारी चरम पर: मनमोहन सिंह

केरल विधानसभा चुनाव से पहले राज्य के विकास पर दृष्टिपत्र पेश करते हुए पूर्व प्रधानमंत्री डॉ. मनमोहन सिंह ने कहा कि संघवाद और राज्यों के साथ नियमित परामर्श भारतीय अर्थव्यवस्था और राजनीति का आधार स्तंभ है, जो संविधान में निहित है, पर मौजूदा केंद्र सरकार ने इससे मुंह मोड़ लिया है.

नरेंद्र मोदी स्टेडियम. फोटो: रॉयटर्स)

नरेंद्र मोदी स्टेडियम: आज़ादी के नायकों की जगह लेते ‘नए इंडिया’ के नेता

मोटेरा स्टेडियम का नाम बदलना दुनिया के इतिहास में- ख़ासकर उपनिवेशवाद के ख़िलाफ़ संघर्ष कर आज़ाद हुए मुल्कों में, ऐसा पहला उदाहरण है, जहां किसी स्वाधीनता सेनानी का नाम मिटाकर एक ऐसे सियासतदां का नाम लगाया गया हो, जिसका उसमें कोई भी योगदान नहीं रहा.

नरेंद्र मोदी स्टेडियम में भारत-इंग्लैंड टेस्ट.  (फोटो: ट्विटर/@BCCI)

गुजरात: स्वतंत्र मीडिया फोटोग्राफरों को भारत-इंग्लैंड टेस्ट मैच की कवरेज से रोका गया

इस फैसले का विरोध करते हुए अंतरराष्ट्रीय एजेंसी एसोसिएट प्रेस ने इस दौरे की कवरेज न करने का निर्णय लिया है. एजेंसी ने कहा कि आधे से भी कम दर्शकों को प्रवेश की अनुमति देने के बावजूद स्वतंत्र मीडिया के एक या दो फोटोग्राफरों को प्रवेश की अनुमति न देते हुए कहा गया कि आयोजकों द्वारा दी तस्वीरों का इस्तेमाल करें.

नरेंद्र मोदी स्टेडियम. फोटो: पीटीआई)

गुजरात: नरेंद्र मोदी के नाम हुआ मोटेरा स्टेडियम, विपक्ष ने बताया सरदार पटेल का अपमान

गुजरात स्थित दुनिया के सबसे बड़े और अत्याधिक मोटेरा क्रिकेट स्टेडियम का नाम सरदार पटेल के बजाय नरेंद्र मोदी स्टेडियम रख दिया गया है. इसमें एक लाख 32 हज़ार दर्शक बैठ सकते हैं. करीब 63 एकड़ से अधिक क्षेत्र में फैले इस स्टेडियम पर 800 करोड़ रुपये ख़र्च किए गए हैं.

WhatsApp Image 2021-02-20 at 08.09.17

क्या भारत में जनतंत्र का भविष्य है?

वीडियो: वर्तमान किसान आंदोलन और अन्य आंदोलनों के प्रति नरेंद्र मोदी सरकार की प्रतिक्रिया पर दिल्ली विश्वविद्यालय के प्रोफेसर अपूर्वानंद की द वायर के संस्थापक संपादक सिद्धार्थ वरदराजन से बातचीत.

ग्लेशियर टूटने के बाद धौली गंगा में आई बाढ़. (फोटो: पीटीआई)

चारधाम समिति के प्रमुख ने सुप्रीम कोर्ट से कहा- पनबिजली प्रोजेक्ट, सड़क चौड़ीकरण से आई आपदा

चारधाम राजमार्ग परियोजना की निगरानी कर रही उच्चाधिकार समिति के अध्यक्ष ने सुप्रीम कोर्ट को लिखे पत्र में हिमालयी पारिस्थितिकी में निर्माण कार्य से हुए नुकसान को हालिया आपदा की वजह बताया. केंद्र की ओर से पेश अटॉर्नी जनरल केके वेणुगोपाल ने इसका खंडन करते हुए पत्र का जवाब दाख़िल करने की बात कही है.

Lathepora: Security personnel carry out the rescue and relief works at the site of suicide bomb attack at Lathepora Awantipora in Pulwama district of south Kashmir, Thursday, February 14, 2019. At least 30 CRPF jawans were killed and dozens other injured when a CRPF convoy was attacked. (PTI Photo/S Irfan)  (PTI2_14_2019_000167B)

विश्वसनीय ख़ुफ़िया जानकारियां होने के बावजूद हुआ था पुलवामा हमला: रिपोर्ट

फ्रंटलाइन पत्रिका की एक रिपोर्ट में कहा गया है कि 2 जनवरी 2019 से 13 फरवरी 2019 तक मिली श्रृंखलाबद्ध ख़ुफ़िया जानकारियों पर अगर सुरक्षा एजेंसियों ने सफलतापूर्वक कार्रवाई की होती, तो पुलवामा आतंकी हमले को रोका जा सकता था.

मध्य प्रदेश के सीधी जिले में यात्रियों से भरी बस नहर में गिरी. (फोटो: पीटीआई)

मध्य प्रदेश: यात्रियों से भरी बस नहर में गिरी, 45 लोगों की मौत

सीधी ज़िले के रामपुर नैकिन थाना क्षेत्र में मंगलवार सुबह एक बस पुल से नहर में गिर गई, जिसमें 50 से अधिक लोग सवार थे. बताया जा रहा है कि इनमें से अधिकतर छात्र थे, जो परीक्षा देने सतना जा रहे थे.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ अमेरिका के नवनिर्वाचित राष्ट्रपति जो बाइडेन. (फोटो: अमेरिकी विदेश विभाग)

अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन ने पद संभालने के बाद पहली बार प्रधानमंत्री मोदी से बात की

अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन और भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार को फोन पर बातचीत के दौरान बाइडेन ने विश्वभर में लोकतांत्रिक संस्थानों की रक्षा करने के अपने संकल्प को रेखांकित किया और कहा कि लोकतांत्रिक मूल्यों के प्रति साझा प्रतिबद्धता भारत अमेरिका संबंधों का आधार है.

गृहमंत्री अमित शाह. (फोटो: पीटीआई)

महाराष्ट्र: अमित शाह बोले- नहीं किया था मुख्यमंत्री पद का वादा, शिवसेना ने कहा- अब तक चुप क्यों थे

गृह मंत्री अमित शाह ने रविवार को महाराष्ट्र की महाविकास अघाडी सरकार को ‘तीन-पहिया वाली ऑटो-रिक्शा’ कहते हुए उस पर सभी मोर्चों पर नाकाम रहने का आरोप लगाया था. शिवसेना का कहना है कि इस बारे में लंबी बहस हो जाने के डेढ़ साल बाद शाह को इस पर प्रतिक्रिया देने के लिए क्यों मजबूर होना पड़ा.