Presidential Election

PTI7_25_2017_000022A

रामनाथ कोविंद देश के नए राष्ट्रपति बने

प्रधान न्यायाधीश न्यायमूर्ति जेएस केहर ने संसद के केंद्रीय कक्ष में निर्वतमान राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की उपस्थिति में कोविंद को पद की शपथ दिलाई.

New Delhi: Prime Minister Narendra Modi exchanges greetings after casting vote in the Presidential Election, in New Delhi on Monday.   PTI Photo by Kamal Singh(PTI7_17_2017_000057a)

राष्ट्रपति पद के लिए मतदान जारी, कोविंद को बहुमत ​के आसार

सपा में क्रॉस वोटिंग, अखिलेश-शिवपाल गुट फिर आमने-सामने, राजग को आंकड़ों में मिल रही बढ़त, राष्ट्रपति चुनाव को सोनिया गांधी ने संकीर्ण, विभाजनकारी और सांप्रदायिक नज़रिये के ख़िलाफ़ लड़ाई करार दिया.

Nitish Kumar Meera Kumar PTI

बिहार की बेटी को हारने के लिए उम्मीदवार बनाया गया है: नीतीश कुमार

राजद प्रमुख लालू प्रसाद यादव ने नीतीश कुमार से एनडीए की ओर से राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार रामनाथ कोविंद को समर्थन देने के फैसले पर पुनर्विचार करने को कहा था.

PTI6_23_2017_000082A

…जब भ्रष्टाचार के आरोपी बंगारू लक्ष्मण के बचाव में रामनाथ कोविंद ने दी थी गवाही

राजग से राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार रामनाथ कोविंद ने 2012 में भ्रष्टाचार के एक मामले में पूर्व भाजपा अध्यक्ष बंगारू लक्ष्मण के बचाव में गवाही दी थी.

Vinod Dua 71

जन गण मन की बात, एपिसोड 71: रामनाथ कोविंद और दार्जिलिंग में तनाव 

जन गण मन की बात की 71वीं कड़ी में विनोद दुआ राजग के राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार रामनाथ कोविंद और दार्जिलिंग में जारी तनाव पर पर चर्चा कर रहे हैं.

(फाइल फोटो, पीटीआई)

डिजिटल इंडिया में राष्ट्रपति चुनाव में नहीं चलेगा कार्ड, जमा करने होंगे नोट

उम्मीदवारों को रक़म की अदायगी डिजिटल में या चेक की शक़्ल में अदा करने की इजाज़त नहीं है. अब तक 15 लोगों ने नामांकन दाख़िल किया, जिनमें से सात को अयोग्य ठहरा दिया गया.

hasan rohani reuters

ईरान में हसन रूहानी दूसरी बार चुने गए राष्ट्रपति

राष्ट्रपति चुनाव में हसन रूहानी ने 57 प्रतिशत मत प्राप्त किए जबकि उनके मुख्य प्रतिद्वंद्वी इब्राहिम रईसी को 39 प्रतिशत मत प्राप्त हुए.

rouhani-raisi

ईरान में रूहानी बनाम रईसी: एक तरफ उदारीकरण, दूसरी तरफ ‘जिहादी मैनेजमेंट’

एक तरफ ईरान पश्चिमी एशिया में विरोधी सुन्नी अरब देशों और इस्राइल से घिरा हुआ नजर आ रहा है, तो दूसरी तरफ वह अमेरिकी ट्रंप प्रशासन के निशाने पर भी है. इस निर्णायक मोड़ पर बिना किसी अड़चन के नयी सरकार का गठन ईरान की स्थिरता के लिए बेहद जरूरी है. ईरान से द वायर संवाददाता देवीरूपा मित्रा की रिपोर्ट.