Nagaon

असम: महंगाई के विरोध में हुए नुक्कड़ नाटक में शिव बनने वाला गिरफ़्तार, बाद में रिहा किया गया

असम के नागांव ज़िले का मामला. नाटक में दिखाया गया था कि भगवान शिव और पार्वती के किरदार दोपहिया वाहन की सवारी कर रहे हैं, जब पेट्रोल ख़त्म हो जाता है और शिव बढ़ती कीमतों के कारण पेट्रोल का ख़र्च वहन करने में असमर्थ होते हैं. विश्व हिंदू परिषद और भारतीय जनता युवा मोर्चा व अन्य की शिकायतों के आधार पर शिव बने सामाजिक कार्यकर्ता बिरिंची बोरा को गिरफ़्तार कर लिया गया था.

असम: थाने पर हमले को उकसाने के आरोपी की पुलिस हिरासत से ‘भागने’ के दौरान मौत

असम पुलिस के अनुसार, नागांव ज़िले में भीड़ को थाने में हिंसा के लिए उकसाने के मुख्य आरोपी आशिकुल इस्लाम ने उन्हें पुलिस वाहन से हथियारों की निशानदेही के लिए ले जाने के दौरान भागने की कोशिश की और पीछे चल रहे एस्कॉर्ट वाहन की चपेट में आने उनकी मौत हो गई.

असम: कथित तौर पर हिरासत में मारे गए शख़्स की पत्नी समेत पांच पर यूएपीए का केस दर्ज

ये पांचों उन छह लोगों में से हैं, जिन पर पहले ही कथित तौर पर पुलिस हिरासत में हुई सफीकुल इस्लाम की मौत के विरोध में नागांव ज़िले के बटाद्रवा थाने में आग लगाने का आरोप लगाया गया है. रविवार को पुलिस ने थाने में आगजनी के आरोपियों को ‘अतिक्रमणकारी’ बताते हुए उनके घरों को ध्वस्त कर दिया था. इनमें मृतक सफीकुल का घर भी शामिल है.

असम: कथित हिरासत में मौत के बाद भीड़ ने थाना जलाया, प्रशासन ने आरोपियों के घर पर बुलडोज़र चलाया

एक मछली व्यापारी सफीकुल इस्लाम की कथित तौर पर हिरासत में मौत के बाद भीड़ ने बीते 21 मई को असम के नगांव ज़िले के बटाद्रवा थाने आग लगा दी थी. रविवार को प्रशासन ने सलोनाबारी गांव में अतिक्रमण अभियान चलाकर उन आरोपियों के घर गिरा दिए, जो कथित तौर पर आगज़नी में शामिल थे. पुलिस ने हिरासत में मौत से भी इनकार किया है. हालांकि मृतक के परिवार के सदस्यों ने दावा किया कि पुलिस ने उसकी रिहाई के लिए 10,000 रुपये और एक बत्तख रिश्वत के रूप में मांगी थी.

नॉर्थ ईस्ट डायरीः पूर्व छात्र नेता पर गोलीबारी को लेकर असम सरकार को मानवाधिकार आयोग का नोटिस

इस हफ्ते नॉर्थ ईस्ट डायरी में असम, मेघालय, त्रिपुरा, नगालैंड और अरुणाचल प्रदेश के प्रमुख समाचार.

असम: पूर्व छात्र नेता को पुलिस ने गोली मारी, परिजनों के ज़्यादती के आरोपों के बीच जांच के आदेश

पुलिस का आरोप है कि नागांव कॉलेज के पूर्व सचिव कीर्ति कमल बोरा एक ड्रग रैकेट में शामिल थे और उन्होंने पुलिस पर हमला किया, इसलिए उन पर आत्मरक्षा में गोली चलाई गई. बोरा के परिजनों का कहना है कि उन्हें फ़र्ज़ी आरोप में फंसाया जा रहा है. विपक्ष ने इस घटना को राज्य में ‘पुलिसराज का ख़तरनाक नतीजा’ कहा है.

असम: नाबालिग घरेलू कामगार से बलात्कार, गर्भवती होने के बाद ज़िंदा जलाया

घटना नागांव ज़िले के राहा थानाक्षेत्र की है, जहां एक पिता-पुत्र पर उनकी 12 साल की घरेलू सहायिका के बलात्कार और हत्या का आरोप है. आरोपियों को गिरफ़्तार कर लिया गया है. असम राज्य बाल अधिकार संरक्षण आयोग ने बताया कि लड़की का लगातार शोषण किया जाता था और वह गर्भवती थी.

भाजपा के दोबारा सत्ता में न आने पर संसद पर हमला कर देगा पाकिस्तान: हिमंता बिस्वा शर्मा

असम के वित्त मंत्री हिमंता बिस्वा शर्मा ने कहा कि पुलवामा आतंकी हमले के बाद सोशल मीडिया पर पाकिस्तान की सराहना करने पर राज्य में 130 लोगों को गिरफ़्तार किया गया.

असम: नैतिकता के नाम पर युगल को रात भर पीटा, महिला का सिर मुंड़ाया

असम के नगांव ज़िले का मामला. पुलिस के अनुसार, नाजायज संबंधों के शक में ग्रामीणों ने युवक युवती से बदसलूकी की. इससे पहले गोलपाड़ा ज़िले में बाइक से जा रहे युगल के साथ मारपीट की गई थी.