भारत

भारत में प्रेस फ्रीडम की बुरी तस्वीर दिखाने वाले सर्वेक्षणों का करेंगे भंडाफोड़: जावड़ेकर

कांग्रेस ने विश्व प्रेस स्वतंत्रता दिवस पर अपने संदेश में आरोप लगाया कि भाजपा लोकतंत्र के चौथे स्तंभ को नष्ट करने पर आमादा है. हम सभी पत्रकारों से कहना चाहेंगे कि डरो मत.

सूचना एवं प्रसारण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर. (फोटो: पीटीआई)

सूचना एवं प्रसारण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर. (फोटो: पीटीआई)

नई दिल्ली: विश्व प्रेस स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर सूचना और प्रसारण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने कहा कि भारत में प्रेस को पूर्ण स्वतंत्रता है और उन सर्वेक्षणों का भंडाफोड़ किया जाएगा जिनमें देश में प्रेस की आजादी के बारे में खराब छवि पेश करने की कोशिश की गयी है.

जावड़ेकर ने ट्वीट कर कहा, ‘मीडिया के पास लोगों को सूचित करने और उनका मार्गदर्शन करने की ताकत है. भारत में मीडिया को पूर्ण स्वतंत्रता है. हम जल्द ही उन सर्वेक्षणों का खुलासा करेंगे जिनमें देश में प्रेस की आजादी के बारे में खराब छवि पेश करने की कोशिश की गई है.’

दुनियाभर में स्वतंत्र पत्रकारिता की पैरवी करने वाले संगठन रिपोर्टर्स विदाउट बॉर्डर्स के इस साल जारी हुए वार्षिक विश्लेषण में वैश्विक प्रेस स्वतंत्रता सूचकांक में भारत दो पायदान लुढ़क गया है और इसे 180 देशों में से 142वां स्थान मिला है. पिछले साल भारत 140वें स्थान पर था.

रिपोर्ट में कहा गया था कि लगातार स्वतंत्रता का उल्लंघन किया गया जिनमें पत्रकारों के खिलाफ पुलिसिया हिंसा, राजनीतिक कार्यकर्ताओं पर हमला, बदमाशों एवं भ्रष्ट स्थानीय अधिकारियों द्वारा बदले में हिंसा आदि शामिल हैं.

कांग्रेस ने विश्व प्रेस स्वतंत्रता दिवस पर अपने संदेश में आरोप लगाया कि भाजपा लोकतंत्र के चौथे स्तंभ को नष्ट करने पर आमादा है.

कांग्रेस ने ट्वीट कर कहा, ‘विश्व प्रेस स्वतंत्रता सूचकांक में भारत दो पायदान लुढ़ककर 142वें स्थान पर पहुंचा. जब हम विश्व प्रेस स्वतंत्रता दिवस मनाएं तो हमें याद रखना चाहिए कि बीजेपी लोकतंत्र के इस चौथे स्तंभ को नष्ट करने पर आमादा है और हमें ऐसा नहीं होने देना चाहिए. हम सभी पत्रकारों से कहना चाहेंगे कि डरो मत.’

वहीं, भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा ने कहा कि प्रेस भारत के लोकतंत्र का चौथा स्तंभ है और अभिमत को आकार देकर तथा जागरूकता पैदा कर राष्ट्र निर्माण में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है.

उन्होंने ट्वीट कर कहा, ‘इस विश्व प्रेस स्वतंत्रता दिवस पर मैं कोविड-19 के विभिन्न पहलुओं के बारे में अपनी जान जोखिम में डालकर जनता को जागरूक बना रहे हमारे मीडियाकर्मियों को नमन करता हूं.’

बता दें कि, यूनेस्को के आम सम्मेलन की सिफारिश के बाद, संयुक्त राष्ट्र महासभा द्वारा दिसंबर 1993 में विश्व प्रेस स्वतंत्रता दिवस घोषित किया गया था. तब से विंडहोक की घोषणा की वर्षगांठ 3 मई को दुनियाभर में विश्व प्रेस स्वतंत्रता दिवस के रूप में मनाया जाता है.

(समाचार एजेंसी भाषा से इनपुट के साथ)