Harish Rawat

अपनी पार्टी बनाएंगे, भाजपा के साथ सीटों के बंटवारे के लिए बातचीत को तैयार: अमरिंदर सिंह

कांग्रेस नेता और पंजाब कांग्रेस प्रभारी हरीश रावत ने अमरिंदर सिंह के एक नई राजनीतिक पार्टी बनाने और भाजपा से साथ सीट बंटवारे को लेकर तैयार होने की बात पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा है कि अगर कैप्टन भाजपा के साथ जाना चाहते हैं तो ऐसा कर सकते हैं. उन्हें ‘सर्वधर्म सम्भाव’ का प्रतीक माना जाता था. ऐसा लगता है कि उन्होंने अपने अंदर के ‘धर्मनिरपेक्ष अमरिंदर’ को मार दिया है.

पंजाब में चरणजीत सिंह चन्नी और नवजोत सिद्धू चुनाव मिलकर लड़ेंगे भी और जीतेंगे भी: हरीश रावत

वीडियो: कांग्रेस की पंजाब इकाई में गुटबाज़ी और पूर्व प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष नवजोत सिंह सिद्धू से तनातनी की वजह से बीते सितंबर माह में पंजाब के मुख्यमंत्री पद से अमरिंदर सिंह के इस्तीफ़ा देने के बाद चरणजीत सिंह चन्नी ने पंजाब के 27वें मुख्यमंत्री के रूप में शपथ ली. चन्नी पंजाब में मुख्यमंत्री बनने वाले दलित समुदाय के पहले व्यक्ति हैं. इस बीच सिद्धू ने भी प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष पद से इस्तीफ़ा दे दिया था. इन घटनाक्रमों पर पंजाब के इंचार्ज कांग्रेस नेता हरीश रावत से आरफ़ा ख़ानम शेरवानी की बातचीत.

उत्तराखंड के परिवहन मंत्री यशपाल आर्य, विधायक बेटे सहित भाजपा छोड़ कांग्रेस में शामिल

छह बार विधायक रहे उत्तराखंड के प्रमुख दलित नेता यशपाल आर्य 2007 से 2014 तक कांग्रेस की प्रदेश इकाई के अध्यक्ष रहने के साथ विधानसभा के पूर्व अध्यक्ष भी रहे हैं. 2017 के विधानसभा चुनाव से पहले वे भाजपा में शामिल हुए थे. अब अगले साल होने वाले विधानसभा चुनाव से पहले वे बेटे समेत कांग्रेस में लौटे हैं.

कांग्रेस ने कहा, राजनीति में ग़ुस्से की जगह नहीं, अमरिंदर सिंह ने पूछा- क्या अपमान करने की है

बीते दिनों पंजाब के मुख्यमंत्री पद से इस्तीफ़ा देने वाले कैप्टन अमरिंदर सिंह कांग्रेस प्रवक्ता सुप्रिया श्रीनेत की बृहस्पतिवार को की गई टिप्पणी का जवाब दे रहे थे, जिसमें श्रीनेत ने कहा था कि पार्टी के अंदर गुस्सा करने के लिए कोई जगह नहीं है. अमरिंदर द्वारा कांग्रेस नेता राहुल गांधी और प्रियंका गांधी को कथित तौर पर ‘अनुभवहीन’ बताए जाने पर प्रतिक्रिया देते हुए श्रीनेत ने यह बात कही थी.

दलित मुख्यमंत्री बनाकर क्या पंजाब जीत पाएगी कांग्रेस?

वीडियो: अमरिंदर सिंह के इस्तीफ़ा देने के बाद उनकी जगह कांग्रेस ने चरणजीत सिंह चन्नी को पंजाब का मुख्यमंत्री बनाया है. वह इस राज्य का मुख्यमंत्री बनने वाले दलित समुदाय के पहले व्यक्ति हैं. चन्नी अमरिंदर सरकार में तकनीकी शिक्षा मंत्री थे. वह रूपनगर ज़िले के चमकौर साहिब क्षेत्र से विधायक हैं. इस सियासी बदलाव पर चर्चा कर रही हैं आरफ़ा ख़ानम शेरवानी.

पंजाब में दलित समुदाय के व्यक्ति को मुख्यमंत्री बनाया जाना कांग्रेस का चुनावी हथकंडा: मायावती

बसपा सुप्रीमो मायावती ने कहा कि मीडिया के ज़रिये पता चला है कि पंजाब में आगामी विधानसभा चुनाव चरणजीत सिंह चन्नी के नेतृत्व में नहीं, बल्कि ग़ैर-दलित के नेतृत्व में ही लड़ा जाएगा, जिससे यह साफ़ ज़ाहिर है कि कांग्रेस को अब भी दलितों पर पूरा भरोसा नहीं है. ‘जातिवादी दल’ दलितों को जो भी दे रहे हैं, वह उनके वोट पाने के लिए और स्वार्थ सिद्धि के लिए है, न कि उनके उत्थान के लिए. दलितों को इससे सावधान रहना चाहिए.

पंजाब के मुख्यमंत्री बने चरणजीत सिंह चन्नी, रंधावा और सोनी ने उप-मुख्यमंत्री पद की शपथ ली

कांग्रेस विधायक दल के नेता चरणजीत सिंह चन्नी पंजाब का मुख्यमंत्री बनने वाले दलित समुदाय के पहले व्यक्ति हैं. चन्नी दलित सिख समुदाय से आते हैं और अमरिंदर सरकार में तकनीकी शिक्षा मंत्री थे. वह रूपनगर ज़िले के चमकौर साहिब विधानसभा क्षेत्र से विधायक हैं. वह इस क्षेत्र से साल 2007 में पहली बार विधायक बने और इसके बाद लगातार जीत दर्ज की.

कांग्रेस नेता चरणजीत सिंह चन्नी होंगे पंजाब के नए मुख्यमंत्री

चरणजीत सिंह चन्नी पंजाब के पहले दलित सिख मुख्यमंत्री होंगे. उन्हें सर्वसम्मति से राज्य कांग्रेस के विधायक दल का नेता चुना गया है. वह इससे पहले अमरिंदर सिंह सरकार में तकनीकी शिक्षा मंत्री थे. प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष नवजोत सिंह सिद्धू के बीच पिछले कई महीनों से चल रही तनातनी की पृष्ठभूमि में शनिवार को पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने अपना इस्तीफ़ा दे दिया था.

मैंने पंजाब के मुख्यमंत्री पद से इनकार किया, किसी सिख को संभालनी चाहिए ज़िम्मेदारी: अंबिका सोनी

कांग्रेस पार्टी में कलह को लेकर पूछे गए सवाल पर अंबिका सोनी ने कहा कि कोई कलह नहीं है. अगला मुख्यमंत्री कौन होगा, इसके जवाब में उन्होंने वही बात दोहराई कि पंजाब का मुख्यमंत्री सिख होना चाहिए. प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष नवजोत सिंह सिद्धू के बीच पिछले कई महीनों से चल रही तनातनी की पृष्ठभूमि में पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने अपना इस्तीफ़ा दे दिया है. 

पंजाब के मुख्यमंत्री पद से अमरिंदर सिंह ने इस्तीफ़ा दिया, कहा- अपमानित महसूस कर रहा हूं

प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष नवजोत सिंह सिद्धू के बीच पिछले कई महीनों से चल रही तनातनी की पृष्ठभूमि में पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने अपना इस्तीफ़ा सौंपा है. इस्तीफ़ा देते वक्त अमरिंदर सिंह ने कहा कि ये राजनीति होती है. ये फैसला जिस भी वजह से लिया गया, जितना फैसला था सब कांग्रेस अध्यक्ष ने लिया.

क्या पंजाब में कांग्रेस की अंदरूनी कलह से निपटने का कोई समाधान नहीं बचा है

नवजोत सिंह सिद्धू के क़रीबी चार मंत्री और तीस से अधिक कांग्रेस विधायकों की नई मांग है कि आगामी विधानसभा चुनाव से पहले अमरिंदर सिंह को मुख्यमंत्री पद से हटाया जाना चाहिए.

Amritsar: Punjab Chief Minister Capt Amrinder Singh with Punjab Minister Navjot Singh Sidhu talk to the media after visiting Guru Nanak Hospital, in Amritsar, Saturday, Oct 20, 2018. A speeding train ran over revellers watching fireworks during the Dussehra festival Friday, killing at least 60 people. (PTI Photo/Kamal Kishore)(PTI10_20_2018_000096B)

पंजाब कांग्रेस में बढ़ी खींचतान, कई मंत्रियों-विधायकों की अमरिंदर सिंह को हटाने की मांग

पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह पार्टी के ही प्रतिद्वंद्वी खेमे से खुले विद्रोह का सामना कर रहे हैं. चार मंत्रियों तृप्त राजिंदर सिंह बाजवा, सुखबिंदर सिंह सरकारिया, सुखजिंदर सिंह रंधावा और चरणजीत सिंह चन्नी और क़रीब 24 विधायकों ने मंगलवार को मुलाकात कर कहा कि अमरिंदर सिंह कुछ प्रमुख चुनावी वादों को पूरा करने में विफल रहे हैं.

मुख्यमंत्री की आपत्ति के बावजूद नवजोत सिंह सिद्धू पंजाब कांग्रेस के अध्यक्ष नियुक्त

इस फ़ैसले के साथ ही कांग्रेस पार्टी नेतृत्व ने मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह के विरोध की अनदेखी करते हुए नवजोत सिंह सिद्धू का समर्थन करने का स्पष्ट संकेत दे दिया है. पार्टी नेतृत्व को लगता है कि सिद्धू नई ऊर्जा और उत्साह के साथ पार्टी के प्रचार अभियान का नेतृत्व कर सकते हैं और अगले साल की शुरुआत में होने वाले विधानसभा चुनावों में पार्टी की जीत सुनिश्चित करने में मदद कर सकते हैं.

उत्तराखंड: आगे सीएम, पीछे सीएम, बोलो कितने सीएम

उत्तराखंड की स्थापना करने वाली भाजपा के माथे पर सबसे बड़ा दाग़ यह लगा है कि भारी बहुमत से सरकार चलाने के बावजूद उसने दस साल के शासन में राज्य पर सात मुख्यमंत्री थोप डाले. पार्टी की नाकामी यह भी है कि अब तक उसका कोई भी मुख्यमंत्री अपना कार्यकाल पूरा नहीं कर सका.

पुष्कर सिंह धामी ने उत्तराखंड के मुख्यमंत्री पद की शपथ ली

पुष्कर सिंह धामी बीते चार महीनों में उत्तराखंड भाजपा की ओर से चुने गए तीसरे मुख्यमंत्री हैं. 45 वर्षीय धामी राज्य के अब तक के सबसे युवा मुख्यमंत्री हैं. धामी के अलावा 11 मंत्रियों ने भी शपथ ली है. मंत्रिमंडल में सभी पुराने चेहरों को बरक़रार रखा गया है और एकमात्र बदलाव यही किया गया है कि सभी को कैबिनेट मंत्री का दर्जा दिया गया है. मंत्रिमंडल में अभी कोई भी राज्य मंत्री नहीं है.